मार्च में देश का निर्यात 11 प्रतिशत बढ़ा, व्यापार घाटा हुआ कम

समय:2022-09-30 23:12:23स्रोत:संवेदनशीलता नेटवर्क लेखक:होतान क्षेत्र

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमUnlock 4.0: 7 सितंबर से मेट्रो सेवा शुरू, 30 सितंबर तक स्कूल-कॉलेज रहेंगे बंद, ये हैं नई गाइडलाइंस******. केंद्र सरकार ने Unlock 4.0 की गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। इन गाइडलाइंस के अनुसार,स्कूल-कॉलेज 30 सितंबर तक बंद रखने का फैसला किया गया है।9वीं से 12वीं कक्षा के छात्रों को स्कूल विजिट की अनुमति होगी।राज्य चाहें तो 50 प्रतिशत टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ को स्कूल आने के लिए कह सकते हैं।सरकार ने शर्तों के अनुसार, 7 सितंबर से मेट्रो चलानी की अनुमति दे दी है।भारत सरकार द्वारा जारी आदेश के अनुसार, आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय / रेल मंत्रालय द्वारा MHA के साथ परामर्श के बाद मेट्रो रेल को 7 सितंबर से क्रमबद्ध तरीके से संचालित करने की अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा सामाजिक / शैक्षणिक / खेल / मनोरंजन / सांस्कृतिक / धार्मिक / राजनीतिक समारोह और अन्य मण्डली को 100 व्यक्तियों की अधिकतम क्षमता के साथ 21 सितंबर से अनुमति दी जाएगी।सरकार द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि containment zones के बाहर सभी गतिविधियों की अनुमति होगी, लेकिन अभी सिनेमा हॉल, स्वीमिंग पूल, मनोरंजन पार्क, थेयटर, इंटरनेशनल हवाई यात्रा पर पाबंदी रहेगी।आदेश में यह भी स्पष्ट किया गया है कि व्यक्तियों और वस्तुओं के इंटर स्टेट और इंट्रा स्टेट मूवमेंट पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। इस तरह के मूवमेंट के लिए कोई अलग से अनुमति / अनुमोदन / ई-परमिट की आवश्यकता नहीं होगी।

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमWasim Akram: 'वनडे क्रिकेट हुआ पुराना, इसे खत्म कर दो', पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने की मांग******Highlights इंटरनेशल क्रिकेट में इसका वनडे फॉर्मेट तेजी से अपनी लोकप्रियता खोता जा रहा है। टी20 लीग क्रिकेट के आने के बाद से क्रिकेटर और फैंस, दोनों ही इससे मुंह मोड़ते नजर आ रहे हैं। स्थिति ऐसी हो गई है कि कई पूर्व क्रिकेटर्स खेल के 50-50 ओवर फॉर्मेट को धीरे-धीरे खत्म करने की सलाह दे रहे हैं। पूर्व भारतीय हेड कोच रवि शास्त्री ने कुछ ही दिन पहले बाइलेटरल सीरीज को खत्म करने की मांग की थी। अब इस बहस में पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम भी शामिल हो गए हैं। अकरम ने वनडे क्रिकेट को पूरी तरह से खत्म करने की मांग की है। हाल ही में इंग्लैंड के ऑलराउंडर बेन स्टोक्स ने वनडे क्रिकेट से अचानक संन्यास ले लिया और इसके बाद से ही 50 ओवरों के क्रिकेट के अस्तित्व को लेकर चर्चा छिड़ी हुई है।वसीम अकरम ने भारतीय उपमहाद्वीप में वनडे क्रिकेट के हाल का हवाला देते हुए कहा कि यह अब पुराना हो गया है और इसे खत्म कर देना चाहिए। पाकिस्तान के महान तेज गेंदबाज ने कहा, “मुझे लगता है कि वनडे क्रिकेट खत्म होना चाहिए। इंग्लैंड में स्टेडियम खचाखच भरे होते हैं लेकिन भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश और दक्षिण अफ्रीका में वनडे क्रिकेट में स्टेडियम खाली रहते हैं। इन जगहों पर सिर्फ नाम के लिए वनडे क्रिकेट कराया जा रहा है। यह प्रारूप अब पुराना हो गया है।”अकरम ने स्टोक्स के अचानक वनडे क्रिकेट से संन्यास लेने के फैसले पर निराशा जाहिर की। उन्होंने कहा, ‘‘स्टोक्स का वनडे क्रिकेट छोड़ने का फैसला दुखद है लेकिन मैं उसके साथ हूं। एक कमेंटेटर के तौर पर भी वनडे क्रिकेट अब खिंच रहा है। खासकर टी20 के आने के बाद। आप खिलाड़ी की दशा समझ सकते हैं। 50 ओवर बहुत होते हैं।’’वसीम अकरम ने वनडे की टी20 से तुलना करते हुए कहा कि खेल का सबसे छोटा फॉर्मेट जल्दी खत्म होता है लिहाजा ये फैंस और खिलाड़ियों के लिए सुविधाजनक है। लेकिन टेस्ट क्रिकेट से बेहतर दूसरा कोई फॉर्मेट नहीं है।‘‘ टी20 क्रिकेट आसान है। चार घंटे में खेल खत्म हो जाता है। दुनिया भर में इतनी लीग हो रही है और इतना पैसा है। यह आधुनिक क्रिकेट का हिस्सा है। वनडे क्रिकेट खत्म होने वाला है। टेस्ट क्रिकेट में जंग के भीतर जंग है। मेरी पसंद हमेशा से टेस्ट क्रिकेट रहा है। वनडे मजेदार होता था लेकिन टेस्ट क्रिकेट से ही खिलाड़ी की पहचान होती है।’’