Power Crisis: भीषण गर्मी के बीच बिजली संकट से देश भर में मचा हाहाकार! कश्मीर से कन्याकुमारी तक 8-8 घंटे कटौती की मार

समय:2022-09-30 22:44:51स्रोत:संवेदनशीलता नेटवर्क लेखक:नाननिंग सिटी

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमार‘अनुच्छेद 370 और 35ए को समाप्त कर मोदी ने भारत में आतंक के प्रवेशद्वार को बंद किया’******आज देश के पहले गृहमंत्री की 144 जयंती है। इस अवसर पर पूरे देश में कार्यक्रम हुए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जहां गुजरात के केवडिया में सरदार को श्रद्धांजलि दी वही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और गृहमंत्री अमित शाह ने दिल्ली में संसद मार्ग पर सरदार पटेल की प्रतिमा पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर अमित शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए जम्मू कश्मीर में आतंकवाद के मुख्य रास्ते थे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दोनों को समाप्त कर उस प्रवेशद्वार को बंद कर दिया है।शाह ने यह भी कहा कि जम्मू कश्मीर का बाकी देश के साथ एकीकरण का सरदार वल्लभभाई पटेल का अधूरा सपना पांच अगस्त को पूरा हुआ जब अनुच्छेद 370 और 35ए रद्द किये गए। पटेल की 144वीं जयंती के मौके पर यहां ‘एकता दौड़’ की शुरुआत करते हुए उन्होंने कहा, “अनुच्छेद 370 और 35ए भारत में आतंकवाद का रास्ता थे। प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें रद्द कर इस प्रवेशद्वार को बंद कर दिया है।”अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने वाला प्रस्ताव संसद के दोनों सदनों में अगस्त में पेश करने वाले शाह ने कहा कि जब भारत को आजादी मिली थी उस वक्त यहां 550 से ज्यादा रियासतें थीं और सब को लगता था कि भले ही भारत को आजादी मिल गई हो लेकिन देश विघटित ही रहेगा। शाह ने कहा कि उस वक्त महात्मा गांधी ने सारी रियासतों के भारत संघ में विलय की जिम्मेदारी पटेल को सौंपी थीं और इस काम को पटेल ने उत्कृष्टता से पूरा किया।उन्होंने कहा कि एक काम पूरा होना बाकी रह गया था और वह काम था जम्मू कश्मीर का भारत संघ में पूर्ण एकीकरण। हजारों लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए शाह ने कहा,‘‘अनुच्छेद 370 और 35ए इस एकीकरण की राह में बड़ी बाधा थे और किसी ने भी इस विषय को हाथ नहीं लगाया। जम्मू कश्मीर का बाकी देश के साथ एकीकरण का सरदार वल्लभभाई पटेल का अधूरा सपना पांच अगस्त को पूरा हुआ जब अनुच्छेद 370 और 35ए रद्द किये गए।’’ गृह मंत्री ने कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव में नरेन्द्र मोदी को मिली प्रचंड जीत के बाद दोनों अनुच्छेदों को समाप्त करने का निर्णय किया गया।शाह ने कहा कि कई वर्षों तक पटेल को वह सम्मान नहीं मिला जिसके वह हकदार थे। उनकी अनदेखी की गई और उन्हें भुलाने तक की कोशिश की गई। पटेल को भारत रत्न नहीं दिया गया, उनकी प्रतिमा नहीं लगाई गई और न ही उनका चित्र लगाने की अनुमति थी। उन्होंने कहा कि जब मोदी प्रधानमंत्री बने तब उन्होंने पटेल को वह सम्मान देना शुरू किया जिसके वह हकदार थे।गुजरात के केवडिया में स्थित पटेल की 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मोदी ने किसानों से लोहे के टुकड़े, गुजरात के हर गांव से मिट्टी और विभिन्न नदियों के पानी लेकर उस शख्स को विनम्र श्रद्धांजलि दी जिन्होंने देश को एकजुट किया। उन्होंने कहा कि भारत का नक्शा जैसा आज दिखता है वह देश की 550 से अधिक रियासतों को एक करने के पटेल के प्रयासों के कारण है।शाह ने कहा,"सरदार पटेल के कारण एकीकृत भारत अस्तित्व में आया और आज हम उन्हें विनम्रतापूर्वक याद करते हैं।’’ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस मौके पर राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार को ‘एकता दौड़’ (रन फॉर यूनिटी) को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया।करीब डेढ़ किलोमीटर लंबी इस दौड़ में हिस्सा लेने वाले लोगों ने सफेद रंग की टी शर्ट पहनी हुई थी और उनके हाथों में पटेल की तस्वीर थी। ये लोग दौड़ में शामिल होने के लिए नेशनल स्टेडियम और इंडिया गेट पर इकट्ठा थे। शाह में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारआपकी अपनी फोटो वाला डेबिट कार्ड 15 मिनट में बना देगा SBI, देश के 143 जिलों में बैंक की विभिन्‍न सेवाएं हुईं ‘फिजिटल’****** भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) ने अपने ग्राहकों की सुविधा के लिए देश के 143 शाखाओं को ‘फिजिटल’ कर दिया है। SBI की ये शाखाएं अत्‍याधुनिक तकनीक से लैस हैं जहां हफ्तों और महीनों में होने वाले काम चंद मिनटों में हो जाते हैं। बैंकिंग सेवाओं के अलावा इन शाखाओं में आप SBI की सहयोगी कंपनियों जैसे लाइफ इंश्‍योरेंस, जनरल इंश्‍योरेंस, म्‍यूचुअल फंड्स, क्रेडिट कार्ड्स और SBI कैप सिक्‍योरिटीज के जरिए ऑनलाइन ट्रेडिंग से जुड़े सारे काम कर सकते हैं। SBI ने इन सब कामों के लिए खास कियोस्‍क लगाया है। ऐसी शाखाओं को SBI ने sbiINTOUCH नाम दिया है।Now, all SBI customers can avail a Quick Photo Debit Card in just a few minutes, at the sbiINTOUCH branches. — State Bank of India (@TheOfficialSBI) sbiINTOUCH शाखाओं में बचत खाता, चालू खाता, पहला कदम, पीपीएफ खाता आदि आसानी से खुलवा सकते हैं। अकाउंट ओपेनिंग कियोस्‍क (AOK) के जरिए ये सारे काम कुछ बटन टच करते ही संपन्‍न हो जाएंगे। इतना ही नहीं डेबिट कार्ड प्रिंटिंग कियोस्‍क की मदद से आप कुछ टच के जरिए अपनी पसंदीदा तस्‍वीर वाला डेबिट कार्ड मात्र 15 मिनट में प्राप्‍त कर सकते हैं। Get a Quick Photo Debit Card of Rupay/Visa/Mastercard variant instantly from the kiosks at sbiINTOUCH. — State Bank of India (@TheOfficialSBI) महत्‍वपूर्ण बात यह है कि डेबिट कार्ड प्रिंट करने के लिए आपका उस खास शाखा में अकाउंट होना भी जरूरी नहीं है। SBI की इन शाखाओं में आप 24 घंटे चेक डिपॉजिट करवा सकते हैं, पासबुक प्रिंट कर सकते हैं साथ ही कैश भी जमा करवा सकते हैं।लोन के लिए किसी का गारंटर नहीं बनें, आपकी भी संपत्ति हो सकती है नीलाम!बिटकॉइन खरीदने वालों के लाखों रुपए डूबे, 11000 डॉलर छूने के बाद 18% टूट गयाभीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारWorld’s Most Polluted cities: दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल हुए दिल्ली और कोलकाता, जहरीली हवा के मामले में भारत से पीछे छूटे पाकिस्तान के शहर******Highlights दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में भारत के दो शहरों का नाम सबसे ऊपर है। दिल्ली और कोलकाता दोनों शहर पूरी दुनिया में सबसे अधिक प्रदुषित है। इसी के साथ मुंबई 14वीं रैंक पर है। इन तीनों शहरों के लोग PM2.5 के स्तर के संपर्क में हैं जो वैश्विक औसत से बहुत अधिक है। 2010 से 2019 तक पीएम2.5 के स्तर में दुनिया के 20 शहरों में से भारत के 18 शहरों में अधिक बढोतरी देखी गई है।17 अगस्त, 2022 को स्वास्थ्य प्रभाव संस्थान (HEI) द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, दो सबसे हानिकारक प्रदूषकों पर केंद्रित है; फाइन पार्टिकुलेट मैटर (PM2.5) और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (NO2) ये दोनों बेहद हानिकारक है। दुनिया के सबसे बड़े शहर और शहरी क्षेत्र सबसे प्रदुषित हवा का सामना करते हैं। दुनिया भर के 7,000 से अधिक शहरों के लिए वायु प्रदूषण और वैश्विक स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों का विस्तृत विश्लेषण 'एयर क्वालिटी एंड हेल्थ इन सिटीज के तरफ से किया जाता है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि शहरीकरण तेजी से बढ़ी है इसके वजह से सबसे अधिक खतरा मेट्रों शहरों में है खासकर विकासशील देशों में पुराने वाहनों, बिजली संयंत्रों, औद्योगिक सुविधाओं और आवासीय खाना पकाने और हीटिंग में ईंधन जलने को नाइट्रोजन डाइऑक्साइड की बढ़ती मात्रा के प्राथमिक कारणों को मुख्य रूप माना गया है।पार्टिकुलेट मैटर प्रदूषण दुनिया भर के ज्ञात हॉटस्पॉट्स पर अधिक ध्यान आकर्षित करता है, NO2 भी एक प्रमुख प्रदूषक है। रिपोर्ट में कहा गया है कि क्योंकि शहर के निवासी घने ट्रैफिक वाली व्यस्त सड़कों के करीब रहते हैं, उन्हें अक्सर ग्रामीण क्षेत्रों के निवासियों की तुलना में अधिक NO2 प्रदूषण के संपर्क में आने का खतरा होता है। हर साल 9 में से 1 मौत के लिए वायु प्रदूषण जिम्मेदार होता है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि लोगों को अब सांस लेनें में दिक्कत हो रही है। कई लोग अनेक प्रकार के बिमारिंयो के शिकार हो रहे हैं। आपको बता दें कि 2019 में 6.7 मिलियन लोगों की मौत हो गई थी इसमें विशेष रूप से युवाओं, बुजुर्गों और हृदय रोगों वाले लोगों पर इसका गहरा प्रभाव पड़ता है।