मटिहानी सीट पर राज कुमार सिंह ने लहराया एलजेपी का परचम, जेडीयू कैंडिडेट बोगो सिंह को हराया

समय:2022-10-01 00:16:52स्रोत:संवेदनशीलता नेटवर्क लेखक:तोन्ग्लियाओ

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायारवि शंकर प्रसाद ने कहा- सस्ती टेक्नोलॉजी के जरिए भारत को $1 लाख करोड़ की डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने की कोशिश जरूरी******ने कहा कि को सस्ती प्रौद्योगिकी और समावेशी माहौल तैयार कर चार साल में भारत को एक लाख करोड़डॉलर की डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने में हमारी मदद करनी चाहिए।आईटी और आईटी आधारित सेवाओं, ई वाणिज्य, इलेक्टोनिक्स विनिर्माण, डिजिटल भुगतान और साइबर सुरक्षा जैसे क्षेत्रों में मौजूद अरबों डालर के अवसरों को प्रमुखता से रखते हुए उन्होंने कहा कि एक अरब डॉलर की डिजिटल अर्थव्यवस्था कोई बहुत लंबा चौड़ा दावा नहीं है। मुझे कोई संदेह नहीं है कि यह सात साल में एक लाख करोड़ डॉलर जाएगा। लेकिन मेरा विनम्र अनुरोध है कि सात साल तक इंतजार क्यों किया जाए। क्या हम यह 3-4 साल में कर सकते हैं?डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने पर आयोजित इस बैठक में नैस्कॉम के प्रेसिडेंट आर चंद्रशेखर, गूगल इंडिया के राजन आनंदन, विप्रो के रिशद प्रेमजी, इंडियन सेल्युलर एसोसिएशन के राष्टीय अध्यक्ष पंकज मोहिंद्रू, इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सुभो राय और हाइक मेसेंजर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी केविन भारती मिाल आदि शामिल है। प्रसाद ने कहा कि भारतीय आईटी क्षेत्र राजस्व 10 लाख करोड़ रुपए को पार कर गया है और निर्यात भी 7.5 लाख करोड़ रुपए को पार कर चुका है। देश को डिजिटल विकास के लिए अपना मॉडल बनाने की जरुरत है जो समावेशी हो। उन्होंने कहा, ऐसी प्रौद्योगिकी विकसित कीजिए जो सस्ती हो, ऐसा बुनियादी ढांचा विकसित कीजिए जो विकासोन्मुखी हो और ऐसा माहौल बनाइए जो समावेशी हो।

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाशेयर बाजार में तेज गिरावट, सेंसेक्स 426 अंक लुढ़का, निफ्टी 124 अंक टूटकर खुला******sensex वैश्विक बाजारों से कमजोरी के संकेतों के बीच विदेशी निधियों व खुदरा निवेशकों की चौतरफा बिकवाली से बुधवार को भारतीय शेयर बाजार में तेज गिरावट देखने को मिल रही है। सेंसेक्स खुलते ही 426 अंक लुढ़कर 56,890 अंक पर कारोबार कर रहा है। वहीं, निफ्टी 124 अंक टूटकर 17,078 अंक पर कारोबार कर रहा है। रिलायंस, एचसीएल, एसबीआई समेत सभी हेवीवेट शेयरों में बिकवाली देखने को मिल रही है।सेंसेक्स में शामिल सिर्फ तीन शेयर हरे निशान में कारोबार कर रहे हैं। जिन कंपनियों के शेयरों में तेजी हैं वे SUNPHARMA, NTPC और HINDUNILVR है। इसके अलावा एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी, आईटीसी, विप्रो, मारुति समेत सभी बड़ी कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखने को मिल रही है।बुधवार को शुरुआती कारोबार में सिर्फ दो सेक्टोरियल इंडेक्स मीडिया और मेटल में तेजी देखने को मिल रही है। बाकी सभी सेक्टोरियल इंडेक्स गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। आईटी इंडेक्स में 1.04 फीसदी की गिरावट देखी जा रही है और ऑटो शेयर 0.88 फीसदी की गिरावट के साथा कारोबार कर रहे हैं। बैंकिंग शेयर लाल निशान में हैं और फाइनेंशियल सर्विसेज में भी करीब एक फीसदी की कमजोरी देखी जा रही है।शेयर बाजार में दो दिन की गिरावट के बाद मंगलवार को जोरदार तेजी दर्ज की गई थी। सेंसेक्स करीब 777 अंक उछलकर बंद हुआ। वैश्विक बाजारों में तेजी के बीच ऊर्जा, वाहन और उपभोग से जुड़े शेयरों में लिवाली से बाजार को तेजी लौटी थी।मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाकानपुर में मदरसे के 13 छात्र कोविड-19 से संक्रमित मिले, जिले में अब तक 107 लोग पॉजिटिव****** उत्तर प्रदेश के सबसे अधिक आबादी वाले जिले कानपुर में कोरोना संकट दिनों दिन गहराता जा रहा है। यहां पर एक मदरसे के 13 छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित मिले हैं। इन नए संक्रमितों के तार भी तबलीगी जमात के लोगों के साथ जुड़ रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये छात्र कोरोना वायरस से संक्रमित तबलीगी जमात के लोगों के साथ कथित तौर पर संपर्क में आए थे। इसके साथ कानपुर में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढकर 107 हो गये हैं।मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.अशोक शुक्ला ने शुक्रवार को संवाददाताओं को बताया कि बृहस्पतिवार को 50 नमूनों की जांच की गई जिनमें से 13 संक्रमित निकले। ये नमूने उन लोगों के हैं जो कुली बाजार क्षेत्र में रहते हैं, यह हॉटस्पॉट क्षेत्र है। यहीं के 30 लोग पहले संक्रमित पाये गये थे। शुक्ला ने बताया कि इन मरीजों को पृथक कर दिया गया था। अब उन्हें सरकारी अस्पतालों के कोविड—19 पृथक वार्डों में भर्ती कराया जा रहा है ।उन्होंने बताया कि सभी मरीजों के संपर्क के कौन कौन अन्य लोग आये, उनके बारे में पता लगाया जा रहा है । कानपुर में कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में आकर अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है जबकि सात लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं ।

मटिहानी सीट पर राज कुमार सिंह ने लहराया एलजेपी का परचम, जेडीयू कैंडिडेट बोगो सिंह को हराया

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायारिजर्व बैंक ने नियम के उल्लंघन पर चलाया चाबुक, 4 सहकारी बैंकों पर जुर्माना लगाया******RBIHighlightsमुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक ने नियामकीय अनुपालन में खामियों को लेकर चार सहकारी बैंकों पर कुल चार लाख रुपये का जुर्माना लगाया है। केंद्रीय बैंक की ओर से जारी चार अलग-अलग बयानों के अनुसार, यह जुर्माना अनुपालन की खामियों के लिए लगाया गया है। इसका मकसद बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों के साथ किए गए लेनदेन या करार की वैधता पर सवाल खड़ा करना नहीं है।रिजर्व बैंक ने महाराष्ट्र के अंदरसुल अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक पर डेढ़ लाख रुपये तथा महाराष्ट्र के अहमदपुर स्थित महेश अर्बन कोऑपरेटिव बैंक पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। महाराष्ट्र के नांदेड़ स्थि नांदेड़ मर्चेंट कोऑपरेटिव बैंक पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इसके अलावा मध्य प्रदेश के शहडोल में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है।भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सोमवार को कहा कि बीएनपी परिबा इंडिया फाइनेंस, स्विस लीजिंग एंड फाइनेंस और अवेलेबल फाइनेंस समेत 22 गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) ने अपने पंजीकरण प्रमाणपत्र ‘सरेंडर’ कर दिए हैं। इसके साथ ही केंद्रीय बैंक ने इन एनबीएफसी पंजीकरण प्रमाणपत्र (सीओआर) रद्द कर दिया है। आरबीआई ने एक बयान में कहा कि सीओआर रद्द होने से ये 22 संस्थाएं गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) के रूप में कारोबार नहीं कर सकेंगी।मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायालद्दाख में 14000 फीट की ऊंचाई पर 50 हजार जवान! जानें, स्ट्राइक कोर के 'पर्वत प्रहार' की खास बातें******सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे ने आज LAC पर पर्वत प्रहार (PARVAT PRAHAR) अभ्यास देखा और उन्हें ग्राउंड पर कमांडरों द्वारा ऑपरेशन तैयारियों के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने अधिकारियों और सैनिकों के साथ बातचीत की और उनकी दृढ़ता और पेशेवर मानकों के लिए उनकी सराहना की। ये एक्साइज़ भारतीय सेना की वन स्ट्राइक कोर ने की है जिसके कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल गजेंद्र जोशी है। स्ट्राइक कोर का मतलब है कि अगर कहीं पर भी चीन या पाकिस्तान हरकत करता है तो सबसे पहले ये अंदर घुसके उसका सफ़ाया करेंगे। इस दौरान स्ट्राइक कोर से लेकर माउंटेन स्ट्राइक कोर की लद्दाख वाली पर्वत प्रहार की तैयारी देखने को मिली। भारतीय सेना के चीफ़ ने आधुनिक हथियारों से लेकर गोगरा तक की हलचल देखी। इंडिया TV को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक़ ये 20 दिन चलने वाली पर्वत प्रहार नाम की भारतीय सेना की एक्सरसाइज है। इसका उद्देश्य है भारतीय सेना की स्ट्राइक कोर को माउंटेन स्ट्राइक कोर के तौर पर कन्वर्ट करना।