तस्वीर साफ है, टी20 से खिलाड़ी कोलप्रियता हासिल करने के साथ अकूत धन कमाते हैं और टेस्ट क्रिकेट में प्रदर्शन करके वे दुनिया भर में नाम कमाते हैं। ऐसे में वनडे क्रिकेट के अस्तित्व पर सवाल खड़े होना लाजिमी है।मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमFord ने Coronavirus को रोकने के लिए अपने सभी 10,000 भारतीय कर्मचारियों को दिया घर से काम करने का निर्देश******Ford asks 10,000 employees in India to work from homeअमेरिका की वाहन कंपनी फोर्ड नेकोरोना वायरस के संक्रमण के मद्देनजर भारत में अपने 10 हजार कर्मचारियों को घर से काम करने का निर्देश दिया है। कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी के हालिया दिनों के आकलन से कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले के अलग दिशा में बढ़ जाने का पता चलता है। कंपनी लोगों को सुरक्षित रखने तथा अपने आसपास कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए तत्काल कदम उठा रही है। प्रवक्ता ने कहा कि एंड ग्लोबल बिजनेस सर्विसेज समेत 10 हजार से अधिक कर्मचारियों को सोमवार से (16 मार्च से) घर से काम करने को कहा गया है। यह सुविधा सिर्फ उन कर्मचारियों को नहीं मिलेगी, जिनका काम कंपनी के संयंत्रों में आए बिना हो ही नहीं सकता है।प्रवक्‍ता ने कहा कि इस कदम से कोरोनावायरस के फैलने का जोखिम कम करने और अपने कारोबार को स्‍वस्‍थ्‍य बनाने में मदद मिलेगी। सभी फोर्ड सुविधाओं और डीलरशिप में सभी आवश्‍यक सुरक्षा कदम उठाए गए हैं और उपभोक्‍ताओं के लिए न्‍यूनतम असुविधा को सुनिश्चित किया गया है।इससे पहले एक अन्य वाहन कंपनी वोल्‍वो भी इसी तरह की घोषणा कर चुकी है। वोल्‍वो कार इंडिया के भारत में 40 कर्मचारी हैं। कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से घर से काम करने की सहूलियत देने की घोषणा की। कंपनी ने एक बयान में कहा कि परिचालन जारी रखने के लिए आवश्यक सूचना प्रौद्योगिकी संरचना की व्यवस्था कर दी गई है। तय बैठकें माइक्रोसॉफ्ट टीम या स्काइप के जरिये होंगी।

मार्च में देश का निर्यात 11 प्रतिशत बढ़ा, व्यापार घाटा हुआ कम

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमCM गहलोत का तोहफा, राजस्थान के इन 13 जिलों में नि:शुल्क मिलेगा 70 लीटर पानी****** राजस्थान के मरूस्थलीय इलाकों में अब उपभोक्ता को हर दिन 70 लीटर पानी प्रतिव्यक्ति नि:शुल्क मिलेगा। राज्य सरकार ने पानी के शुल्क दर में संशोधन करके उपभोक्ताओं को राहत देने का निर्णय किया है।राज्य सरकार के बयान के अनुसार जलदाय विभाग अब 13 मरूस्थलीय जिलों में 70 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन पानी निशुल्क उपलब्ध कराएगा। मुख्यमंत्री ने इस संबंध में वित्त विभाग के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है।उल्लेखनीय है कि जलदाय विभाग ने राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में 40 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन नि:शुल्क पेयजल उपलब्ध कराने का निर्णय लागू किया था। लेकिन मरूस्थलीय क्षेत्रों में पशुधन के लिए 30 लीटर प्रतिव्यक्ति प्रतिदिन सहित न्यूनतम दैनिक आवश्यकता 70 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन है। इसे देखते हुए मरूस्थलीय क्षेत्रों में 70 लीटर प्रतिव्यक्ति प्रतिदिन नि:शुल्क जल उपलब्ध कराने का निर्णय किया गया है।मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमFarmer Benefits: इस राज्य सरकार ने खोला खजाना, किसानों को दे रही है प्रति एकड़ 4000 रुपये की मदद******Currency NotesHighlightsलगातार बंजर होती जमीन को लेकर देश की कई सरकारें फिक्रमंद हैं। हरियाणा की सरकार भी किसानों को धान या गेहूं ​के अलावा दूसरी फसलें उगाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। इस बीच राज्य की सरकार ने राज्य के 7 कृषि प्रधान जिलों में दलहन और तिलहन की फसल उगाने के लिए प्रोत्साहन देने का फैसला किया है। सरकार ने कहा है कि जो किसान दलहन और तिलहन उगाएंगे उन्हें प्रति एकड़ 4000 रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।