दुनिया भर में वायु गुणवत्ता निगरानी में सुधार की आवश्यकता रिपोर्ट में विकासशील देशों में वायु प्रदूषण के आंकड़ों को देखा गया तो कुछ हदतक का कर रहे हैं लेकिन काफी नहीं है। कई शहरों में जमीनी स्तर की हवा को स्वच्छ करने के लिए काम किया जा रहा हैं कई तकनीकों का सहारा लिया जा रहा है। 2022 डब्ल्यूएचओ वायु गुणवत्ता डेटाबेस के आधार पर भारत में पटना और वाराणसी में जमीनी स्तर पर एक आधिकारिक निगरानी स्टेशन है। हालांकि इन सुधारों के बावजूद बीजिंग अभी भी शीर्ष 20 सबसे प्रदूषित शहरों में शामिल है। यह तथ्य दुनिया भर में बेहतर स्थानीय वायु गुणवत्ता निगरानी बुनियादी ढांचे की आवश्यकता की ओर इशारा करता है। बीजिंग ने अपने हवाई निगरानी स्टेशनों को 2013 में 35 से बढ़ाकर 2019 में 1,000 से अधिक कर दिया है और केवल पांच वर्षों में शहर के वार्षिक पार्टिकुलेट मैटर के स्तर में 36% की गिरावट देखी गई थी। पिछले और निरंतर उच्च स्तर के वायु प्रदूषण के जवाब में बीजिंग ने पिछले एक दशक में कोयले से चलने वाले बिजली संयंत्रों पर कठोर नियंत्रण लागू किया। उन्होंने यातायात से संबंधित प्रदूषण को रोकने के लिए सख्त वाहन उत्सर्जन और ईंधन गुणवत्ता मानकों को भी निर्धारित किया है।

Power Crisis: भीषण गर्मी के बीच बिजली संकट से देश भर में मचा हाहाकार! कश्मीर से कन्याकुमारी तक 8-8 घंटे कटौती की मार

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारAuto Expo 2018 : TVS Motor ने इलेक्ट्रिक स्‍कूटर Creon को किया प्रदर्शित, सिर्फ 5.1 सेकेंड में पकड़ती है 60 की रफ्तार****** के पहले दिन ने अपनी नई Creon को प्रदर्शित किया है। कंपनी का दावा है कि न केवल एक्‍साइटिंग है बल्कि यह पर्यावरण के अनुकूल भी है। TVS Creon में नेक्‍स्‍ट जेनेरेशन का इलेक्ट्रिक मोटर लगा है जिसकी बदौलत यह 5.1 सेंकेड से भी कम समय में 60 की रफ्तार पकड़ लेती है। इसकी टॉप स्‍पीड 80 किमी प्रति घंटा है। इसकी बैटरी को सिर्फ 60 मिनट में 80 फीसदी तक चार्ज किया जा सकता है।TVS Motor ने ऊर्जा सक्षम दोपहिया वाहनों के लिए स्‍मार्ट कनेक्‍टेड गैजेट्स विकसित करने के लिए इंटेल से हाथ मिलाया है। TVS Creon में तीन लीथियम-आयन बैटरीज लगी हैं जो इसे तत्‍काल 12 kW की ताकत देती हैं। ये कॉम्‍पैक्‍ट बैटरियां प्रत्‍येक वॉल्‍यूम के लिए हाई चार्ज सुनिश्चित करती हैं और अपनी डिजाइन की वजह से TVS Creon को कॉम्‍पैक्‍ट बनाती हैं।TVS Motor ने एनर्जी एफिशिएंट टू-व्‍हीलर्स के लिए स्‍मार्ट कनेक्‍टेड टेक्‍नोलॉजी विकसित करने के लिए चिप बनाने वाली दिग्‍गज कंपनी इंटेल से गठजोड़ किया है। हाल ही में कंपनी ने TVS NTorq 125 लॉन्‍च किया है। इसमें इंटरनल कंबशन इंजन है लेकिन यह भारत का पहला स्‍मार्ट कनेक्‍टेड स्‍कूटर है।भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारAmit Malviya: 'इंदिरा गांधी ने सबसे पहले...', बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने दिया यह बयान****** बुलडोजर मामले पर कांग्रेस और बीजेपी के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। बीजेपी के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। उन्होंने मनीष तिवारी के बुलडोजर पर लिखे एक आर्टिकल का जवाब देते हुए कहा कि क्या कांग्रेस पार्टी में मनीष तिवारी से लेकर राहुल गांधी तक हर कोई भूलने की बीमारी से पीड़ित हैं या क्या वे अपने अतीत के बारे में केवल गलत जानकारी रखते हैं? उन्होंने अपने ट्वीट संदेश में कहा कि नाजियों और यहूदियों को भूल जाइए, भारत में इंदिरा गांधी ने सबसे पहले तुर्कमान गेट पर अल्पसंख्यकों पर बुलडोजर के इस्तेमाल का आदेश दिया था।अमित ने कहा कि वहीं अप्रैल 1976 में, आपातकाल के दौरान, इंदिरा गांधी के पुत्र संजय गांधी ने मुस्लिम पुरुषों और महिलाओं को जबरन नसबंदी कराने के लिए मजबूर किया। जब उन्होंने इसका विरोध किया तो तुर्कमान गेट पर बुलडोजर चलाए गए। 20 लोगों की मौत हो गई ​थी।