भारतीय सेना ने सोचे समझे तरीक़े से रणनीतिक तौर पर राजस्थान और आस-पास के इलाकों में जो फौज के पूरे दस्ते थे उनको पहली बटालियन ब्रिगेड और फिर डिविज़न लेवल पर लद्दाख के इलाकों मे तैनात किया और फिर सो मोरी से लेकर ऊंची-ऊंची पहाड़ियों पर इनकी तैनाती की।इसमें भारतीय सेना के स्ट्राइक कोर के जवान पूरी तरह से शामिल थे और कुल मिलाकर 56 हज़ार जवानों की ये एक्सरसाइज थी। इसमें भारतीय सेना के स्ट्राइक कोर के अलावा चौधरी कोर के तीन डिवीज़न के जवान भी शामिल थे। इस अभ्यास में सो मोरी से लेकर पेंगोंग सो तक की नाले और दरियाओं के साथ-साथ जो नाली हैं उनके ऊपर जो ब्रिज बने हैं उनके ऊपर भी एक्सरसाइज की गई। इंडिया TV को इस बात की भी जानकारी मिली है कि भारतीय सेना के चीफ़ जनरल मनोज पांडे और नॉर्दन आर्मी के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल द्विवेदी को इस पूरी एक्सरसाइज के बारे में जानकारी दी गई। यहां तक कि चीन के ऑर्डर ऑफ़ बैटल को समझाते हुए बताया गया कि रणनीतिक तौर पर किस तरह से भारतीय सेना की अचूक तैयारी है।इस समय भारतीय सेना के तकरीबन 50 हज़ार के लगभग सैनिकों की तैनाती लद्दाख के लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल और उसके आस पास है। ये चीन की चालबाज़ी के बाद पिछले दो सालों से हुआ है। हालांकि चीन-डीसइंगेजमेंट प्रक्रिया के तहत कार्य कर रहा है, लेकिन उसके बावजूद भी उस पर विश्वास करना बेहद मुश्किल है। इसलिए सोचे समझे तरीक़े से भारतीय सेना ने अपने स्ट्राइक कोर और माउंटेन स्ट्राइक कोर के जवानों को लद्दाख़ और उसके आस पास के इलाकों में पूरी आधुनिक साजो सामान के साथ तैयारी करवाई है। चीन अगर अपने रूटों का निर्माण कर रहा है तो भारत ने भी अपने रोड और अपने हथियारों को आधुनिक बनाया है। इसीलिए इस वक्त वहां पर आधुनिक तोपों से लेकर और भी तैनाती की गई है।कुल मिलाकर 50000 सेना के अधिकारी और जवानों सहित सभी 14000 फीट से अधिक ऊंचाई पर एक्सरसाइज के लिए मौजूद थे। ये पहली बार है जब लद्दाख में इतना बड़ा सैन्य अभ्यास हुआ है। भारतीय सेना के 1 स्ट्राइक कोर का अभ्यास जो माउंटेन स्ट्राइक कोर के रूप में काम करता है।मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाकोरोना वायरस: UP के इन 3 जिलों में सतर्कता बढ़ाने के निर्देश, 24 घंटे में आए 1248 नए मामले****** यूपी के अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने आज गुरुवार (9 जुलाई) को बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि संक्रमण का प्रसार कहीं न कहीं लापरवाही से होता है, इसलिए कार्यालयों में सभी अधिकारियों-कर्मचारियों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए। इसके साथ ही निरंतर हाथ धुलना भी आवश्यक है, ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।अवस्थी ने आगे बताया कि ने इन जनपदों के कोविड अस्पतालों में बेडों की संख्या बढ़ाने के भी निर्देश दिए हैं। जनपद कानपुर नगर, झांसी व वाराणसी में विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीमों को भेजने तथा वहां पर सतर्कता बढ़ाने के निर्देश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिए गए हैं।यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि अब तक धारा 188 के अंतर्गत 87,147 FIR दर्ज़ की गई हैं। 2,22,854 लोगों को नामजद किया गया है और 61,619 वाहन ज़ब्त किए गए हैं। कुल 41.65 करोड़ रुपए की वसूली की गई है। अब तक उद्योगों द्वारा 33,81,000 लोगों को 1000-1000 रु. बांटा गया है। अब तक कुल 338 करोड़ रुपए की राशि बांटी गई है।यूपी के प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि उत्तर प्रदेश मेंपिछले 24 घंटों में के 1248 नए मामले सामने आए हैं। एक्टिव केस की कुल संख्या 10373 हो गई है। पूरी तरह ठीक होकर डिस्चार्ज लोगों की संख्या 21127 हो गई है। अब तक कोरोना से 862 लोगों की मौत हुई है। कल (8 जुलाई) प्रदेश में 32,826 सैंपल्स की जांच की गई। अब तक प्रदेश में कुल 10,36,106 सैंपल्स की जांच की जा चुकी है। गोंडा, मुरादाबाद, बरेली, मिर्ज़ापुर, वाराणसी और अलीगढ़ में राज्य सरकार की नई RT-PCR प्रयोगशालाएं जल्द ही कार्यरत हो जाएंगी।