हरियाणा सरकार ने रविवार को कहा कि वह राज्य के सात जिलों में दलहन और तिलहन की फसल उगाने वाले किसानों को 4,000 रुपये प्रति एकड़ की वित्तीय सहायता देगी। यह योजना दक्षिण हरियाणा के सात जिलों - झज्जर, भिवानी, चरखी दादरी, महेंद्रगढ़, रेवाड़ी, हिसार और नूंह में किसानों के लिए खरीफ 2022 सत्र के दौरान लागू की जाएगी।प्रवक्ता ने कहा कि सरकार किसानों की लागत कम करके उनकी आय बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। फसल विविधीकरण के प्रयासों के तहत दलहन और तिलहन की खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने यह योजना शुरू की है। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत किसानों को 4,000 रुपये प्रति एकड़ की दर से वित्तीय सहायता दी जाएगी।गेहूं की फसल सरकार को न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर बेचने के बजाय अधिक दाम पर निजी व्यापारियों के हाथों बेचना किसानों के लिए फायदेमंद रहा है। निजी व्यापारियों को गेंहू की बिक्री करने पर किसानों को इस बार लगभग 5,994 करोड़ रुपए की मुनाफा हुआ है। मंत्रालय ने यह भी कहा कि किसानों ने कथित तौर पर अपनी उपज 2,150 रुपए प्रति क्विंटल की औसत दर से बेची है। एमएसपी मूल्य की तुलना में खुले बाजार में बेचने से किसानों की अधिक कमाई हुई है।मंत्रालय ने बताया कि इस साल किसानों ने 444 लाख टन गेंहू बेचा है। इस हिसाब से किसानों ने औसतन 2,150 रुपए प्रति क्विंटल की दर से 95,460 करोड़ रुपए कमाए हैं। यदि यही फसल किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर बेचता तो उसे 2015 रुपए प्रति क्विन्टल की दर से बेचना पड़ता। ऐसे में उनका व्यापार कुल 89466 करोड़ रुपए का होता। इस प्रकार किसानों को एमएसपी की तुलना में कुल मिलाकर 5,994 करोड़ रुपए से अधिक का लाभ हुआ है।मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमSummer Vacations Tips: बच्चों की गर्मी की छुट्टियां ऐसे बनाएं गैजेट फ्री******आजकल के दौर में लगभग हर बच्चा थोड़ा समय मिलते ही किसी भी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट में व्यस्त हो जाता है, अक्सर वो घर की किसी भी आरामदायक जगह पर तरह तरह के पोस्चर बना कर मोबाइल वीडियो गेम, टैब, टेलीविजन ,लैपटॉप या अन्य किसी भी गैजेट में घंटों उलझे रहते हैं। माता-पिता परेशान होकर बच्चों को डांटना शुरू कर देते हैं, पर अगर गहराई से सोचा जाए तो शायद हमारे समझाने के तरीके में थोड़ा सा बदलाव लाना जरूरी हो गया है।तो यहां कुछ टिप्स हम आपके साथ शेयर कर रहें हैं, इन्हें रोजमर्रा में अपनाएँ और गैजेट्स से दूरी बढ़ाएं ।बच्चे का सबसे पसंदीदा टॉय (छोटे, बिना बैटरी वाले) उनके बाथ टब में रख दीजिए और कहिए की आज इसका दिन है।बबल बाथ जैसा कोई कॉन्सेप्ट रख कर बच्चे पानी में एंजॉय कर पाएँगे और साथ साथ रोज एक नया टॉय क्लीन भी हो जाएगा।नन्हे मुन्नों को अक्सर पेड़ पौधों से बेहद लगाव होता है। हम उन्हें अपने किचन गार्डन में ले जा कर बीज लगाना सिखाएं तो वो थोड़ा मिट्टी से खेलना भी एंजॉय कर पाएंगे और धीरे धीरे काफी कुछ समझना भी शुरू कर देंगे।।बातें करना, कहानी सुनना बेहद पसंद होता है हर बच्चे को, हम उन्हें तरह तरह की कहानियाँ सुना कर काफी समय तक व्यस्त रख सकते हैं, और उनसे भी अपनी एक छोटी सी कहानी बना कर हमें सुनाने को कह सकते हैं जिससे उनके अंदर कॉन्फिडेंस भी डेवलप होगा और हमें मजेदार कहानियां सुनने को मिलेंगी।।बिल्डिंग ब्लॉक्स की अपनी अलग ही जगह है बच्चों की लाइफ में, तो क्यों न उसका सही यूज किया जाए?? पैरेंट्स अलग अलग रंग के ब्लॉक्स ले कर मिक्स कर लें। बच्चों से कहें की वो उनके फेवरेट कलर के ब्लॉक्स काउंट कर के दे सकते हैं क्या ?? फिर देखिये मैजिक, पढ़ाई और मस्ती का कॉम्बो ।तो बस इंतजार किस बात का, हो जाइये रेडी, मस्ती भरे समर वैकेशंस के लिये ।

मार्च में देश का निर्यात 11 प्रतिशत बढ़ा, व्यापार घाटा हुआ कम