जानिए मनीष तिवारी ने 'बुलडोजर' पर क्या कहा था?मनीष तिवारी ने अपने एक आर्टिकल में लिखा था कि दिल्ली और देश के विभिन्न हिस्सों में सांप्रदायिक संघर्ष से प्रभावित क्षेत्रों में लोगों के घरों और आजीविका को नष्ट करने के लिए बुलडोजर हाल ही में ‘पसंद की गदा’ के रूप में बहुत चर्चा में रहा है। वास्तव में सुप्रीम कोर्ट को ‘बुलडोजर’ के उपयोग पर रोक लगाने के लिए हस्तक्षेप करना पड़ा, जिसे ‘अवैध अतिक्रमण’ हटाने के लिए एक नियमित अभियान के रूप में सख्ती से तैनात किया जा रहा था। दिखावा इतना कमजोर है कि अगर इसके निहितार्थ बहुत ज्यादा नहीं होते तो यह लगभग उपहासपूर्ण होता।मनीष ने लिखा था कि यह स्पष्ट है कि ‘बुलडोजर सिंड्रोम’ हमारे सिस्टम की संस्थागत हार्ड ड्राइव में घुस गया है। समय आ गया है कि उन भारतीय और विदेशी कंपनियों के खिलाफ एक देशव्यापी आंदोलन खड़ा किया जाए, जिनके बुलडोजर और जे.सी.बी. जैसे अन्य भारी उपकरणों का इस्तेमाल नफरत और कट्टरता को बढ़ावा देने के विकृत और दुर्भावनापूर्ण उद्देश्यों के लिए देश के कानून की घोर अवमानना और उल्लंघन में किया जाता है।भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारटेस्ट टीम इंडिया में यूपी के सौरभ कुमार का सेलेक्शन, जानिए कौन है ये खिलाड़ी******श्रीलंका के खिलाफ होने वाली दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान कर दिया गया है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज खत्म होने के बाद विराट कोहली ने टेस्ट कप्तानी छोड़ दी थी, उसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि विराट कोहली की जगह टेस्ट टीम का कप्तान कौन होगा। हालांकि नाम तो कई चल रहे थे, लेकिन सबसे ज्यादा मजबूत दावा रोहित शर्मा का ही था, और हुआ भी यही। टेस्ट टीम की कमान भी रोहित शर्मा को सौंप दी गई है। इस बीच जिस टेस्ट टीम का ऐलान किया गया है, उसमें एक नया नाम शामिल है, वो हैं सौरभ कुमार। बहुत से क्रिकेट फैंस नहीं जानते कि ये सौरभ कुमार आखिर हैं कौन।टेस्ट टीम इंडिया में शामिल किए गए सौरभ कुमार उत्तर प्रदेश के बागपत के रहने वाले हैं। वे आईपीएल में इससे पहले पंजाब किंग्स और राइ​जिंग पुणे सुपरजाइंट्स के साथ रह चुके हैं, डोमेस्टिक क्रिकेट में वे उत्तर प्रदेश के लिए ही खेलते हैं। सौरभ कुमार ने अब तक 46 प्रथम श्रेणी मैच खेले हैं, इसमें वे अब तक 1572 रन बना चुके हैं। उनका औसत करीब​ 29 का है। सौरभ कुमार अब तक दो शतक और आठ अर्धशतक लगा चुके हैं। वहीं अगर लिस्ट ए मैचों की बात करें तो यहां उन्होंने 25 मैच खेले हैं और 173 रन बनाए हैं। इसमें उनका औसत 11 से कुछ अधिक का है, वहीं उनके नाम इसमें एक भी शतक या ​अर्धशतक नहीं है। सौरभ कुमार ने 33 टी20 मैच खेले हैं, उसमें वे 148 रन बना चुके हैं। उनका औसत 12 से कुछ ज्यादा का है। हालांकि यहां भी उनके नाम कोई शतक या अर्धशतक नहीं है।सौरभ कुमार बतौर आलराउंडर खेलते हैं और 46 मैचों में 196 विकेट उनके नाम हैं। लिस्ट ए मैचों में भी वे 37 ​विकेट ले चुके हैं और टी20 में अब तक सौरभ कुमार 24 विकेट झटक चुके हैं। यानी अगर सौरभ कुमार को मौका मिला तो वे गेंद और बल्ले दोनों ने अपना कमाल दिखा सकते हैं। हालांकि सीरीज में केवल दो ही मैच खेले जाने हैं और देखना होगा कि क्या उन्हें भारत की प्लेइंग इलेवन में जगह मिल पाती है या नहीं।

Power Crisis: भीषण गर्मी के बीच बिजली संकट से देश भर में मचा हाहाकार! कश्मीर से कन्याकुमारी तक 8-8 घंटे कटौती की मार

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारस्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कोविड-19 से स्वस्थ हो गये लोगों से प्लाज्मा दान करने की अपील की******नयी दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रविवार को कहा कि भारत में कोविड-19 के मरीजों के स्वस्थ होने की ऊंची दर होने के बावजूद स्वस्थ हो गये मरीज द्वारा प्लाज्मा दान करने में गति नहीं आयी है। उन्होंने लोगों से इस महामारी का मुकाबला करने के लिए आगे आने का आह्वान किया।स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि उन्होंने यहां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में प्लाज्मा दान अभियान का शुभारंभ किया जिसका आयोजन एम्स और दिल्ली पुलिस ने मिलकर किया। इस मौके पर कोविड-19 संक्रमण से मुक्त हो चुके दिल्ली पुलिस के 26 कर्मियों ने प्लाज्मा दान किया।