मटिहानी सीट पर राज कुमार सिंह ने लहराया एलजेपी का परचम, जेडीयू कैंडिडेट बोगो सिंह को हराया

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाTripura News: जेपी नड्डा की रैली में शामिल होने जा रहे भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला, 40 घायल****** पश्चिम त्रिपुरा जिले के खुमुलवंग में सोमवार को BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की रैली में शामिल होने जा रहे पार्टी के कम से कम 40 कार्यकर्ता ‘‘उपद्रवियों’’ के हमले में घायल हो गए। त्रिपुरा(Tripura) के मुख्यमंत्री(Chief Minister) माणिक साहा(Manik Saha) ने मंगलवार को कहा कि पार्टी के घायल कार्यकर्ताओं में से 25 को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों में एक की हालत गंभीर है। उन्होंने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया।जेपी नड्डा(JP Nadda) ने इस साल आगामी ग्राम समिति (ग्राम पंचायत) चुनाव और अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव(Assembly election) के लिए पार्टी के अभियान की शुरुआत करते हुए यह रैली की थी। महानिरीक्षक (कानून और व्यवस्था) अरिंदम नाथ ने मंगलवार को बताया, “पश्चिम त्रिपुरा और सिपाहीजाला जिलों में हमलों की सात घटनाओं में भाजपा के 40 कार्यकर्ता घायल हो गए हैं। वे त्रिपुरा जनजातीय क्षेत्र स्वायत्त जिला परिषद (TTAADC) के मुख्यालय खुमुलवंग में जेपी नड्डा की रैली में भाग लेने के लिए जा रहे थे।”इंस्पेक्टर जनरल(IG) अरिंदम नाथ ने कहा कि अब तक पंद्रह उपद्रवियों की पहचान की जा चुकी है और उन्हें कानून के तहत नोटिस जारी किया गया है। मुख्यमंत्री साहा ने हमलों की निंदा करते हुए कहा कि ऐसी घटनाओं को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने पुलिस को हमलों में शामिल सभी लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश दिया।मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायादाम बढ़ाकर फंसी TV और मोबाइल कंपनियां, अब कीमतों नहीं बल्कि इसमें कर रही हैं कटौती******LEDHighlightsभारत में इस समय हर जगह महंगाई का ही रोना है। पेट्रोल डीजल से लेकर खाने पीने की वस्तुओं की महंगाई ने आम इंसान को तोड़ रखा है। वहीं इनपुट कॉस्ट के नाम पर मोबाइल, टीवी और फ्रिज बनाने वाली कंपनियों इसी साल दो से तीन बार कीमतें बढ़ा चुकी हैं। लेकिन भारतीय ग्राहकों पर कीमत का यह वार अब उन्हीं पर उलटा पड़ता दिख रहा है।एक अंग्रेजी अखबार की खबर के अनुसार महंगाई के कारण इलेक्ट्रॉनिक सामान की सेल में भयंकर गिरावट आई है। लेकिन इसके बावजूद कंपनियां अभी कीमत घटाने को तैयार नहीं हैं। बल्कि अब कंपनियों प्रॉडक्शन कम करने लगी हैं। कंपनियों ने जुलाई तक प्रॉडक्शन टारगेट को 10 फीसदी कम कर दिया है।प्राप्त जानकरी के अनुसार सभी मोबाइल कंपनियों ने अपने उत्पादन योजना में बदलाव किया है। वहीं कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक कंपनियां जरूरत के मुताबिक ही प्रोडक्शन कर रही हैं। कंपनियों के अनुसार सबसे ज्यादा डिमांड ​बजट और मिड रेंज के प्रोडक्ट की घटी है। बता दें कि यही वह प्राइज सेगमेंट है जिसमें गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार आते हैं और महंगाई की सबसे बुरी मार इन्हीं पर पड़ी है।कंपनियों के अनुसार कच्चे माल की कमी भी इसका एक प्रमुख कारण है। रूस यूक्रेन संकट और चीन में लॉकडाउन के कारण सप्लाई चेन बुरी तरह प्रभावित है। शंघाई में लॉकडाउन के कारण बहुत से प्रोडक्ट के कंपोनेंट चीन से आ नहीं पा रहे हैं।

मटिहानी सीट पर राज कुमार सिंह ने लहराया एलजेपी का परचम, जेडीयू कैंडिडेट बोगो सिंह को हराया