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमझारखंड के हलमद जंगल से छह IED, एक टिफिन बम, नौ बंडल कोर्टेक्स बरामद******HighlightsJharkhand: चाईबासा जिले में टेबो के हलमद जंगल में नक्सलियों द्वारा छिपाकर रखी गयी कुल चौदह किलोग्राम वजन की आधा दर्जन आइईडी (Improvised explosive device) सुरक्षा बलों ने बुधवार को बरामद कर नष्ट कर दी। पुलिस सूत्रों ने बताया कि बुधवार को चाईबासा पुलिस को विशेष सूचना प्राप्त हुई कि टेबा थानान्तर्गत हलमद एवं रोग्तो के जंगलों में 'इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस' (आईईडी) छिपाकर रखी गयी है।सूचना के आधार पर चाईबासा के पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में जिला पुलिस, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की 60वीं वाहिनी एवं बम निरोधक दस्ते ने संयुक्त रूप से विशेष खोजी अभियान चलाया, जिसमें जंगल में छिपाकर रखी गयी कुल छह आईईडी, एक टिफिन बम एवं नौ बंडल कोर्टेक्स केबल बरामद किये गये।उन्होंने बताया कि बरामद आईईडी को बम निरोधक दस्ते द्वारा मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) का पालन करते हुए घटनास्थल पर ही नष्ट कर दिया गया। पुलिस ने बताया कि इस संदर्भ में विस्फोटक अधिनियम की सुसंगत धाराओं के अन्तर्गत प्राथमिकी दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है। इनपुट-भाषामार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमसिंगापुर में दीपावली पर पटाखे जलाना पड़ा महंगा, भारतीय मूल के चार लोगों पर मामला दर्ज****** की एक अदालत ने दीपावली के मौके पर पटाखे जलाने को लेकर भारतीय मूल के चार लोगों को आरोपित किया है। सिंगापुर में 1972 से पटाखे जलाने पर प्रतिबंध है। बीते मंगलवार को यहां दीपावली मनाई गई और यीशुन,बुकिट बटोक वेस्ट तथा जू सेंग रोड में तीन अलग-अलग घटनाओं में अवैध रूप से पटाखे जलाने में भारतीय मूल के चार लोग कथित तौर पर संलिप्त पाए गए। ‘द स्ट्रेट्स टाइम्स’ ने शनिवार को अपनी एक खबर में बताया कि ए. हरिप्रशांत (18), एल्विस जेवियर फर्नांडीज (25), जीवन अर्जुन (28) और अलगप्पन सिंगाराम (54) पर खतरनाक पटाखे जलाने के आरोप हैं।बुधवार को भी भारतीय मूल के दो अन्य लोगों पर लिटिल इंडिया इलाके में अवैध रूप से पटाखे सबके सामने लाने और जलाने के आरोप लगाए गए थे। इस मामले में आरोप है कि टी. सेल्वाराजू (29) ने पटाखे जलाए जबकि शिव कुमार सुब्रमण्यम ने उसे ऐसा करने के लिए उकसाया। जीवन पर आरोप है कि उसने मंगलवार को यीशुन स्ट्रीट पर सुबह 3:30 बजे ब्लॉक 504-बी के सामने खुले मैदान में पटाखे जलाए।पुलिस ने बताया कि तेज आवाज सुनाई देने के बात उन्हें अलर्ट किया गया और उन्हें उस स्थान से विस्फोटक से भरे सिलिंडर मिले। उसके अगले दिन जीवन को गिरफ्तार कर लिया गया। हरिप्रसाद और सिंगाराम पर बुकिट बटोक वेस्ट अवेन्यू-6 पर ब्लॉक 194 बी के बगल में खुले स्थान पर पटाखे जलाने के आरोप हैं।अदालती दस्तावेजों के अनुसार फर्नांडीज पर ब्लॉक-18 जू सेंग रोड पर पटाखे जलाने का आरोप है। उसे गरुवार को गिरफ्तार किया गया। चारों आरोपियों को शुक्रवार को जमानत दी गई। पुलिस ने बताया, ‘‘जनता को याद दिलाया जाता है कि खतरनाक पटाखों को रखना, बेचना, अन्य स्थान पर भेजना, उसका वितरण करना आदि अपराध की श्रेणी में आता है।’’

मार्च में देश का निर्यात 11 प्रतिशत बढ़ा, व्यापार घाटा हुआ कम

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमWomen's World Cup: न्यूजालैंड ने बांग्लादेश को एकतरफा मुकाबले में 9 विकेट से दी मात******Highlightsएमी सैटरथवेट के तीन विकेट और सूजी बेट्स की 79 रनों की पारी की मदद से न्यूजीलैंड ने विश्व कप के पांचवें मैच में बांग्लादेश को नौ विकेट से हरा दिया। सोमवार को यूनिवर्सिटी ओवल में खेले गए मुकाबले में न्यूजीलैंड ने शानदार प्रदर्शन किया। बारिश के कारण इस मुकाबले को 27-27 ओवरों का कर दिया गया था।न्यूजीलैंड ने इसके जवाब में सूजी बेट्स (नाबाद 79) के नाबाद अर्धशतक और एमेलिया केर (नाबाद 47) के साथ उनकी 108 रन की अटूट साझेदारी की बदौलत 42 गेंद शेष रहते एक विकेट पर 144 रन बनाकर जीत दर्ज की। लक्ष्य का पीछा करने उतरे न्यूजीलैंड की शुरुआत अच्छी नहीं रही जब कप्तान सोफी डिवाइन 14 रन बनाने के बाद सातवें ओवर में स्पिनर सलमा खातून की गेंद पर बोल्ड हो गई। बांग्लादेश की गेंदबाज हालांकि इसके बाद कोई और विकेट हासिल नहीं कर सकीं। बेट्स ने अपनी पारी में सिर्फ 68 गेंद का सामना करते हुए आठ चौके मारे जबकि एमेलिया ने 37 गेंद की अपनी पारी में पांच चौके जड़े। बेट्स अपने 28वें एकदिवसीय अर्धशतक के दौरान महिला विश्व कप में 1000 या इससे अधिक रन बनाने वाली सिर्फ छठी बल्लेबाज बनीं।