हर्षवर्धन ने कहा कि यह बहुत निराशाजनक बात है कि दिल्ली पुलिस के एक दर्जन कर्मी कोरोना वायरस के चलते मर गये लेकिन वह इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए अपने कर्मियों को तैनात कर ‘बहुत अच्छा काम’ कर रही है। दिल्ली पुलिस के एक कर्मी-- ओम प्रकाश ने रविवार को तीसरी बार प्लाज्मा दान दिया। स्वास्थ्य मंत्री ने ऐसे लोगों को प्रमाणपत्र सौंपकर उन्हें सलाम किया।उन्होंने कहा कि ये स्वयंसेवक दूसरों को प्लाज्मा दान के लिए प्रेरित करेंगे। स्वास्थ्य मंत्रालय के बयान के अनुसार मंत्री ने कहा, ‘‘ हर दानकर्ता कोविड- 19 पर हमारी जीत के सफर में मायने रखता है और जबतक कोई निश्चित उपचार या टीका विकसित नहीं कर लिया जाता तब तक हमें इस महामारी से लड़ने के लिए अधिक से अधिक प्लाज्मा योद्धाओं की जरूरत है।’’उन्होंने कहा, ‘‘ फिलहाल , इस स्वास्थ्यकारी प्लाज्मा थेरेपी को करूणामय उपयोग के लिए मंजूरी दी जा चुकी है और चौबीसो घंटे इसकी उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न प्लाज्मा बैंक स्थापित किये जा रहे हैं। भारत उन देशों में से एक है, जहां कोविड-19 के मरीजों के स्वस्थ होने की सबसे ऊंची दर है, इसके बावजूद स्वस्थ हो गये मरीज द्वारा प्लाज्मा दान करने में गति नहीं आयी है।’’भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारAgnipath: अग्निवीरों के लिए आनंद महिंद्रा ने की बड़ी घोषणा, ट्वीट कर दी जानकारी******Highlightsसेना की नई भर्ती योजना अग्निपथ के खिलाफ देशभर में विरोध-प्रदर्शन चल रहे हैं। कई जगह यह प्रदर्शन अत्यंत उग्र हो गए। इन्हीं सब के बीच महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने घोषणा की है किअग्निवीरों को महिंद्रा ग्रुप में नौकरी करने का मौका दिया जाएगा।सोमवार सुबह आनंद महिंद्रा ने ट्वीट कर लिखा कि, "अग्निपथ योजना को लेकर हुई हिंसा से दुखी हूं। जब पिछले साल इस योजना पर विचार किया गया था, मैंने कहा था- और मैं इसे फिर दोहराता हूं- अग्निवीरों द्वारा हासिल किया गया अनुशासन और कौशल उन्हें प्रमुख रूप से रोजगार योग्य बना देगा। महिंद्रा समूह ऐसे प्रशिक्षित, सक्षम युवाओं को नौकरी के अवसर देगा।"कहां किया जाएगा इन्हें भर्तीएक यूजर के पूछने पर कि अग्निवीरों को क्या पोस्ट दी जायेगी तो इसपर उन्होंने बताया कि, 'लीडरशिप क्वॉलिटी, टीम वर्क और शारीरिक प्रशिक्षण की वजह से अग्निवीर के रूप में इंडस्ट्री को बाजार के लिए तैयार पेशेवर मिलेंगे. ये लोग एडमिनिस्ट्रेशन, सप्लाई चेन और मैनेजमेंट में कहीं भी काम कर सकते हैं।"आपको बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा लाई गई अग्निपथ स्किम के तहत ही अब तीनों सेनाओं में भर्तियां की जाएंगी। इसके तहत युवाओं को सेना में चार साल के लिए भर्ती किया जाएगा। जिसके बाद इन्हें रिटायर कर दिया जाएगा। साथ ही यह पूर्व सैनिक नहीं बल्कि पूर्व अग्निवीर कहलाए जाएंगे। स्किम के ऐलान के बाद से ही युवा इसका देशभर में विरोध कर रहे हैं। कई जगह विरोध-प्रदर्शन अत्यंत उग्र भी हो गया, जिसमें युवाओं ने ट्रेनों और बसों में आग तक लगा दी।आज बुलाया गया है भारत बंदवहीं अग्निपथ योजना के खिलाफ सेना में नौकरी की कोशिश कर रहे अभ्यर्थियों ने आज भारत बंद बुलाया है। विपक्ष ने भी भारत बंद की अपील का मूक समर्थन किया है। आज भारत बंद से निपटने के लिए रेलवे ने भी कमर कस ली है। RPF और GRP को उपद्रवियों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिये गए हैं। कहा गया है कि हिंसा करने वालों पर कठोर धाराओं में केस दर्ज होंगे।

Power Crisis: भीषण गर्मी के बीच बिजली संकट से देश भर में मचा हाहाकार! कश्मीर से कन्याकुमारी तक 8-8 घंटे कटौती की मार