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाNancy Pelosi In Taiwan: ऐसे ही ताइवान नहीं पहुंची नैंसी पेलोसी, अमेरिका के 24 फाइटर जेट दे रहे थे सिक्योरिटी कवर******Highlights अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स की स्पीकर नैंसी पेलोसी अब ताइवान की राजधानी ताईपेई पहुंच गई हैं। चीन ने बहुत कोशिश की कि वह नैंसी पेलोसी की यह यात्रा रोक दे। इसके लिए उसने कई तरह की धमकियां भी दीं, लेकिन अमेरिका अपने कहे पर अटल रहा और आखिर कार उसने नैंसी पेलोसी को ताईवान की धरती पर सही सलामत उतार दिया। हालांकि , अमेरिकी ने चीनी धमकियों को हल्के में नहीं लिया था, उसने नैंसी पेलोसी की सुरक्षा का पूरा इंतजाम किया था। आपको जानकर हैरानी होगी की नैंसी पेलोसी के जहाज को अमेरिकी नेवी और एयरफोर्स के 24 एडवांस्ड फाइटर जेट्स पूरे रास्ते एस्कॉर्ट कर रहे थे, ताकि अगर चीन की तरफ से कोई भी हरकत हो तो उसे मुंहतोड़ जवाब दिया जा सके।आपको बता दें, अमेरिका के 24 जेट्स को सुरक्षा में इसलिए लगना पड़ा था, क्योंकि पिछले दिनों ही चीन ने अमेरिका को धमकी देते हुए कहा था कि अगर नैंसी पेलोसी का प्लेन ताइवान के करीब आया तो वह उसे उड़ा भी सकता है। चीन ने अमेरिका को यह धमकी अपने सरकारी अखबरा ग्लोबल टाइम्स के जरिए दी थी।चीन ने नैंसी पेलोसी के ताइवान पहुंचने के बाद अब फिर गीदड़ भभकी दी है। उसने कहा है कि वह इसके जवाब में टारगेटेड मिलिट्री एक्शन केरगा। हालांकि, चीन ने फिलहाल यह साफ नहीं किया है कि वह किन टारगेट्स पर मिलिट्री एक्शन की बात कर रहा है। आपको बता दें, इस वक्त ताइवान को लेकर अमेरिका और चीन दोनों में ठनी हुई है। तीनों देशों ने अपने-अपने सेनाओं को जंग के लिए तैयार रहने को कह दिया है।पेलोसी और उनके डेलिगेशन को ले जाने वाला प्लेन मंगलवार को मलेशिया से रवाना हुआ। मलेशिया में उन्होंने प्रधानमंत्री इस्माइल साबरी याकूब के साथ लंच किया। ताइवान के विदेश मंत्रालय ने इस बारे में टिप्पणी करने से इनकार किया था कि क्या पेलोसी यात्रा करेंगी। ताइवान में पेलोसी के भव्य स्वागत की तैयारी की गई है और ताइपे में 2 इमारतों पर LED डिस्प्ले पर स्वागत शब्द लिखे गए हैं जिनमें प्रतिष्ठित ताइपे 101 इमारत भी शामिल है। स्वागत शब्दों में लिखा है, ‘ताइवान में आपका स्वागत है, स्पीकर पेलोसी।’

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाIND v WI: कप्तान रोहित ने बताई पहले T20I में श्रेयस अय्यर के बाहर बैठने के पीछे की वजह******कोलकाता।श्रेयस अय्यर भले ही आईपीएल की मेगा नीलामी में तीसरे सबसे महंगे बिके खिलाड़ी हों लेकिन भारत की टी20 टीम में जगह बनाने के लिये उन्हें हरफनमौला प्रदर्शन करना होगा क्योंकि कप्तान रोहित शर्मा के अनुसार टीम को मध्यक्रम में इसी की जरूरत है। श्रेयस के लिये बुधवार का दिन मिला जुला रहा। कोलकाता नाइट राइडर्स ने उन्हें आईपीएल में अपनी टीम का कप्तान बनाया लेकिन शाम को उन्हें पता चला कि वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 मैच में भारतीय टीम में उनके लिये जगह नहीं है।रोहित ने दूसरे मैच में छह विकेट से मिली जीत के बाद कहा, ‘‘श्रेयस अय्यर जैसे खिलाड़ी को बाहर बैठना पड़ रहा है। यह बहुत कठिन है लेकिन टीम की जरूरत के हिसाब से फैसला लिया गया। हमें मध्यक्रम में हरफनमौला की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘टीम में इस तरह की प्रतिस्पर्धा देखकर अच्छा लग रहा है।’’ भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘श्रेयस को हमने बताया है कि विश्व कप से पहले टीम को एक हरफनमौला की जरूरत है। वे सभी चतुर और पेशेवर खिलाड़ी हैं और समझते हैं कि टीम सर्वोपरि है।’’उन्होंने कहा, ‘‘अंतिम एकादश का चयन कई मानदंडों को ध्यान में रखकर किया जाता है । विरोधी टीम , हालात, मैदान का आकार वगैरह । कई बार बाहर होने वाले खिलाड़ियों के लिये काफी कठिन होता है लेकिन हम स्पष्ट संदेश दे रहे हैं। हमें टीम को सबसे पहले रखना है।’’