इससे पहले बारिश के कारण मैच चार घंटे के विलंब से शुरू हुआ। न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया जिसके बाद फरगाना और शमीमा ने बांग्लादेश को अच्छी शुरुआत दिलाई। बांग्लादेश ने पावर प्ले के पांच ओवर में बिना विकेट खोए 41 रन बनाकर मजबूत मंच तैयार किया। स्पिन आलराउंडर फ्रांसिस मैकाय (24 रन पर एक विकेट) ने शमीमा को पवेलियन भेजकर न्यूजीलैंड को पहली सफलता दिलाई। मैकाय ने 24वें ओवर में फरगाना को रन आउट भी किया। ऐमी सेटरथवेट ने पांच ओवर में 25 रन पर तीन विकेट चटकाकर बांग्लादेश के मध्यक्रम को ध्वस्त किया। सलामी बल्लेबाजों के अलावा कप्तान निगार सुल्ताना (11) और सोभना मोस्तारी (13) ही दोहरे अंक में पहुंच सकी।बांग्लादेश की टीम अच्छी शुरुआत के बावजूद दबाव में आ गई। टीम का स्कोर 15 ओवर के बाद तीन विकेट पर 81 रन था। आक्रामक बल्लेबाज रितु मोनी (04) को ने डिवाइन को कैच थमाया। वह एकदिवसीय क्रिकेट में सेटरथवेट का 50वां शिकार बनीं। इसके साथ ही सेटरथवेट एकदिवसीय मुकाबलों में 3000 रन और 50 विकेट चटकाने वालों के विशिष्ट क्लब में शामिल हो गईं। टूर्नामेंट के शुरुआती मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ शिकस्त झेलने वाले न्यूजीलैंड को इस जीत से दो अंक मिले और टीम तीसरे स्थान पर पहुंच गई है। बांग्लादेश की टीम अपने दोनों मैच हार चुकी है और सातवें स्थान पर चल रही है। (फरगना होक 52, शमीमा सुल्ताना 33; एमी सैटरथवेट 3-25) (सुजी बेट्स 79*, अमेलिया केर 47*; सलमा खातुन 1-34)

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमAl-Zawahiri Killed: तालिबान-अमेरिका ने एक दूसरे पर मढ़ा दोहा समझौते के उल्लंघन का आरोप, आखिर क्या है ये? अब अफगान सरकार पर सबकी निगाहें******Highlights अफगानिस्तान के काबुल में एक मकान पर अमेरिकी ड्रोन हमले में अल कायदा के सरगना अयमान अल जवाहिरी के मारे जाने के बाद अफगानिस्तान के तालिबानी शासकों पर अंतरराष्ट्रीय निगरानी तेज हो गई है। साथ ही इस घटना से अंतरराष्ट्रीय मान्यता मिलने के तालिबानी सरकार के प्रयासों पर भी असर पड़ेगा। तालिबान ने अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की पूर्ण वापसी के संबंध में 2020 में हुए दोहा समझौते में यह वादा किया था कि वह अलकायदा के आतंकवादियों को पनाह नहीं देगा। अमेरिकी सैनिकों के अफगानिस्तान से जाने के करीब एक वर्ष बाद अल जवाहिरी के मारे जाने ने 9/11 के एक मास्टरमाइंड और अमेरिका के वांछित आतंकवादी को सुरक्षित पनाहगाह मुहैया कराने में तालिबानी नेताओं की संलिप्तता के संबंध में सवाल पैदा किए हैं।जिस मकान में अल जवाहिरी मारा गया है, वहां करीब ही तालिबान के कई नेता रहते हैं। तालिबान ने शुरुआत में इस हमले को अमेरिका की ओर से दोहा समझौते का उल्लंघन करने वाला दिखाने की कोशिश की। समझौते में यह भी कहा गया है कि अमेरिका पर हमले की मंशा रखने वाले को तालिबान शरण नहीं देगा। तालिबान ने अभी इस बारे में कुछ नहीं कहा है कि कौन मारा गया है। पाकिस्तान के एक खुफिया अधिकारी ने कहा, ‘अयमान अल जवाहिरी के मारे जाने ने कई प्रश्न पैदा किए हैं। तालिबान को उसके काबुल में होने के बारे में पता था और अगर उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी तो उन्हें अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए।’‘हक्कानी नेटवर्क’ का गठन जलालुद्दीन हक्कानी ने किया था, यह एक आतंकवादी संगठन है। सोवियत सेना के खिलाफ युद्ध के दौरान जलालुद्दीन हक्कानी अफगानिस्तान के एक विद्रोही कमांडर के रूप में उभरा था। अमेरिका के विदेश मंत्री ने अफगानिस्तान की तालिबान सरकार पर ‘काबुल में अल कायदा प्रमुख को रखने और सुरक्षा देकर’ अंतरराष्ट्रीय समुदाय से की गई प्रतिबद्धताओं का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। वहीं तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने अमेरिका पर दोहा समझौते का उल्लंघन करने का आरोप लगाया है। अफगानिस्तान के सरकारी टेलीविजन चैनल में एक खबर में कहा गया कि अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा कि अल जवाहिरी मारा गया है।