50 लाख रुपए तक सालाना आय वालों के लिए होगा सिर्फ 1 पेज का इनकम टैक्‍स रिटर्न फॉर्म, 1 अप्रैल से लागू होगी व्‍यवस्‍था

समय:2022-09-30 22:22:43स्रोत:संवेदनशीलता नेटवर्क लेखक:क्विटेहे

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाLPG Cylinder 500 रुपये तक सस्ता पाने का आखिरी मौका, ऐसे उठाएं ऑफर का लाभ******LPG Cylinder 500 रुपये तक सस्ता पाने का आखिरी मौका, ऐसे उठाएं ऑफर का लाभपर पेमेंट ऐप पेटीएम (Paytm) 500 रुपये तक का कैशबैक ऑफर दे रही है। लेकिन, इस ऑफर का आज आखिरी दिन है। ऑफर के अनुसार, जो पेटीएम यूजर 31 दिसंबर 2020 तक ऐप के जरिए रसोई गैस सिलिंडर (LPG Cylinder) बुक करेंगे वही 500 रुपये तक के कैशबैक (Cashback) ऑफर का लाभ उठा पाएंगे।ऐसे में अगर आप इसका लाभ उठाना चाह रहे हैं तो अभी बुकिंग से जुड़ी बाकि सभी जानकारी पढ़ें और बुक कर लें। क्योंकि, हर दिन बढ़ती महंगाई के इस दौर में अगर रसोई गैस सिलिंडर बुक करने पर आपको 500 रुपये तक का कैशबैक मिल जाता है तो इससे बेहतर और क्या ही होगा। यह भी एक प्रकार की बचत ही होगी।पेटीएम के इस ऑफर का लाभ आप भारत गैस (Bharat Gas), एचपी गैस (HP Gas) और इंडेन (Indane) का सिलिंडर बुक करके ले सकते हैं। लेकिन, यहां शर्त यह है कि यूजर पहली बार पेटीएम ऐप के जरिए एलपीजी सिलिंडर बुक (LPG Cylinder Booking) कर रहा हो, तभी वह ऑफर के लिए योग्य होगा।यानि, पेटीएम के 500 रुपये तक कैशबैक (Cashback) वालेऑफर का लाभ आपको तभी मिलेगा जब आप पेटीएम ऐप के जरिए पहली बार रसोई गैस सिलिंडर बुकिंग (LPG Cylinder Booking) कर रहे होंगे। लेकिन, अब सवाल यह भी बचता है कि ऑखिर पेटीएम से एलपीजी सिलिंडर बुकिंग होगी कैसे?पेमेंट करने से पहले प्रोमोकोड सेक्शन FIRSTLPG डालें ताकि आपको 500 रुपये तक का कैशबैक मिले (अगर आप Paytm से पहली बार बुकिंग कर रहे हैं तो)। अगर आप प्रोमोकोड डालना भूल गए हैं तो उस स्थिति में आपको कैशबैक नहीं मिलेगा। इसीलिए पेमेंट करने से पहले ध्यान से प्रोमोकोड भरें। यह ऑफर 31 दिसंबर 2020 तक वैलिड है।

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाMumbai Indians: IPL फ्रेंचाइजी ने महेला जयवर्धने और जहीर खान को बनाया ग्लोबल, जानिए क्या हैं इनके नए रोल******Highlights मुंबई इंडियंस में महेला जयवर्धने का कद पहले से बड़ा हो गया है इस आईपीएल फ्रैंचाइजी ने श्रीलंका के पूर्व कप्तान के लिए पहले से काफी बड़ा रोल ढूंढ निकाला है। मुंबई इंडियंस ने उन्हें अपनी तमाम टीम के प्रदर्शन की निगरानी के लिए ग्लोबल हेड बनाया है। अपने नए कोल में जयवर्धने उन तीनों टीमों की कोचिंग और स्काउटिंग की देखरेख करेंगे, जिसका मालिकाना हक इस फ्रेंचाइजी के पास है। इन तीन टीमों में शामिल है आईपीएल में में मुंबई इंडियंस, ILT20 में MI अमीरात और SA20 में MI केप टाउन। जयवर्धने के साथ-साथ मुंबई इंडियंस के साथ बतौर डायरेक्टर ऑप क्रिकेट ऑपरेशंस जुड़े जहीर खान को भी इस फ्रैंचाइजी ने पहले से काफी बड़ा रोल थमा दिया है। पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान अब MI फ्रैंचाइजी के तीनों टीमों के लिए ग्लोबल हेड ऑफ क्रिकेट डेवलपमेंट के रूप में कार्य करेंगे।MI ग्रुप ने इसके लिए एक आधिकारिक बयान जारी करते हुए कहा कि टीम मैनेजमेंट ने कंपनी के विस्तार के कारण टॉप पर एक सेंट्रल टीम की जरूरत महसूस कर रही थी। ये फ्रैंचाइजी हमेशा से मूल्यों और सीखने की चाहत को बढ़ावा देता रहा है। यही क्वॉलिटी इसे दुनिया भर में सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाला क्रिकेट ब्रांड बनाती है।ईएसपीएनक्रिकइंफो के मुताबिक ये फ्रेंचाइजी जल्द ही आईपीएल टीम के लिए नए हेड कोच के नाम का ऐलान केरगी। बता दें कि जयवर्धने आईपीएल के 2017 एडिशन के बाद से टीम से जुड़े थे और अब तक तीन आईपीएल खिताब जीत चुके हैं।फ्रैंचाइजी ने जयवर्धने की नई जिम्मेदारियों के बारे में बताया कि वे इसके बैकरूम स्टाफ के टॉप पर होंगे और वे ओवर ऑल स्ट्रेटजी, प्लानिंग और वर्ल्ड लेव पर हाई परफॉर्मेंस को कायम रखने के लिए इकोलॉजिकल सिस्टम का निर्माण करेंगे। इसके अलावा वे हर टीम के कोचिंग और सपोर्ट स्ट्रक्चर की जिम्मेदारी भी संभालेंगे। खास बात ये है क जयवर्धने अपनी नई भूमिका में पहले ही काम शुरू कर चुके हैं। MI केप टाउन के लिए हेड कोच के रूप में मार्क बाउचर की नियुक्ति में उनका भी रोल था।जहीर अपने नए रोल में MI फ्रैंचाइजी की तीनों टीमों के प्लेयर्स के विकास के लिए जिम्मेदार होंगे। इसके अलावा टैलेंट की पहचान करके फ्रैंचाइजी को मजबूत बनाना भी उनकी जिम्मेदारी होगी।लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाPUBG MOBILE: 'पबजी मोबाइल, गेम फॉर पीस का राजस्व रोजाना 48 लाख डॉलर'******PUBG Mobile and Game For Peace Revenue Over 4.8 Million dollar A Day'' और इसके नए वर्शन 'गेम फॉर पीस' के कारण के इंटरनेट पॉवरहाउस टेनसेंट का मई में एक दिन 48 लाख डॉलर से अधिक दर्ज किया गया, इसके साथ ही यह दुनिया की सबसे अधिक कमाई करनेवाला एप बन गया है। इंटेलीजेंस कंपनी सेंसर टॉवर की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।​ अनुमान (जिसमें चीन में एंड्रायड से मिलने वाले राजस्व को शामिल नहीं किया गया है) के मुताबिक, दोनों वर्शन मिलकर मई में कुल 14.6 करोड़ डॉलर की कमाई की, जोकि अप्रैल के महीने में हुई 65 करोड़ डॉलर की कमाई की तुलना में 126 फीसदी अधिक है। इससे पहले अप्रैल में अब तक की सबसे अधिक कमाई हुई थी। पबजी मोबाइल, गेम फॉर पीस से मई में हुए कुल राजस्व में से लगभग 10.1 करोड़ डॉलर का राजस्व से प्राप्त हुआ, जबकि के प्लेटफार्म से कुल 4.53 करोड़ डॉलर का राजस्व प्राप्त हुआ।​सेंसर टावर के मोबाइल इनसाइट्स के प्रमुख रैंडी नेल्सन ने ब्लॉग पोस्ट में लिखा कि पबजी मोबाइल के दोनों वर्शन से होने वाली कमाई को एक साथ मिलाने से यह दूसरे स्थान पर रहने वाली गेम ऑनर ऑफ किंग्स से 17 फीसदी अधिक है, जिसने करीब 12.5 करोड़ डॉलर की कमाई की। यह गेम भी टेंनसेंट का ही है।नेल्सन ने लिखा कि और यूजर्स ने पिछले महीने पबजी के दोनों मोबाइल संस्करणों पर औसतन 48 लाख डॉलर रोजना खर्च किए।"

50 लाख रुपए तक सालाना आय वालों के लिए होगा सिर्फ 1 पेज का इनकम टैक्‍स रिटर्न फॉर्म, 1 अप्रैल से लागू होगी व्‍यवस्‍था

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थासूरत के GIDC इलाके में केमिकल टैंकर से गैस लीक, 6 मजदूरों की मौत******Highlightsसूरत के जीआईडीसी इलाके में बड़ा हादसा हुआ है। यहां केमिकल टैंकर में लीकेज के कारण 5 मजदूरों की मौत हो गई है। बताया जाता है कि अचानक गैस लीक होने से मजदूरों में अफरा-तफरी मच गई। दम घुटने से पांच मजदूरों की मौत होने की खबर है।20 लोगों को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गयाहै।सिविल अस्पताल के सुपरिटेंडेंट डॉ. ओमकार चौधरी ने बताया कि इस हादसे में 6 मजदूरों की मौत हुई है जबकि 20 लोगों का इलाज चल रहा है।लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाBJP warns Dilip Ghosh: बीजेपी नेता दिलीप घोष को पार्टी ने किया आगाह, सहयोगियों के खिलाफ बोलना बर्दाश्त नहीं******Highlightsभाजपा ने पश्चिम बंगाल के अपने वरिष्ठ नेता दिलीप घोष की पार्टी की राज्य इकाई के खिलाफ आलोचनात्मक टिप्पणियों पर सख्त रुख अख्तियार करते हुए मंगलवार को उन्हें आगाह किया कि उनका आचरण अस्वीकार्य है और इससे न केवल पार्टी को नुकसान होगा बल्कि उनकी अतीत की कड़ी मेहनत को भी निष्फल कर देगा। पश्चिम बंगाल भाजपा के पूर्व अध्यक्ष घोष ने अपने उत्तराधिकारी सुकांत मजूमदार पर निशाना साधते हुए उन्हें ऐसा अनुभवहीन नेता करार दिया जो हाल ही में परिदृश्य में आए हैं। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने तीखे शब्दों में घोष को लिखे पत्र में उन्हें सार्वजनिक मंचों पर पार्टी नेताओं के खिलाफ बोलने को लेकर आगाह किया है। सिंह ने कहा कि यह पत्र पार्टी अध्यक्ष जे. पी. नड्डा के निर्देश पर जारी किया गया है।पश्चिम बंगाल भाजपा इकाई के पूर्व अध्यक्ष घोष ने अपने उत्तराधिकारी सुकांत मजूमदार को एक अनुभवहीन नेता बताया था। हालांकि, घोष ने दावा किया कि उन्हें अभी तक ऐसा कोई पत्र नहीं मिला है और आश्चर्य जताया कि पत्र उन्हें मिलने से पहले ही मीडिया तक कैसे पहुंच गया। सिंह ने पत्र में कहा, ‘‘इस तरह की टिप्पणियों से सिर्फ पार्टी को ही नुकसान होगा और अतीत में की गयी आपकी खुद की मेहनत भी निष्फल हो जाएगी। इसके अलावा, आपके कद के व्यक्ति जो राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं, द्वारा इस तरह के बयानों से पार्टी कार्यकर्ताओं के बीच गहरा असंतोष, अशांति और अलगाव पैदा हो सकता है। भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व मीडिया के जरिए ऐसे बयान जारी करने से काफी चिंतित है।’’भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व शर्मिंदा हुआ है: सिंहसिंह ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता पश्चिम बंगाल राज्य भाजपा के अध्यक्ष के रूप में आपके द्वारा शुरू किए गए सराहनीय कार्यों को जारी रखने के लिए दिशा, समर्थन और प्रोत्साहन के लिए आपकी ओर देखते हैं। सिंह ने कहा कि ''कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं जब उनके कुछ बयानों ने राज्य के पार्टी नेताओं को दुख पहुंचाया है और भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व को भी शर्मिंदा किया है।" वहीं भाजपा की बंगाल इकाई के अन्य वरिष्ठ नेताओं ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने ट्विटर पर कहा कि यह घटनाक्रम भाजपा खेमे में एकता की कमी को दर्शाता है।लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाUP Board Result 2020: जानिए कब आएगा यूपी बोर्ड परीक्षाओं का रिजल्ट, डिप्टी सीएम ने दी जानकारी******उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद, प्रयागराज (UP Board) के 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट (UP Board Result 2020) को लेकर यूपी के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने जानकारी दी है। दिनेश शर्मा ने बताया कि बोर्ड परीक्षाओं के परिणाम जून के पहले सप्ताह में जारी किये जा सकते हैं। दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट यूपी माध्यमिक शिक्षा शिक्षा परिषद की ऑफिशल वेबसाइट upresults.nic.in पर जारी किया जाएगा।डिप्टी सीएम ​ने एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में बताया कि यूपी बोर्ड हाई स्कूल और इंटरमीडिएट कक्षाओं की बोर्ड परीक्षाओं की उत्तर-पुस्तिकाओं के मूल्यांकन की प्रक्रिया को कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन को देखते हुए रोक दिया गया था। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन की अवधि समाप्त होते ही आंसर-शीट का मूल्यांकन फिर से शुरू हो जाएगा और संभव है कि जून 2020 के पहले हफ्ते में घोषित कर दिए जाएं।दूसरी तरफ बोर्ड परीक्षा परिणामों की घोषणा बिना उत्तर-पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के जारी किये जाने की सोशल मीडिया पर वायरल हो रही फर्जी खबर का खण्डन बोर्ड के सचिव नीना श्रीवास्तव ने करते हुए जानकारी दी कि यह पूरी तरह से आधारहीन है और उत्तर-पुस्तिकाओं के मूल्यांकन की तिथियां लॉकडाउन के बाद निर्धारित की जाएंगी।गौरतलब है कि लॉकडाउन के कारण ​आंसरशीट मूल्यांकन प्रक्रिया का काम 19 मार्च से बंद है ​ इसलिए बाकी बची कॉपी जांच के लिए बोर्ड को अभी 20-25 दिनों की जरूरत है और रिजल्ट प्रोसेस करने के लिए करीब 10 दिन चाहिए। लॉकडाउन खुलने पर आंसशीट मूल्यांकन का काम तेजी से किया जाएगा और जून के पहले हफ्ते में रिजल्ट जारी करने की उम्मीद है। यूपी बोर्ड 10वीं-12वीं के रिजल्ट को लेकर कई तरह के भ्रामक मैसेज सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं जिनमें से एक मैसेज में कहा जा रहा था कि यूपी बोर्ड 10वीं-12वीं के छात्रों को बिना एग्जाम अगली कक्षा में प्रमोट करेगा। ये सभी फेक मैसेज हैं और इस तरह के मैसेज से सावधान रहे किसी भी तरह की जानकारी के लिए केवल यूपी बोर्ड की ऑफिशल वेबसाइट को ही देखें।

50 लाख रुपए तक सालाना आय वालों के लिए होगा सिर्फ 1 पेज का इनकम टैक्‍स रिटर्न फॉर्म, 1 अप्रैल से लागू होगी व्‍यवस्‍था

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाAuto कंपनियों की बिक्री ने पकड़ी रफ्तार, मारुति, हुंदै, टाटा और महिंद्रा की गाड़ियों ने बाजार में मचाई धूम******कंपनियों की बिक्री ने एक बार फिर रफ्तार पकड़ी है। देश की सभी प्रमुख कार कंपनियों की बिक्री में इजाफा हुआ है। मारुति सुजुकी, हुंदै, टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा (एमएंडएम) जैसी प्रमुख वाहन कंपनियों की घरेलू बाजार में यात्री वाहनों की बिक्री में एक से दो अंक का उछाल आया है। अन्य कंपनियों में किआ इंडिया, टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम), होंडा कार्स इंडिया, स्कोडा ऑटो इंडिया की बिक्री भी मजबूत रही है। वाहन उद्योग का अनुमान है कि इस साल जुलाई में यात्री वाहनों की थोक बिक्री सबसे ऊंची रही है।मारुति सुजुकी इंडिया ने कहा कि उसकी घरेलू यात्री वाहन बिक्री जुलाई, 2022 में 6.82 प्रतिशत बढ़कर 1,42,850 इकाई पर पहुंच गई। जुलाई, 2021 में कंपनी ने घरेलू बाजार में 1,33,732 यात्री वाहन बेचे थे। कंपनी ने बयान में कहा कि इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की कमी का वाहनों के उत्पादन पर मामूली प्रभाव पड़ा। कंपनी के कॉम्पैक्ट वाहनों--- बलेनो, सेलेरियो, डिजायर, इग्निस, स्विफ्ट, टूर एस और वैगन आर की बिक्री जुलाई, 2022 में बढ़कर 84,818 इकाई हो गई, जो एक साल पहले के इसी महीने महीने में 70,268 इकाई थी। मारुति के वरिष्ठ निदेशक (विपणन एवं बिक्री) शशांक श्रीवास्तव ने बताया कि उद्योग की कुल बिक्री पिछले महीने 3.42 लाख इकाई से अधिक रही। यह उद्योग में थोक बिक्री का अबतक का सबसे ऊंचा आंकड़ा है। उन्होंने कहा कि इससे पहले अक्टूबर, 2020 में बिक्री का आंकड़ा 3.34 लाख इकाई रहा था।