रोहित ने मैच से पहले भी कहा था कि आईपीएल के समीकरणों के आधार पर वह टीम नहीं बनायेंगे। उन्होंने ऐसा ही किया जब श्रेयस (12.25 करोड़), शार्दुल ठाकुर (10.75 करोड़) और आवेश खान (10 करोड़) को बाहर बैठना पड़ा। वहीं, आईपीएल टीमों द्वारा रिटेन किये गए रूतुराज गायकवाड़ (छह करोड़ रूपये) और मोहम्मद सिराज (सात करोड़) भी बाहर रहे। दीपक हुड्डा पौने छह करोड़ और कुलदीप यादव दो करोड़ रूपये में बिके हैं यानी भारतीय टीम की रिजर्व बेंच की आईपीएल में कीमत 50 करोड़ रूपये से अधिक थी।मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायालोकसभा सचिवालय का सफाईकर्मी भी निकला Covid-19 पॉजिटिव, सफदरगंज अस्‍पताल में कराया गया भर्ती******राष्‍ट्रपति भवन में एक सफाईकर्मी में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि के बाद अब का भी एक सफाईकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। सूत्रों ने बताया कि लोकसभा सचिवालय में कार्यरत एक सफाईकर्मी में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि हुई है, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया।सूत्रों के मुताबिक संक्रमित वह व्यक्ति पिछले कई दिनों से कार्यालय नहीं गया था। उसे बुखार, खांसी और सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। जांच के बाद वह कोविड-19 से संक्रमित पाया गया। उन्होंने बताया कि उसे सफदरजंग अस्पताल के विशेष वार्ड में भर्ती कराया गया है। उसके परिवार को 11 सदस्यों की भी कोरोना वायरस की जांच की गई है और परिणाम प्रतिक्षित हैं। सूत्रों ने बताया कि स्थानीय निकाय अधिकारियों ने मध्य दिल्ली स्थित उसके घर को सील कर दिया है। राष्‍ट्रपति भवन में एक सफाईकर्मी का रिश्‍तेदार जांच में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए जाने के बाद राष्ट्रपति संपदा क्षेत्र में 125 से अधिक परिवार ऐहतियात के तौर पर होम क्‍वॉरन्‍टीन में चले गए हैं।अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि राष्ट्रपति संपदा क्षेत्र में रहने वाले एक सफाई कर्मी के रिश्तेदार को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया था। यह कदम तब उठाया गया जब सफाई कर्मी की मां की कुछ दिनों पहले कोविड-19 संक्रमण के कारण बी एल कपूर अस्पताल में मौत हो गई।एक अधिकारी ने बताया कि उसकी मां राष्ट्रपति संपदा क्षेत्र से बाहर रहती थी। जांच में उसके पॉजिटिव आने के बाद, उसके सभी रिश्तेदारों को पृथकवास में भेजा गया था और जांच की गई थी। रिश्तेदारों की जांच रिपोर्ट निगेटिव थी। उन्होंने बताया कि सफाई कर्मी की मां की मौत के बाद पहले तकरीबन 25 परिवार होम क्‍वॉरन्‍टीन में चले गए। अब करीब 100 और परिवार एहतियात के तौर पर होम क्‍वॉरन्‍टीन में चले गए हैं।

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाRaksha Bandhan 2022: राखी की थाली में इन चीज़ों को शामिल करने से मिलता है माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद, धन-संपत्ति से भरा रहेगा भाइयों का घर******Highlightsभाई-बहन के अटूट प्यार और विश्वास का त्यौहार रक्षाबंधन इस बार 22 अगस्त को मनाया जाएगा। सभी घरों में राखी सेलिब्रेशन को लेकर तैयारियां जोरों पर हैं। रक्षाबंधन के दिन बहनें अपने भाइयों से अपनी रक्षा का वचन मांग कर उन्हें राखी बांधती हैं और उनकी आरती उतारती हैं। राखी की थाली को बहुत शुभ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि राखी की थाली को सही तरीके से सजाकर राखी बांधी जाएं तो भाई को सुखी जीवन और दीर्घ आयु की प्राप्ति होती है साथ ही इन कुछ चीज़ों को रखने से भाई पर माँ लक्ष्मी का आशीर्वाद बना रहता है। ऐसे में आइए जानते हैं रक्षाबंधन के दिन राखी की थाली में कौन सी चीज़े चीजें रखनी चाहिए।जिस थाली में आप राखी का सब सामान रखने वाले हैं अगर वो थाली चांदी की ही तो इससे माँ लक्ष्मी बेहद प्रसन्न होती हैं। चांदी को बेहद शुभ माना गया है। चांदी की थाली में राखी का सामान रखने से आपके भाई के जीवन में उजाला होगा और उसका घर धन-धान्य से भरा रहेगा।बिना कलश के कोई व्रत, पूजा संभव नहीं होता है। मान्यता है कि कलश में जीवन का अमृत होता है। कलश जीवन का पोषण करता है और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार मां लक्ष्मी अपने हाथ में कलश रखती हैं। इसलिए राखी की थाली में कलश का होना अनिवार्य है।