गौरतलब है कि अमेरिका पर 9/11 को हुए हमलों की साजिश अल-जवाहिरी और ओसामा बिन-लादेन ने मिलकर रची थी। ओसामा बिन-लादेन को अमेरिका ने 2011 में पाकिस्तान के एबटाबाद में एक अभियान में मार गिराया था। जवाहिरी अमेरिकी कार्रवाई में ओसामा बिन-लादेन के मारे जाने के बाद अल-कायदा का सरगना बना था। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने सोमवार को घोषणा की कि केंद्रीय खुफिया एजेंसी (सीआईए) द्वारा काबुल में शनिवार शाम किए गए ड्रोन हमले में जवाहिरी मारा गया है। जवाहिरी काबुल स्थित एक मकान में अपने परिवार के साथ छिपा था।संयुक्त राष्ट्र की हाल की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि अलकायदा के मुख्य नेतृत्व अयमान अल-जवाहिरी के अफगानिस्तान में रहने की सूचना है। साथ ही इसमें यह भी कहा गया था कि आतंकवादी समूह के नेता ने कई वीडियो और ऑडियो संदेशों के माध्यम से अलकायदा समर्थकों तक पहुंच बढ़ाई है। आईएसआईएल (दाएश), अल-कायदा और संबंधित व्यक्तियों और संस्थाओं से संबंधित प्रस्ताव 2610 (2021) के अनुसार विश्लेषणात्मक सहायता और प्रतिबंध निगरानी टीम की पिछले महीने जारी 30वीं रिपोर्ट में कहा गया था कि आतंकवादी समूह का नेतृत्व तालिबान के साथ कथित तौर पर एक सलाहकार की भूमिका निभाता है।इसमें अल-जवाहिरी का वह बयान भी शामिल है, जिसमें ‘उसने वादा किया था कि अल-कायदा, आईएसआईएल के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार है और इसका प्रयास एक वैश्विक आंदोलन के नेता के रूप में फिर से पहचान बनाना है।’ भारत में हिजाब विवाद की ओर इशारा करते हुए, रिपोर्ट में कहा गया था कि अल-कायदा के अस-साहब मीडिया फाउंडेशन द्वारा 5 अप्रैल को जारी अल-जवाहिरी के सबसे हालिया वीडियो में, अल-जवाहिरी ‘हिजाब का विरोध करने वाले पुरुषों के सामने एक भारतीय मुस्लिम युवती के चुनौती देने का संदर्भ देता है।’ इसमें कहा गया था, ‘वीडियो ने हाल के वर्षों में अल-जवाहिरी के जीवित रहने का पहला सबसे नवीनतम प्रमाण प्रदान किया था। नवीनतम वीडियो से यह पता चलता है कि वह अफगानिस्तान की सत्ता पर तालिबान के काबिज होने से पहले की तुलना में अब अधिक प्रभावी ढंग से नेतृत्व करने में सक्षम हो सकता है।’मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमसुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक को दिया बड़ा झटका, फ्लैट खरीदारों को देना होगा 14 फीसदी की दर से 7 साल का ब्याज******सुप्रीम कोर्ट ने यूनिटेक लिमिटेड को बड़ा झटका देते हुए दिया है। कोर्ट ने कंपनी से 39 फ्लैट खरीदारों द्वारा जमा कराई गई 16.55 करोड़ रुपए की मूल राशि पर 14 फीसदी की दर से ब्याज जमा करने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा कि मूल राशि पर ब्याज की गणना एक जनवरी, 2010 से की जाएगी।जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस ए एम खानविलकर और जस्टिस मोहन एमशांतानागौदर ने यूनिटेक से आठ सप्ताह में ब्याज की राशि जमा कराने को कहा। रजिस्ट्री की 90 प्रतिशत राशि 39 आवास खरीदारों को वितरित करने को कहा।

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमदांव पर लगी है महाराष्ट्र के इन छह नेताओं की साख, जानिए- किससे है मुकाबला?****** में कई दिग्गजों की साख दांव पर लगी है। से लेकर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे और कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण के लिए यह चुनाव साख का सवाल बना हुआ है। हालांकि, ऐसी स्थिति में सिर्फ यह तीनों ही नहीं हैं बल्कि इनके अलावा भी तीन और नेता यानी कि कुल छह नेता हैं जिनके लिए यह चुनाव साख का सवाल बन गया है।महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस नागपुर साउथ वेस्ट विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। फडणवीस के सामने उनकी सीट जीतने के साथ-साथ सरकार में बने रहने के लिए भाजपा-शिवसेना गठबंधन की जीत भी सुनिश्चित करने की चुनौती है। नागपुर साउथ वेस्ट विधानसभा सीट से फडणवीस के सामने कांग्रेस के आशीष देशमुख हैं।मुंबई शहर की वर्ली सीट पर पूरे देश की नजर है। दरअसल, यहां से शिवसेना ने बालासाहेब के पोते आदित्य ठाकरे चुनाव मैदान में हैं। यहां आदित्य ठाकरे का मुकाबला एनसीपी के सुरेश माने से है। बता दें कि वर्ली को शिवसेना के गढ़ के रूप में पहचाना जाता है। ऐसे में आदित्य ठाकरे के सामने काशिवसेना यह किला बचाने की भी चुनौती है।