इसके अलावा, वाहन क्षेत्र की एक और प्रमुख कंपनी हुंदै मोटर इंडिया की इस साल जुलाई में घरेलू बाजार में बिक्री 5.1 प्रतिशत बढ़कर 50,500 इकाई पर पहुंच गई। एक साल पहले इसी महीने में कंपनी ने 48,042 वाहन बेचे थे। । हुंदै मोटर इंडिा के निदेशक (बिक्री, विपणन एवं सेवा) तरुण गर्ग ने कहा कि सेमीकंडक्टर की स्थिति में सुधार से यात्री वाहन खंड में सकारात्मक रुझान देखा गया, जिससे वाहनों की मांग बढ़ी है। वहीं, टाटा मोटर्स की जुलाई में घरेलू बाजार में यात्री वाहनों की बिक्री 57 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 47,505 इकाई पर पहुंच गई, जो एक साल पहले इसी महीने में 30,185 इकाई रही थी। कंपनी ने कहा कि पिछले महीने उसने 4,022 यात्री इलेक्ट्रिक वाहन बेचे। पिछले साल जुलाई माह में यह आंकड़ा 604 इकाई का रहा था। इसी तरह, महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड (एमएंडएमएल) की जुलाई में घरेलू यात्री वाहनों की कुल बिक्री सालाना आधार पर 33 प्रतिशत बढ़कर 28,053 इकाई हो गई। कंपनी ने एक साल पहले के इसी महीने में 21,046 इकाइयां बेची थीं। पिछले महीने कंपनी के उपयोगिता वाहनों की बिक्री 34 प्रतिशत बढ़कर 27,854 इकाई रही, जो एक साल पहले इसी महीने में 20,797 इकाई थी।किआ इंडिया की थोक बिक्री जुलाई, 2022 में 47 प्रतिशत बढ़कर 22,022 इकाई हो गई। कंपनी ने जुलाई, 2021 में 15,016 इकाइयां बेची थीं। किआ इंडिया के उपाध्यक्ष और बिक्री एवं विपणन प्रमुख हरदीप सिंह बरार ने बयान में कहा कि आपूर्ति श्रृंखला में सुधार और ग्राहकों में ब्रांड की लोकप्रियता कंपनी के विकास को गति दे रही है। एक अन्य वाहन कंपनी टोयोटा किर्लोस्कर मोटर (टीकेएम) की जुलाई में थोक बिक्री 19,693 इकाई रही, जो किसी भी महीने के मुकाबले सबसे अधिक है। यह जुलाई, 2021 में बेची गई 13,105 इकाइयों से 50 प्रतिशत अधिक है। वहीं स्कोडा ऑटो की थोक बिक्री जुलाई, 2022 में 44 प्रतिशत बढ़कर 4,447 इकाई रही। कंपनी ने जुलाई, 2021 में 3,080 वाहन बेचे थे। वाहन विनिर्माता होंडा कार्स इंडिया लिमिटेड (एचसीआईएल) की घरेलू बिक्री पिछले महीने 12 प्रतिशत बढ़कर 6,784 इकाई पर पहुंच गई। कंपनी ने सोमवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा कि उसने पिछले साल जुलाई में घरेलू बाजार में 6,055 इकाइयों और विदेशी बाजारों में 918 इकाइयों की बिक्री की थी। सिटी और अमेज की विनिर्माता कंपनी ने भी पिछले महीने 2,104 इकाइयों का निर्यात किया। दूसरी ओर, एमजी मोटर इंडिया की जुलाई में खुदरा बिक्री पांच प्रतिशत की गिरावट के साथ 4,013 इकाई रह गई। इस दौरान उत्पादन आपूर्ति श्रृंखला की बाधाओं से प्रभावित था। कंपनी ने पिछले साल इसी महीने में 4,225 इकाइयों की खुदरा बिक्री की थी।लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाMaharashtra News: आज ED के सामने पेश नहीं होंगे संजय राउत, कहा-समय मांगूंगा******Highlightsशिवसेना (Shiv Sena) नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा कि आज वे ईडी (ED) के सामने पेश नहीं हो पाएंगे। अभी पार्लियामेंट का सेशन चल रहा है। उन्होंने कहा कि ईडी का समन आएगा इसकी मुझे पहले से ही कल्पना थी। उन्होंने कहा कि लोकशाही की खुलेआम हत्या हो रही है। संजय राउत ने सुप्रीम कोर्ट से न्याय की उमीद जताई है और कहा कि हमे देश के सर्वोच्च न्यायालय पर पूरा विश्वास है, देश का लोकतंत्र अभी मरा नहीं है।असली नकली का मामला ही नहीं-राउतसंजय राउत ने कहा-असली नकली का मामला ही नहीं है। शिवसेना बाला साहब ठाकरे जी की है। अब ये जो नकली वाले हैं हमसे टूटे हुए फूटे हुए लोग वो ये भी कह सकते हैं कि बाला साहब ठाकरे को हमने ही पार्टी में लाया था या उद्धव ठाकरे को हमने ही शिवसेना प्रमुख बनाया है।शिन्दे गुट चांद पर भी अपना ऑफिस खोल सकता है-राउतहमारे पत्र का अध्यक्ष मोहदय ने उत्तर नही दिया और उनके पत्र पर तुरंत संज्ञान भी लिया जाता है। राहुल शिवाले जो कह रहे है वो गलत है। ब्लू सी होटल में बीजेपी-शिवसेना का 50-50 का फॉर्मूला तय हुआ था, लेकिन बीजेपी ने अपने शब्द नहीं पाले। आज भी हम , जो छोड़ कर चले गए, उन्हें अपना ही मानते हैं।उन्होंने तंज कसते हुए कहा-शिन्दे गुट चांद पर भी अपना ऑफिस खोल सकता है।