दीया की तुलना माँ लक्ष्मी से की गई है, इसलिए थाली में दीया जरूर होना चाहिए।। दीये से प्रकाश आता है और प्रकाश जीवन में सकारात्मकता लाता है। दीये को आनंद और खुशी का प्रतीक माना जाता है।राखी रेशम का धागा ही नहीं होता बल्कि दो पवित्र अटूट रिश्तों को दर्शाता है। राखी का धागा उस वादे की भी याद दिलाता है। जिसे एक भाई अपनी बहन की रक्षा करने के लिए करता है।राखी की थाली में चंदन ज़रूर होना चाहिए। चंदन नकारात्मकता को दूर करता है। रक्षाबंधन के दिन अपने भाई को अगर आप चंदन का तिलक लगाती हैं तो वो बेहद शुभ होता है। हिन्दू धर्म में तिलक को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है। अगर आप भाई के माथे पर तिलक लगाती हैं तो मां लक्ष्‍मी की का आशीर्वाद सदा आपके भाई पर बना रहता है।मिठाई खुशी का प्रतीक होती है। इसे सबसे पहले मां लक्ष्मी को भोग लगाया जाता है फिर आशीर्वाद के रूप में सभी को बांटा जाता है।येन बद्धो बलि राजा,दानवेन्द्रो महाबलः ।तेन त्वाम प्रति बच्चामि रक्षे, मा चल मा चल।मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाBihar flood: बिहार सरकार ने केंद्र से मांगी 7,636 करोड़ रुपये की मदद******बिहार में आई से हुए नुकसान की भरपाई के लिए बिहार सरकार ने केंद्र सरकार से 7,636 करोड़ रुपये की मदद मांगी है। इससे संबंधित पूर्ण ब्योरा केंद्र सरकार को सोमवार को भेजा गया है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यहां सेामवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा, "हमने व्यावहारिक रूप से नियम एवं परंपराओं के आधार पर केंद्र सरकार से सीमित राशि की मांग की है।" उन्होंने कहा, "राज्य सकरका ने आपदा पीड़ितों के बीच राहत वितरण के लिए अपने खजाने से 2,451 करोड़ रुपये अतिरिक्त उपलब्ध कराया था। व्यावहारिक नजरिया अपनाते हए केंद्र सरकार से 7,636 करोड़ रुपये की आशा प्रकट की गई है, जो मिलना चाहिए।"मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में बाढ़ से बहुत नुकसान हुआ है। राज्य के 19 जिलों में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हुई, जहां 187 प्रखंडों के 2371 पंचायतों की एक करोड़ 71 लाख 64 हजार की आबादी प्रभावित हुई। राज्य सरकार की तरफ से युद्धस्तर पर राहत एवं बचाव कार्य चलाए गए। उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से लोगों को सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया, लोगों के लिए राहत शिविरों का संचालन किया गया और सामुदायिक रसोई की व्यवस्था की गई। लोगों के बीच भोजन के पॉकेट और सूखा राशन वितरित किए गए। बाढ़ प्रभावित परिवारों को प्रति परिवार छह हजार रुपये का नगद अनुदान आरटीजीएस के माध्यम से दिया जा रहा है, अब तक 13 लाख परिवारों को अनुदान दिया जा चुका है।नीतीश कुमार ने दावा करते हुए कहा, "अन्य वर्षो की तुलना में इस वर्ष काफी काम हुआ है। बड़े पैमाने पर काम हो रहा है। पुनर्वास और जीर्णोद्धार का कार्य भी तेजी से चल रहा है। प्रधानमंत्री जी ने भी 26 अगस्त को बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया था, साथ ही पूर्णिया में बैठक भी की थी।" उन्होंने कहा कि बाढ़ से जिनके मकान को नुकसान पहुंचा, उन्हें भी अनुदान दिया जाएगा।

मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाZakir Naik: सरकार ने ‘इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन’ पर प्रतिबंध पांच साल के लिए बढ़ाया******Highlightsकेंद्र सरकार ने इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक के नेतृत्व वाले इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) पर लगाए गए प्रतिबंध को सोमवार को पांच साल के लिए बढ़ा दिया। नाइक वर्तमान में मलेशिया में रह रहा है। आईआरएफ को पहली बार 17 नवंबर 2016 को केंद्र सरकार द्वारा गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून, 1967 (1967 का 37) के तहत एक गैरकानूनी संगठन घोषित किया गया था।केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा कि आईआरएफ उन गतिविधियों में शामिल है, जो देश की सुरक्षा के लिए हानिकारक हैं और जिनमें शांति और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने तथा देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को बिगाड़ने की क्षमता है।गृह मंत्रालय ने कहा कि नाइक द्वारा दिए गए बयान और भाषण आपत्तिजनक और विध्वंसक हैं तथा उनके माध्यम से वह धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी और नफरत को बढ़ावा दे रहा है। नाइक भारत और विदेशों में एक खास धर्म के युवाओं को आतंकवादी कृत्य करने के लिए प्रेरित कर रहा है।मंत्रालय ने कहा कि नाइक अंतरराष्ट्रीय उपग्रह टीवी नेटवर्क, इंटरनेट, प्रिंट और सोशल मीडिया के माध्यम से दुनिया भर में लाखों लोगों के लिए कट्टरपंथी बयान और भाषण देता है। गृह मंत्रालय ने कहा कि इन सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए उसने यूएपीए के तहत आईआरएफ पर लगाए गए प्रतिबंध को और पांच साल के लिए बढ़ाने का फैसला किया है।मटिहानीसीटपरराजकुमारसिंहनेलहरायाएलजेपीकापरचमजेडीयूकैंडिडेटबोगोसिंहकोहरायाReview: स्टीलबर्ड के SA-2 हेलमेट में 2-इन-1 फीचर, स्टाइल और सेफ्टी भी लेकिन क्या है यह पैसा वसूल******SteelbirdHighlights स्टीलबर्ड हाई-टेक इंडिया ने 2-इन-1 हेलमेट, एसए-2 लॉन्च किया है। यह 2-इन-1 हेलमेट है जिसे कंपनी ने इसे बदलते मौसम की जरूरत को देखते हुए बनाया है। यह हेलमेट विंटर पैडिंग लाइनर के साथ आता है जो आपको सर्दियों में राइडिंग के दौरान गर्म रखेगा। वहीं, हेलमेटका डिटेचेबल वाटर प्रूफ नेकपैड जिप के साथ जो आपको ठंड में बाहरी हवा से सुरक्षा देता है। आप इसके आसानी से अलग कर सकते हैं।आप इसके इंटीरियर को मौसम के अनुसार बदलने सकते हैं। आइए जानते हैं कि यह हेलमेट फीचर, स्टाइल, सेफ्टी और वैल्यू फॉर मनी के पैमाने पर कहां फिट बैठती है।यह हेलमेट एक बॉक्स के अंदर आपको ब्लैक कलर के बैग में मिलता है। इसका लुक काफी ट्रेंडी और स्टाइलिश है। खास बात यह है कि यह हेलमेट सिर पर काफी बैलेंस्ड लगता है। इस हेलमेट का लुक पहली नजर में काफी शानदार अपीलिंग लगता है, जो आपको पसंद आएगा। यह हेलमेट 4 वैरिएंट्स में आता है। हमने रेड/ब्लैक वाले कलर वैरिएंट का रिव्यू किया है। इस हेलमेट पर किया गया मैट फिनिश आपको देखने में काफी प्रीमियम फील देगा। यह हेलमेट तीन साइज में आता है। इसमें मेडियम, लार्ज और एक्सट्रालार्ज शामिल हैं।हेलमेट के अंदर इस्तेमाल किया गया मेटेरियल आला दर्जे का है। इसमें लगा विंटर पैडिंग लाइनर बेहद गर्म और मुलायम ऊनी कपड़े से बना है। वहीं, डिटेचेबल वाटर प्रूफ नेकपैडगाल पैड जिप के साथ आता है। यह आपको ठंड के समय में बाहरी हवा से सुरक्षा देता है। आप अपनी जरूरत के अनुसार इसे कभी भी हटा सकते हैं। यह हेलमेट सभी मौसमों के लिए उपयुक्त है। इसलिए गर्मी के मौसम के अनुसार भी पैडिंग को बदला जा सकता है जो हेलमेट के साथ ही आता है। एंटी-फॉग शील्ड के साथ लगे पॉलीकार्बोनेट (पीसी) एंटी-स्क्रैच कोटेड विजर, कोहरे में गाड़ी चलाने वाले को सर्दियों के दौरान दुर्घटनाओं के जोखिम को कम करता है।इस हेलमेट में लगा विंटर पैडिंग और डिटेचेबल वाटर प्रूफ नेकपैड इसे आम हेलमेट से अलग बनाता है। इसके साथ ही इसकी फिटिंग काफी बेहतरीन है। इसके अलावा इसका लुक काफी प्रीमियम फील देता है।कंपनी के अनुसार, इसकी कीमत 4499 रुपये है। कंपनी के अनुसार यह हेलमेट स्टीलबर्ड के सभी आउटलेट पर बिक्री के लिए उपलब्ध है।स्टीलबर्ड SA-2 हेलमेट अनिवार्य रूप से चेहरे को कवर करने और बाइक राइडिंग के दौरान बेहतर अनुभव देता है। हेलमेट की विजिबिलिटी यानी दृश्यता की बात करें तो शहरी सड़कों पर ड्राइविंग के दौरान दिन के समय काफी अच्छी तरह से देख सकते हैं। इतना ही नहीं, हेलमेट का वाइजर इस तरह बनाया गया है कि आप आसानी से साइड में भी देख सकते हैं, जो कि आमतौर पर दूसरे हेलमेट्स में परेशानी आती है। हालांकि, इसका वजन थोड़ा निराश करता है। हल्के हेलमेट चाहने वालों को यह निराश कर सकता है। वैल्यू फॉर मनी के लिहाज से भी यह थोड़ी महंगी लगती है।

सम्बंधित जानकारी
गर्म सामग्री