बीजेपी ने दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे को परली विधानसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा है। गोपीनाथ मुंडे की राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाने वाली उनकी बेटी पंकजा के सामने इस सीट पर उनके भतीजे और कांग्रेस उम्मीदवार धनंजय मुंडे हैं। यह चुनावी जंग पंकजा मुंडे के लिए साख की जंग बन गई है।राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री और NCP प्रमुख शरद पवार के भतीजे अजित पवार बारामती विधानसभा सीट से चुनावी मैदान में हैं। अजित पवार लगातार साल 1995 से इस सीट से जीतते आ रहे हैं। अब ऐसे में उनके सामने अपनी सीट पर जीत कायम रखने की चुनौती है। ऐसे में भाजपी ने शरद पवार परिवार के गढ़ में सेंध मारने के लिए इस बार प्रकाश आंबेडकर की वंचित बहुजन अघाड़ी से पाला बदलकर BJP ने शामिल होने वाले गोपीचंद पडलकर को चुनावी मैदान में उतारा है।कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण को भोकर विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है। चव्हाण परिवार का महाराष्ट्र की राजनीति में गहरी पकड़ है। अशोक चव्हाण के साथ-साथ उनके पिता भी राज्य के दो बार मुख्यमंत्री रह थे। अब ऐसे में अशोक चव्हाण के लिए उनकी सीट बचाना एक साख का सवाल ही है।कांग्रेस के सीनियर नेता, मौजूदा विधायक और पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण कराड दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से चुनावी मैदान में हैं। उनके सामने भाजपा के अतुल बाबा सुरेश भोसले हैं। बता दें कि वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के पृथ्वीराज चव्हाण ने निकटतम प्रतिद्वंदी निर्दलीय उम्मीदवार विलासराव पाटिल को 16,418 वोटों से हराया था। ऐसे में उनके सामने इस प्रदर्शन को बरकरार रखने की चुनौती है।मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमदिल्ली में कोविड-19 के 41 नए मामले, NCDC में सीक्वेंस किये गए नमूनों में से 95 प्रतिशत में डेल्टा वेरिएंट******Highlights दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस से किसी मरीज की मौत नहीं हुई। वहीं, संक्रमण के 41 नए मरीज मिले तथा संक्रमण दर 0.06 फीसदी दर्ज की गई। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग की ओर से साझा किए गए आंकड़ों के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के कुल मामले 14,41,190 हो गए हैं जबकि अबतक 14.15 लाख से अधिक लोग संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं।बुलेटिन के मुताबिक, आईसीएमआर-एनआईसीपीआर नोएडा ने गत हफ्तों से संबंधित 176 मामले बुधवार को आईसीएमआर पोर्टल पर जोड़े हैं। दिल्ली में संक्रमण के कारण अबतक 25,098 लोगों की मौत हो चुकी है। आंकड़ों के मुताबिक, नवंबर में के कारण सात लोगों की मौत हुई है जो पिछले महीने में राष्ट्रीय राजधानी में सबसे ज्यादा है। दिल्ली में अक्टूबर में कोरोना वायरस की वजह से चार और सितंबर में पांच लोगों की जान गई थी।स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, बृहस्पतिवार को संक्रमण दर 0.06 प्रतिशत दर्ज की गई है। दिल्ली में बुधवार को कोरोना वायरस के 39 नए मामले आए थे तथा मंगलवार को 34 मरीजों की पुष्टि हुई थी। इन दोनों ही दिन संक्रमण दर 0.07 प्रतिशत दर्ज की गई थी। बुलेटिन में बताया गया है कि एक दिन पहले 63,194 नमूनों की जांच की गई है।राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) में पिछले छह महीने में सीक्वेंस किये गए दिल्ली के 95 प्रतिशत नमूनों में कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट पाया गया। सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई। कोविड-19 महामारी की शुरुआत से लेकर अब तक दिल्ली ने 7,281 नमूने जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए एनसीडीसी भेजे थे।सरकारी आंकड़ों में पता चला कि नवंबर में सीक्वेंस किये गए नमूनों में से 96 प्रतिशत में डेल्टा प्रकार था। कोरोना वायरस का यह तेजी से फैलने वाला प्रकार भारत में माहमारी की दूसरी घातक लहर के लिए जिम्मेदार था। आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर के नमूनों में से 99 प्रतिशत में और सितंबर के नमूनों में से 98 प्रतिशत में वायरस का यह प्रकार पाया गया।

मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमदिल्ली दंगे: अदालत ने उमर खालिद की न्यायिक हिरासत 14 दिन बढ़ाई****** दिल्ली की एक अदालत ने शहर के उत्तर पूर्वी हिस्से में फरवरी में हुए सांप्रदायिक दंगों के मामले में जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद की न्यायिक हिरासत बुधवार को 14 दिन के लिए बढ़ा दी। अदालत ने खालिद को हिरासत को और बढ़ाने का आग्रह करने वाली पुलिस की याचिका का विरोध करने का मौका देने से इनकार कर दिया। अदालत ने कहा कि अगर आरोपी के वकील को लगता है कि उसे और हिरासत में रखने की जरूरत नहीं है तो वह जमानत की अर्जी दायर कर सकता है, जिसे अदालत सुन सकती है।मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट दिनेश कुमार ने कहा कि फिर से गिरफ्तार करने के समय आरोपी और उसका वकील मुल्ज़िम को न्यायिक या पुलिस हिरासत में भेजे जाने के जांच अधिकारी के आवेदन का विरोध कर सकते हैं। अदालत ने खालिद की न्यायिक हिरासत की अवधि 16 दिसंबर तक बढ़ा दी और कहा कि हिरासत बढ़ाने के लिए पर्याप्त आधार हैं। अदालत ने के वकील के उस आग्रह को खारिज कर दिया, जिसमें हिरासत आवेदन का विरोध करने की इजाजत मांगी गई थी, क्योंकि अदालत के समक्ष जमानत की कोई अर्जी दायर नहीं की गई है। ने कहा कि आरोपी के वकील को सुनने और जब भी हिरासत बढ़ाई जानी है तब उन्हें हिरासत आवेदन का विरोध करने का मौका देने की गुंजाइश नहीं है। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने अपने आदेश में कहा, “ इस बात में कोई संदेह नहीं है कि किसी आरोपी की हिरासत को ऐसे ही नहीं बढ़ाना चाहिए। खालिद को खजूरी खास इलाके में दंगों के संबंध में एक अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। उसे दंगों की कथित “बड़ी साजिश“ से संबंधित मामले में सितंबर में गिरफ्तार किया गया था।बता दें कि, उत्तर पूर्वी दिल्ली में फरवरी 2020 के अंत में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के समर्थकों और विरोधियों के बीच हुई झड़पों ने का रूप ले लिया था, जिनमें 53 लोगों की मौत हुई है और सैकड़ों जख्मी हुए थे।मार्चमेंदेशकानिर्यात11प्रतिशतबढ़ाव्यापारघाटाहुआकमFATF ने भारत की वित्तीय अपराधों पर रोकथाम की व्यवस्था की समीक्षा 2021 तक टाली******नई दिल्ली। वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) ने कोरोना वायरस महामारी के चलते भारत में धन शोधन रोधी और वित्तीय अपराधों की रोकथाम के लिए कानूनी प्रावधानों की इस साल प्रस्तावित समीक्षा को अगले साल तक के लिए टाल दिया है। अधिकारियों ने बताया कि एफएटीएफ के विशेषज्ञ इस संबंध में सितंबर-अक्टूबर में मौके पर समीक्षा करने वाले थे, लेकिन पेरिस स्थित वैश्विक निकाय के सचिवालय ने भारत को बताया है कि समीक्षा को अगले साल जनवरी-फरवरी तक टाला जा रहा है। एफएटीएफ वैश्विक स्तर पर धन शोधन और आतंकी वित्तपोषण की रोकथाम के मामलों की निगरानी करती है। संस्था दुनिया के देशों में आर्थिक और वित्तीय माध्यमों में अवैध गतिविधियों को रोकने के लिए अंतरराष्ट्रीय मानकों को तय करती है साथ ही उसके दुनियाभर में आंतरिक तौर पर जुड़े संपर्क सूत्रों पर भी गौर करती है।एफएटीएफ वित्तीय प्रणाली के आपराधिक दुरुपयोग को रोकने के लिए प्रत्येक देश की प्रणाली की गहन समीक्षा और विश्लेषण करता है। भारत की धन शोधन यानी मनी लांड्रिंग और आतंकी वित्त पोषण रोधी व्यवस्था की समीक्षा 10 साल बाद एक नियमित प्रक्रिया के तहत की जानी थी। धन शोधन रोधी एजेंसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ऐसी आखिरी समीक्षा जून 2010 में की गई थी। केंद्रीय वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि एफएटीएफ समीक्षा के लिए सभी तैयारियां लगभग पूरी हो गईं थीं, हालांकि, इसके बाद कोविड-19 का प्रकोप शुरू हो गया। उन्होंने बताया, ‘‘हमें एफएटीएफ ने बताया है कि उसने कोरोना वायरस महामारी के कारण इस वर्ष के लिए तय कई देशों के समीक्षा कार्यक्रम को स्थगित कर दिया है, जिसमें भारत भी शामिल है। उम्मीद है कि नई तारीखें अगले साल की शुरुआत में होंगी।’’ एफएटीएफ ने भी इस संबंध में सार्वजनिक घोषणा की है।

सम्बंधित जानकारी
गर्म सामग्री