क्या है गोरेगांव पात्रा चाल केसदरअसल ED ने अप्रैल में संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत और उनके दो पार्टनर्स की 11.15 करोड़ रुपये की संपत्ति को जब्त किया था। ED ने गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड, राकेश कुमार वाधवान, सारंग कुमार वाधवान, गुरु आशीष के पूर्व निदेशक प्रवीण राउत के खिलाफ मार्च 2018 में मुंबई पुलिस की EOW की एफआईआर के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की थी। कंस्ट्रक्शन, और एक MHADA अधिकारी द्वारा दायर एक शिकायत के आधार पर जांच शुरू हुई थी।पात्रा चॉल के किरायेदारों के लिए शुरू की थी पुनर्वास परियोजनागुरु आशीष कंस्ट्रक्शन ने गोरेगांव में पात्रा चॉल के 672 किरायेदारों के पुनर्वास के लिए परियोजना शुरू की थी। ED ने दावा किया कि 672 किरायेदारों के पुनर्वास के अलावा, गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन को कुछ बने हिस्सों को MHADA को देना था। लेकिन डेवलपर ने इमारतों और म्हाडा के हिस्सों के निर्माण के बिना ही पुनर्वास परियोजना के फ्लोर स्पेस इंडेक्स को नौ बिल्डरों को बेच दिया और उनसे 901.79 करोड़ रुपए दिए । डेवलपर ने साइट पर प्रोजेक्ट लॉन्च करते समय संभावित फ्लैट खरीदारों से कई करोड़ रुपये की अतिरिक्त राशि भी एकत्र की, ये कथित भूमि घोटाला 1,034 करोड़ रुपये का बताया जा रहा है ।100 करोड़ रुपये प्रवीण राउत के खाते में हुए थे ट्रांसफरED ने जांच की तो पता चला कि तकरीबन 100 करोड़ रुपये रियल एस्टेट कंपनी HDIL से प्रवीण राउत के आकंट्स में ट्रांसफर किए गए थे, जिन्होंने इन फंडों का एक हिस्सा अपने करीबी सहयोगियों, परिवार के सदस्यों और बिजनेस ग्रुप के अलग खातों में भेज दिया था। ईडी ने कहा, '2010 में, इस आय का एक हिस्सा 83 लाख रुपये वर्षा राउत को प्रवीण राउत की पत्नी माधुरी से मिला । वर्षा ने इस राशि का उपयोग दादर में फ्लैट खरीदने के लिए किया जिसे भी ED ने जब्त किया है और ईडी की जांच शुरू होने के बाद माधुरी को 55 लाख रुपये वापस कर दिए।जमीन के सौदे में कैश का इस्तेमालED की जांच में ये भी पता चला कि वर्षा राउत और स्वप्ना पाटकर के नाम पर अलीबाग के किहिम बीच पर 8 प्लॉट खरीदे गए थे । इस जमीन के सौदे कैश का इस्तेमाल किया गया था । ED ने कहा कि प्रवीण राउत की इन संपत्तियों और अन्य संपत्तियों की पहचान करने पर, उन्हें जब्त कर लिया गया ।संजय राउत का करीबी है प्रवीणराउतED ने इस मामले में 11.15 करोड़ रुपये की अचल संपत्तियों को जब्त किया है, जिसमें दादर में राउत की पत्नी वर्षा के पास एक फ्लैट और स्वप्ना पाटकर के साथ अलीबाग के पास किहिम में लिए गए आठ प्लॉट भी शामिल हैं। स्वपना शिवसेना नेता के करीबी सहयोगी सुजीत पाटकर की पत्नी हैं। ईडी ने इस मामले में प्रवीण राउत को फरवरी में गोरेगांव इलाके से गिरफ्तार किया था, वो फिलहाल ज्यूडिशियल कस्टडी में है। प्रवीण राउत गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के पूर्व निदेशक हैं और संजय राउत के करीबी हैं ।

50 लाख रुपए तक सालाना आय वालों के लिए होगा सिर्फ 1 पेज का इनकम टैक्‍स रिटर्न फॉर्म, 1 अप्रैल से लागू होगी व्‍यवस्‍था

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍था'आंग सान सू ची' को पांच साल की जेल, भ्रष्टाचार के मामले में अदालत ने ठहराया दोषी******Highlights सैन्य शासित म्यांमा की एक अदालत ने देश की पूर्व नेता 'आंग सान सू ची' को भ्रष्टाचार के मामले में दोषी ठहराया और उन्हें बुधवार को पांच साल की जेल की सजा सुनायी। पिछले साल फरवरी में सेना द्वारा तख्तापलट के बाद सत्ता से बाहर कर दी गयीं सू ची ने इस आरोप से इनकार कर दिया था कि उन्होंने एक शीर्ष राजनीतिक सहकर्मी से घूस के तौर पर सोना और हजारों डॉलर लिए थे।इस अपराध के तहत अधिकतम 15 साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान है। उनके समर्थकों और स्वतंत्र विधि विशेषज्ञों ने उनकी सजा की निंदा करते हुए इसे अनुचित और 76 वर्षीय सू ची को राजनीति से हटाने के मकसद से उठाया गया कदम बताया।उन्हें अन्य मामलों में पहले ही छह साल की कैद की सजा सुनायी जा चुकी है। सजा की खबर एक विधि अधिकारी के हवाले से आयी, जिन्होंने नाम न उजागर करने की शर्त पर यह जानकारी दी। राजधानी नेपीता में सू ची के मुकदमे की सुनवाई बंद कमरे में हुई और उनके वकीलों को मीडिया से बात करने से रोक दिया गया था। इनपुट-भाषा

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाUS Open 2022: नडाल ने जीत के साथ की शुरुआत, वीनस, राडुकानू और ओसाका पहले दौर में हारकर बाहर******Highlightsसाल के आखिरी ग्रैंडस्लैम यूएस ओपन 2022 में स्पेनिश दिग्गज राफेल नडाल ने जीत के शुरुआत की है। 22 बार के ग्रैंडस्लैम विजेता नडाल को पुरुष एकल के पहले राउंड के पहले गेम में दुनिया के 198वें रैंक के खिलाड़ी रिंकी हिजिकाता ने 6-4 से हराया। लेकिन इसके बाद नडाल ने जोरदार वापसी करते हुए लगातार तीन गेम 6-2, 6-3, 6-3 से जीतकर दूसरे दौर में पहुंच गए।महिला वर्ग में कई उलटफेर देखने को मिले। 91वीं बार ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में हिस्सा ले रहीं दिग्गज महिला खिलाड़ी वीनस विलियम्स लगातार दूसरी बार पहले दौर में हारकर बाहर हो गईं। जबकि महिला एकल में मौजूदा चैंपियन एम्मा राडुकानू भी पहले दौर से आगे नहीं बढ़ पाई।जून में अपना 42 वां जन्मदिन मनाने वाली वीनस को ऑर्थर ऐस स्टेडियम में अपनी छोटी बहन सेरेना की तरह दर्शकों का अपार समर्थन नहीं मिला और सात बार की ग्रैंड स्लैम चैंपियन सीधे सेटों में भी हार गई। वीनस को मंगलवार को खेले गए मैच में एलिसन वैन उयतवांक से 6-1, 7-6 (5) से हार झेलनी पड़ी। सेरना जहां संन्यास लेने की बात कर चुकी है वहीं वीनस ने अभी तक ऐसा कोई संकेत नहीं दिया है। वीनस 2020 से पहले कभी यूएस ओपन के पहले दौर में बाहर नहीं हुई थी। उन्होंने पिछले साल इस टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लिया था।इस बीच राडुकानू पहले दौर में हारने वाली केवल तीसरी यूएस ओपन चैंपियन बन गई। उन्हें एलिज़े कॉर्नेट ने 6-3, 6-3 से हराया। राडुकानू ने पिछले साल क्वालीफायर के रूप में यूएस ओपन में भाग लिया था और वह चैंपियन बनने में सफल रही थी लेकिन इस बार कॉर्नेट के सामने उनकी एक नहीं चली।महिला एकल में वान उयतवांक का सामना अब क्लारा ब्यूरेल से होगा, जिन्होंने विंबलडन चैंपियन एलेना रयबाकिना को 6-4, 6-4 से हराया। महिला वर्ग में पूर्व नंबर एक खिलाड़ी जापान की नाओमी ओसाका भी पहले दौर में उलटफेर का शिकार हुईं। उन्हें डैनिएल कोलिंस ने 6-3, 7-6 से हराया।2017 की चैंपियन स्लोएन स्टीफेंस, नंबर एक इगा स्विएटेक, नंबर छह आर्यना सबालेंका, नंबर आठ जेसिका पेगुला, नंबर नौ गार्बिने मुगुरुजा, नंबर 13 बेलिंडा बेनसिच और नंबर 22 करोलिना प्लिस्कोवा भी आगे बढ़ने में सफल रही।पुरुष वर्ग में जिन खिलाड़ियों ने अगले दौर में जगह बनाई उनमें 2014 के चैंपियन मारिन सिलिच, नंबर तीन कार्लोस अल्काराज़, नंबर सात कैमरन नोरी, नंबर आठ ह्यूबर्ट हर्काज़, नंबर नौ आंद्रे रुबलेव, नंबर 11 यानिक सिनर और नंबर 17 ग्रिगोर दिमित्रोव शामिल हैं।लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थादो करोड़ रुपए तक की कमाई वाली कंपनियों को जीएसटी रिटर्न दाखिल करने में मिल सकती है छूट******GST return (वस्तु एवं सेवा कर) परिषद दो करोड़ रुपए से कम कमाई करने वाले को दाखिल करने से छूट देने के प्रस्ताव पर चर्चा के लिए तैयार है। वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि रिटर्न दाखिल करने की तिथि तीन बार बढ़ाए जाने के बावजूद अभी तक संतोषजनक संख्या में रिटर्न दाखिल नहीं हुए हैं। एक अधिकारी ने कहा, "अंतिम तिथि बढ़ाने के बावजूद 25-27 फीसदी ही रिटर्न दाखिल हुआ है। जीएसटी परिषद इस मुद्दे पर 20 सितंबर को होनेवाली बैठक में चर्चा करेगी।" उन्होंने आगे कहा कि परिषद यह तय करेगी कि अनिवार्य रिटर्न फाइलिंग आवश्यकता को केवल वित्त वर्ष 2017-18 के लिए या बाद के वित्तीय वर्षो के लिए भी निलंबित किया जाए।उन्होंने कहा कि इस बार परिषद द्वारा विभिन्न संरचनात्मक मुद्दों पर विचार किया जाएगा। उन्होंने कहा, "एक विचार यह भी है कि सरकार को यह देखने के लिए 30 नवंबर तक इंतजार करना चाहिए कि रिटर्न फाइलिंग की संख्या बढ़ती है या नहीं।" आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, कुल 1.39 करोड़ करदाता में से करीब 85 फीसदी का सालाना कारोबार 2 करोड़ रुपये या उससे कम है।कर विशेषज्ञों का कहना है कि छोटे करदाताओं को सालाना रिटर्न दाखिल करने से राहत देने के प्रस्तावित कदम से अनुपालन बोझ कम होगा और कर अधिकारियों को बड़े करदाताओं पर ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलेगी। धुव्र एडवाइजर्स के पार्टनर (इनडायरेक्ट टैक्स प्रैक्टिस) अमित भागवत ने कहा, "शायद पुनर्विचार की आवश्यकता है। एक विचार है कि छोटे करदाताओं पर अनुपालन का बोझ क्यों डाला जाए, क्योंकि प्रणाली भी बहुत मजबूत नहीं है।"डेलोइट इंडिया के पार्टनर एम. एस. मनी का कहना है कि जीएसटी के क्रियान्वयन के दौरान ज्यादा छोटे व्यवसायियों और कारोबारियों को जीएसटी के अनुपालन में परेशानी का सामना करना पड़ा था। अगर उन्हें राहत दी जाती है तो सूक्ष्य, लघु और मध्यम उद्यमों () को बड़ी राहत मिलेगी।

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थारूस-यूक्रेन तनाव: रूसी बमवर्षक विमानों ने बेलारूस में उड़ान भरी******Highlights रूस द्वारा यूक्रेन पर हमले की आशंका बढ़ गई है। रूसी बमवर्षक विमानों ने बेलारूस में उड़ान भरी है। बेलारूस की सीमा यूक्रेन से लगती है। यहां रूस पहले ही यहां 1 लाख सैनिकों को जमा किए हुए है। रूस ने यूक्रेन के साथ तनाव बढ़ने के बीच अपने सहयोगी बेलारूस में लंबी दूरी के परमाणु संपन्न बमवर्षक विमानों को शनिवार को गश्त पर भेजा। रूस के रक्षा मंत्रालय ने बताया कि दो टीयू-22एम3 बमवर्षक विमानों ने बेलारूस की वायुसेना और वायु रक्षा के साथ चार घंटे के अभियान के दौरान अभ्यास किया। इसमें बेलारूस में गश्त करते हुए विमानों ने कई बार उड़ान भरी। बेलारूस की सीमा यूक्रेन के उत्तर से लगती है।यह मिशन ऐसे समय में चलाया गया, जब क्रेमलिन ने साइबेरिया तथा सुदूर पूर्वी क्षेत्र से अपने सैनिकों को बेलारूस भेज दिया है। इस तैनाती के साथ यूक्रेन के समीप रूस का सैन्य जमावड़ा बढ़ गया है रूस द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण करने की आशंका बढ़ गई है। उधर, नाटो देशों की सुरक्षा के लिए अमेरिका यूरोप में सैनिकों की तैनाती कर रहा है। नाटो संगठन के अनुसार नाटो देशों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए अमेरिका भी अपने 6 फाइटर एअरक्राफ्ट भेज चुका है। नाटो के मुताबिक अमेरिका ने बाल्टिक देशों के एअर पुलिसिंग मिशन के तहत ये फाइटरजेट भेजे हैं। अमेरिका और बेल्जियन एअरफोर्स ने मिलकर एस्टोनिया, लातविया और लिथुआनिया जैसे बाल्टिक देशों की सुरक्षा के लिए अपनी सुरक्षा गतिविधियां इस इलाके में बढ़ा दी हैं।बता दें कि यूएस एअरफोर्स के एअरक्राफ्ट की तैनाती का उद्देश्य नाटो देशों की सुरक्षा और संप्रभुता की रक्षा करना है। क्योंकि रूस ने एक लाख से ज्यादा सैनिक यूक्रेन सीमा पर तैनात कर रखे हैं, इससे पूर्वी यूरोप के नाटो देशों पर सुरक्षा को लेकर खतरा मंडरा रहा है। यही कारण है कि अमेरिका भी यूरोप में अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ा रहा है। फाइटर एअरक्राफ्ट भेजने के साथ ही यूक्रेन पर रूस के सैन्य आक्रमण की आशंका के बीच नाटो के पूर्वी हिस्से पर अपने सहयोगियों के प्रति अमेरिकी कटिद्धता प्रदर्शित करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति जो.बाइडन करीब 2 हजार सैनिक पोलैंड और जर्मनी भेज रहे हैं। जर्मनी से भी 1000 सैनिक रोमानिया पहुंचा रहे हैं।लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाWPI Inflation: राहत की खबर, लगातार तीसरे महीने घटी थोक महंगाई, लेकिन खाने पीने के सामान हुए महंगे******महंगाई के मोर्चे पर राहत भरी खबर है। लगातार तीसरे महीने वस्तुओं की थोक महंगाई में कमी दर्ज की गई है। सांख्यिकी विभाग द्वारा ताजा आंकड़ों के अनुसार थोक कीमतों पर आधारित मुद्रास्फीति अगस्त में घटकर 12.41 प्रतिशत पर आ गई। लेकिन आम लोगों के जीवन से सबसे करीबी से जुड़ी खाद्य वस्तुओं के दामों में तेजी दर्ज की गई है। लेकिन इसके बावजूद विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में नरमी से मुद्रास्फीति का आंकड़ा घटा है।बुधवार को जारी आंकड़ों के अनुसार थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित मुद्रास्फीति इससे पिछले महीने, जुलाई में 13.93 फीसदी थी। यह पिछले साल अगस्त में 11.64 फीसदी थी। डब्ल्यूपीआई मुद्रास्फीति में लगातार तीसरे महीने गिरावट का रुख देखने को मिला है। इससे पहले पिछले साल अप्रैल से लगातार 17वें महीने में यह दहाई अंकों में रही।डब्ल्यूपीआई इस वर्ष मई में 15.88 फीसदी के रिकॉर्ड ऊंचे स्तर पर पहुंच गई थी। अगस्त में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति बढ़कर 12.37 प्रतिशत पर पहुंच गई, जो जुलाई में 10.77 प्रतिशत थी। अगस्त महीने में सब्जियों के दाम जुलाई में घटकर 22.29 फीसदी पर आ गए, जो पिछले महीने 18.25 फीसदी पर थे। ईंधन और बिजली में महंगाई दर अगस्त में 33.67 फीसदी रही, जो इससे पिछले महीने 43.75 फीसदी थी। विनिर्मित उत्पादों और तिलहन की मुद्रास्फीति क्रमशः 7.51 प्रतिशत और नकारात्मक 13.48 प्रतिशत थी।भारतीय रिजर्व बैंक मुख्य रूप से मौद्रिक नीति के जरिए मुद्रास्फीति को नियंत्रित रखता है। खुदरा मुद्रास्फीति लगातार आठवें महीने भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा तय लक्ष्य से ऊपर रही। अगस्त में यह 7 प्रतिशत पर थी। महंगाई पर काबू पाने के लिए आरबीआई ने इस साल प्रमुख ब्याज दर को तीन बार बढ़ाकर 5.40 फीसदी कर दिया है। केंद्रीय बैंक ने 2022-23 में खुदरा मुद्रास्फीति के 6.7 प्रतिशत पर रहने का अनुमान जताया है।

लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाएक्सिस बैंक का साथ नहीं छोड़ेंगी शिखा शर्मा, बोर्ड ने तीन साल के लिए और बढ़ाया उनका कार्यकाल****** निजी क्षेत्र के तीसरे सबसे बड़े बैंक एक्सिस बैंक ने तीसरी बार शिखा शर्मा का कार्यकाल बढ़ाते हुए उन्हें और तीन साल के लिए बैंक का प्रबंध निदशेक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया है। अब वह जून 2021 तक बैंक का नेतृत्व करती रहेंगी। इसके साथ ही शिखा शर्मा के बैंक से हटने को लेकर चल रही तमाम अफवाहों पर विराम लग गया।बैंक ने आज दोपहर भेजी गई नियामकीय जानकारी में कहा, बैंक के निदेशक मंडल की 26 जुलाई को हुई बैठक में शिखा शर्मा को तीन साल के लिए फिर से बैंक की प्रबंध निदशेक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई। उनका यह नया कार्यकाल एक जून 2018 से शुरू होगा।बैंक की तरफ से अचानक हुई यह घोषणा शिखा शर्मा का मौजूदा कार्यकाल समाप्त होने के 11 महीने पहले हुई है। वास्तव में शिखा शर्मा ने आज दिन में जो कुछ कहा उसके बाद हर कोई उनके अगले कदम को लेकर अटकलें लगाने लगा। उन्होंने इससे पहले दिन में संवाददाताओं से कहा, आपको बोर्ड से उचित समय पर घोषणा सुनने के लिए प्रतीक्षा करनी चाहिए। मेरा काम इस समय उनके साथ काम पर ध्यान देने में है। हमें टीम के साथ काम करना है और हम अपने ग्राहकों और संबंधित पक्षों के लिए जो भी बेहतर कर सकते हैं वह करेंगे।59 साल की शिखा का जून 2018 में दूसरा कार्यकाल पूरा होने जा रहा है। वह 2009 में बैंक से पांच साल के लिए जुड़ी थीं और उनका कार्यकाल उसके बाद बढ़ाया गया।हाल की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने उनसे समूह की वित्‍तीय सेवा इकाई की जिम्मेदारी संभालने का संकेत दिया था। हालांकि बैंक ने इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया।लाखरुपएतकसालानाआयवालोंकेलिएहोगासिर्फ1पेजकाइनकमटैक्‍सरिटर्नफॉर्म1अप्रैलसेलागूहोगीव्‍यवस्‍थाNorth Korea: दक्षिण कोरिया और अमेरिका के संयुक्त सैन्य अभ्यास के बीच उत्तर कोरिया ने किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण, हालंकि किसी नुकसान की खबर नहीं******Highlightsउत्तर कोरिया ने रविवार को अपने पूर्वी समुद्री तट की ओर छोटी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया। प्योंगयांग ने दक्षिण कोरिया के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास के लिए एक अमेरिकी विमानवाहक पोत के सोल पहुंचने के बीच यह कदम उठाया। अमेरिका और दक्षिण कोरिया एशियाई प्रायद्वीप में उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम से बढ़ते खतरे के मद्देनजर यह संयुक्त सैन्य अभ्यास कर रहे हैं।दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने बताया कि पश्चिमी शहर ताइकॉन से दागी गई इस मिसाइल ने उत्तर कोरिया के पूर्वी तट पर समुद्र की गोद में समाने से पहले खुले आसमान में उड़ान भरी। हालांकि, दक्षिण कोरियाई सेना ने अभी इस परीक्षण के बारे में कोई और विवरण साझा नहीं किया है, जिसमें मिसाइल का प्रकार, खूबियां और मारक क्षमता, आदि शामिल है। उत्तर कोरिया ने इस साल अपनी मिसाइल परीक्षण गतिविधियां तेज कर दी हैं। वर्ष 2022 में वह अब तक 30 से अधिक बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण कर चुका है, जिसमें 2017 के बाद पहली बार एक अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल की आजमाइश भी शामिल है। यह मिसाइल प्रक्षेपण ऐसे समय में किया गया है, जब अमेरिका का परमाणु चालित विमानवाहक पोत यूएसएस रोनाल्ड रीगन और उसका एक लड़ाकू दस्ता संयुक्त सैन्य अभ्यास के लिए दक्षिण कोरिया पहुंचा है।इस बीच, जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने एक बयान जारी कर कहा कि हालांकि, परीक्षण से तत्काल किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं है, लेकिन तोक्यो उत्तर कोरिया के मिसाइल प्रक्षेपण के बारे में जानकारी जुटाने और जहाजों व विमानों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की ‘पूरी कोशिश’ कर रहा है। उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम से बढ़ते खतरे का मुद्दा अगले हफ्ते सोल की यात्रा पर जा रहीं अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की द्विपक्षीय मुलाकातों का मुख्य एजेंडा भी हो सकता है। हैरिस तोक्यो में जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे के राजकीय अंतिम संस्कार में शामिल होने के बाद दक्षिण कोरिया रवाना होंगी।

सम्बंधित जानकारी
गर्म सामग्री