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारBalika Vadhu 2: शिवांगी जोशी ने मोहसिन खान संग अपने रिश्ते पर तोड़ी चुप्पी, कहा- दर्द होता है जब....****** बालिका वधू में अपने अभिनय से सबका दिल जीत रही हैं। लेकिन 5 सालों तक नायरा का रोल निभाने वाली शिवांगी के फैंस को उन्हें नायरा के रूप में देखने की ही आदत है, एक्ट्रेस ने भी स्वीकार किया है कि वो अभी अपने पिछले चरित्र से आगे नहीं बढ़ पाई हैं। शिवांगी ने कहा, "मैं आगे नहीं बढ़ना चाहती, यह मेरे दिल के करीब है और हमेशा रहेगा"।एचटी से आगे बात करते हुए उन्होंने मोहसिन खान के साथ अपने इक्वेशन के बारे में बताया। उनके रिश्ते की अफवाहों ने अक्सर प्रशंसकों का ध्यान खींचा है। मोहसिन के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने पहले सवाल को टालने की कोशिश की। हालांकि, बाद में उसने विनम्रता से जवाब दिया और कहा, "यह अच्छा है और यह हमेशा अच्छा रहा है"।उन्होंने यह भी कहा कि वह ये रिश्ता क्या कहलाता है के अपने सभी कलाकारों के संपर्क में है। उन्हें यह कहते हुए उद्धृत किया गया था, "मैं अभी भी टीम के संपर्क में हूं। वे मेरे परिवार की तरह हैं।" जब उनसे पूछा गया कि क्या वह मोहसिन खान के साथ भी संपर्क में हैं, तो उन्होंने दृढ़ता से कहा, "हां, बिल्कुल। मैं सभी के संपर्क में हूं, बस समय है कम मिलता है, इसलिए हम ज्यादा बात नहीं करते हैं।"शिवांगी ने एक संवेदनशील व्यक्ति होने की बात कही और उन्हें जीवन में आगे बढ़ने में समय लगता है। "मैं एक संवेदनशील व्यक्ति और अति-भावनात्मक हूं। यह मुश्किल है। दर्द होता है जब आपका रिश्ता या दोस्ती काम नहीं करती है।"अभिनेत्री ने कहा कि वह अत्यधिक भावुक हो गई हैं और यह वास्तव में उन्हें कभी-कभी मुश्किल में डाल देता है और वह बस इससे उबरना चाहती हैं। "भावनात्मक होना ठीक है लेकिन मैं अत्यधिक भावुक हो जाती हूं और रोना शुरू कर देती हूं। यह मुझे अक्सर परेशान करता है।शिवांगी अपने समय की सबसे पसंदीदा टीवी अभिनेत्रियों में से एक हैं। बहुत ही कम समय में वह बेहद सफल होने में सफल रही है। फिलहाल वो डेली शोप बालिका वधू 2 में नजर आ रही हैं, जिसमें वो आनंदी के रोल में हैं।

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारSalary Protection Plan: सैलरी प्रोटेक्शन प्लान लीजिए और हो जाइए टेंशन मुक्त, जानिए इसके बारे में सब कुछ******कोरोना संकट ने हमें एक सबसे बड़ी सीख यही दी है कि आपकी नियमित सैलरी के बिना आपका कोई वजूद नहीं है। आपकी मौत के अगले ही दिन से आपके परिवार पर मुसीबतों का पहाड़ फूटना तय है। स्थिति तब और भी विकट होती है, आप अकस्मात रूप से परिवार का साथ छोड़ जाएं। ऐसी स्थिति में आपके परिवार की रक्षा कैसे हो।इसका जवाब है सैलरी प्रोटेक्शन इंश्योरेंस (Salary Protection Insurance) प्लान। यह प्लान आपके परिवार को मुश्किल वक्त में जरूरी पैसों की पूर्ति करेगा। यानि आपके न रहने पर भी परिवार के पास नियमित आय मिलती रहेगी। यहां आपको बता दें कि यह इंश्योरेंस नौकरी का रिप्लेसमेंट नहीं है। यानि आपकी नौकरी छूटने पर यह प्लान आपकी सैलरी को प्रोटेक्ट नहीं करता, बल्कि आपकी मौत पर परिवार की इनकम को प्रोटेक्ट करता है।सबसे पहले शुरू से शुरुआत करते हैं। सबसे पहले समझते हैं कि यह सैलरी प्रोटेक्शन इंश्योरेंस प्लान क्या है? यह कुछ और नहीं बल्कि टर्म इंश्योरेंस प्लान का एक दूसरा स्वरूप है। नाम से ही पता चलता है कि यह प्लान आपके परिवार की सुरक्षा के लिए है, इसका लाभ आपकी मृत्यु के बाद ही मिलता है। यहां प्लान लेने के समय बीमा कंपनी आपके सामने दो विकल्प रखती है। पहला विकल्प ये है कि आप रेगुलर इनकम का विकल्प चुन लें, इसमें आपके परिवार को मासिक आय की तरह रेगुलर इनकम मिलेगी। दूसरा विकल्प एक मुश्त रकम का है। यानि आपकी मृ​त्यु के बाद एक मुश्त राशि। यानि टर्म इंश्योरेंस प्लान की तरह आपकी मौत पर परिवार को एक ही बात में सारे पैसे मिल जाएंगे।सैलरी प्रोटेक्शन टर्म इंश्योरेंस प्लान की सबसे बड़ी खासियत यह है कि आप इसमें अपनी मंथली इनकम को खुद ही चुन सकते हैं। यानि कि आपकी मृत्यु के बाद आपके परिवार को कितनी रकम मिलेगी यह फैसला आप खुद कर सकते हैं। यह इनकम आपकी मौजूदा सैलरी के बराबर या उससे कम हो सकती है। इसके बाद आपको प्रीमियम भुगतान की अवधि को चुनना होगा।जिस प्रकार सैलरी इंक्रीमेंट होता है उसी प्रकार सैलरी प्रोटेक्शन प्लान में आपको मिलने वाली इनकम भी हर साल बढ़ेगी। संभव है कि बीमा कंपनी आपको 8% की सालाना चक्रवृद्धि ब्याज की दर से ग्रोथ की पेशकश करे। इस प्रकार हर साल फैमिली को मिलने वाली इनकम भी मिलेगी। ऐसे में यदि आप प्लान की शुरुआत में 50 हजार रुपये की मासिक आय का विकल्प चनते हैं तो अगले साल में परिवार को 54 हजार रुपये मिलेंगे।भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारBomb Threat in Train: "अगर इस गाड़ी की स्पीड 70 से कम हुई तो... बूम," एक ट्रेन में बम के लेटर और दूसरी में आतंकी की खबर से दहशत******Highlightsमध्य प्रदेश के ग्वालियर रेलवे स्टेशन में रविवार-सोमवार की दरमियानी रात दहशत के माहौल से घिरी रही। जब आगरा कंट्रोल रूप से यह सूचना मिली कि एपी एक्सप्रेस में आतंकी संगठन अलकायदा का आतंकवादी AC कोच A1 में हथियारों के साथ सफर कर रहा है और स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बड़ी वारदात को अंजाम दे सकता है। इस खबर के बाद ग्वालियर, डबरा और झांसी रेलवे स्टेशनों को अलर्ट पर रख दिया गया था।आगरा कंट्रोल रूप से ये सूचना आई कि एपी एक्सप्रेस में अलकायदा का आतंकी सफर कर रहा हो तो रात 1:00 बजे के करीब ट्रेन के ग्वालियर पहुंचते ही GRP, RPF और ग्वालियर पुलिस के अफसरों और BDS टीम ने ट्रेन की तलाशी लेना शुरू कर दी। GRP, RPF, ग्वालियर पुलिस और BDS टीम को ट्रेन की 15 मिनट तक जांच करने के बाद जब कुछ नहीं मिला, तब ट्रेन को रवाना किया गया। इस दौरान ट्रेन में सफर कर रहे यात्री बेहद घबरा गए। इस दौरान पूरे प्लेटफार्म को छावनी में तब्दील कर दिया गया था। हालांकि इससे पहले झांसी रेलवे स्टेशन पर भी ट्रेन की जांच की जा चुकी थी।एपी एक्सप्रेस में आतंकी ना मिलने से जीआरपी, आरपीएफ और ग्वालियर पुलिस राहत की सांस ले ही रही थी कि तभी पुलिस को एक लेटर के द्वारा जानकारी मिली कि कर्नाटक एक्सप्रेस में बम रखा गया है। जिसके चलते एक बार फिर स्टेशन पर अफरा-तफरी का माहौल हो गया। आनन फानन में एक बार फिर से रेलवे स्टेशन को छावनी में तब्दील कर दिया गया। रात 2:00 बजे कर्नाटक एक्सप्रेस के ग्वालियर पहुंचते ही एक बार फिर यात्रियों को उतारकर पूरी छानबीन की गई। डॉग स्क्वायड और बम डिस्पोजल स्क्वायड के द्वारा भी जांच करने के बाद जब ट्रेन में कोई बम नहीं मिला तो बाद में ट्रेन को रवाना किया गया।पुलिस को मिले लेटर में लिखा था, "हमने इस गाड़ी में दो बम फिट किए हैं। अगर इस गाड़ी की स्पीड 70 से कम हुई तो पूरी गाड़ी ब्लास्ट हो जाएगी। हमारी इस धमकी को मजाक में ना लिया जाए नहीं तो बुरा अंजाम भुगतना पड़ेगा। सरकार को ये गाड़ी किसी भी स्चेशन पर नहीं रोकनी चाहिए। हम मजाक बिल्कुल नहीं कर रहे हैं। हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि जितने भी पैसेंजर हैं, उनसे कहो कि जितना भी आप लोगों के पास पैसा है वो एक बैग में भरकर पेनुकोंडा स्टेशन आने से पहले फेंक दें। हमारी इस बात को बिल्कुल भी मजाक में नहीं लिया जाए नहीं तो बच्चों से बड़े-बूढ़ों तक सब मारे जाएंगे। सरकार इसपर पूरा गौर करे कि चेतावनी है कि ना ही चेन पुलिंग होनी चाहिए। बूम बाम बू... गुड लक।"

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारफ्रांस में इस्लामिक आतंक को लेकर बड़ी कार्रवाई, बंद हो सकती हैं 76 मस्जिदें******फ्रांस में अधिकारियों ने उन 76 मस्जिदों का निरीक्षण करना शुरू कर दिया है जिन पर उन्हें इस्लामिक कट्टरपंथ, अलगाववाद और चरमपंथ को बढ़ावा देने का संदेह है। गृह मंत्री जेराल्ड डर्मेनिन ने इस बारे में घोषणा करते हुए कहा कि यदि इन मस्जिदों को आतंकवाद या अलगाववाद को बढ़ावा देते हुए पाया गया तो उन्हें बंद किया जा सकता है। इसके अलावा 66 ऐसे प्रवासियों को डिपोर्ट भी किया गया है, जिनके ऊपर शक था कि वे कट्टरपंथ का रास्ता अख्तियार कर चुके हैं। यह कदम फ्रांसीसी अधिकारियों द्वारा अक्टूबर में 6 महीने के लिए पेरिस के एक प्रसिद्ध मस्जिद को बंद करने के बाद आया है।बता दें कि हाल ही में में कई आतंकी हमले हुए हैं, जिसके मद्देनजर कड़े कदम उठाए जा रहे हैं। इन घटनाओं में एक चेचन शरणार्थी द्वारा एक शिक्षक सैमुएल पैटी की सिर कलम करके उसकी हत्या कर देना भी शामिल है। इस , जिसमें लगभग 1500 उपासक थे, ने पैटी के बारे में एक फेसबुक वीडियो पोस्ट किया था। पैटी ने अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर कक्षा में चर्चा के दौरान पैगंबर मुहम्मद के 2 कार्टून दिखाए थे। इसे लेकर मस्जिद ने उनकी आलोचना की थी। पैटी की हत्या के बाद, राष्ट्रपति इमैनुएल मैकों ने कहा कि फ्रांस इस्लामिक कट्टरवाद के खिलाफ अस्तित्ववाद की लड़ाई में लगा हुआ है।भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारDHFL दिवाला प्रकिया: पिरामल की योजना के खिलाफ NCLT में जाएगी 63 मून्स******DHFL दिवाला प्रकिया: पिरामल की योजना के खिलाफ NCLT में जाएगी 63 मून्समुंबई। दीवान हाउसिंग फाइनेंस लि. पर 200 करोड़ रुपए का दावा करने वाली 63 मून्स टेक्नोलॉजीज ने मंगलवार को कहा कि वह दिवालिया कंपनी पर करीब 85,000 करोड़ रुपए के कुल दावे के मुकाबले उसे पिरामल ग्रुप को केवल 37,500 करोड़ रुपए में अधिग्रहीत करने का अधिकार दिए जाने के खिलाफ जल्द ही एनसीएलटी में प्रस्ताव को चुनौती देगी। एच पी चतुर्वेदी और रविकुमार दुरईसामी की अध्यक्षता वाली राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) की मुंबई पीठ ने रुख पलटते हुए पिरामल ग्रुप को केवल 37,500 करोड़ में डीएचएफएल का अधिग्रहण करने की मंजूरी दे दी।गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी दीवान हाउसिंग पर उधार देने वालों के करीब 85,000 करोड़ रुपए के दावे हैं। इससे पहले एनसीएलएटी ने रिणदाताओं की समिति से 25 मई को डीएचएफएल के वधावन परिवार की ओर से रिणदाताओं को करीब 93,000 करोड़ रुपए लौटाने की पेशकश पर विचार करने को कहा था। एनसीएलटी ने पिरामल समूह की आपत्ति पर पर वधावन परिवार के प्रस्ताव को सोमवार को खारिज कर। पीरामल समूह के प्रस्ताव के पक्ष रिणदाताओं के निर्णय को मंजूरी दे दी।63 मून्स ने पिरामल की प्रस्ताव योजना को कानून के और डीएचएफएल के सभी रिणदाताओं के हित के खिलाफ बताते हुए कहा कि वह पिरामल से अपने 200 करोड़ रुपए के दावे और दूसरे एनसीडी धारकों के लिए शेष 45,000 करोड़ रुपए की मांग के लिए एनसीएलटी का रुख करेगी।

भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारThe Kapil Sharma Show: लंबे समय बाद टीवी पर इस कॉमेडियन ने किया कमबैक, ड्रग्स की लत ने किया था करियर बर्बाद******टीवी के कई कॉमेडी शो में काम कर चुके सिद्धार्थ सागर एक बार फिर से टीवी पर कमबैक कर लिया है। अपनी कॉमिक टाइमिंग से लोगों को हंसा हंसा कर लोटपोट करने वाले सिद्धार्थ सागर ने ड्रग्स की लत की वजह से अपनी जिंदगी तबाह कर ली थी। लेकिन अब लग रहा है कि सिद्धार्थ ने ड्रग्स की लत से छुटकारा पा लिया है और टीवी पर फिर से अपनी धमाकेदार पारी खेलने के लिए तैयार हैं।सिद्धार्थ सागर ने द कपिल शर्मा शो में धमाकेदार एंट्री कर ली है। बीते एपिसोड में सिद्धार्थ सागर सिंगिंग टीचर बनकर सबको हंसाते नजर आए। हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा, 'मैंने सालों पहले केस तो बनता है नाम के शो में काम किया था। मेरे इस शो को काफी पसंद किया गया था। मुझे लगता है कि मेरी परफॉर्मेंस को देखकर ही मुझे द कपिल शर्मा शो के मेकर्स ने ऑफर दिया है। कपिल भाई के साथ काम करके मुझे बहुत मजा आने वाला है।’’आपको बता दें, बीते साल मुंबई पुलिस ने सिद्धार्थ सागर को नशे की हालत में पकड़ा था। इस दौरान सिद्धार्थ सागर बुरी तरह से नशे की चपेट में आ चुके थे। साल 2018 में इस बात का खुलासा हुआ था कि उन्हें ड्रग्स लेने की आदत पड़ चुकी है। जिसके बाद सिद्धार्थ सागर ने अपने परिवार पर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि उनके मां बाप से उनकी जान को खतरा है। उनकी मां ही उनको ड्रग्स देती हैं। सिद्धार्थ सागर ने दावा किया था कि उनकी मां उसको घर में कैद करके रखती है।’’ड्रग्स की लत पड़ने की वजह से सिद्धार्थ ने अपने निजी जीवन में बहुत कुछ झेला। विवादों में घिरने की वजह से उनकी सगाई भी टूट गई थी। उनकी मंगेतर शुभी जोशी ने आरोप लगाए थे कि नशे की हालत में सिद्धार्थ सागर उनके साथ बदतमीजी करते थे।भीषणगर्मीकेबीचबिजलीसंकटसेदेशभरमेंमचाहाहाकारकश्मीरसेकन्याकुमारीतक88घंटेकटौतीकीमारभारत में धड़ल्‍ले से बिक रही है हुवावे जीटी2 स्‍मार्टवॉच, जानिए क्‍या है इसके पीछे वजह******Huawei Watch GT 2, Great battery, stunning display चीन की दिग्‍गज टेक्‍नोलॉजी कंपनी हुवावे ने भारत में उन्‍नत स्‍मार्टवॉच जीटी2 को लॉन्‍च किया है। जीटी2 हुवावे की वॉच जीटी का अपग्रेड वर्जन है, जिसे कंपनी ने हाल ही में सफलतापूर्वक लॉन्‍च किया है। जीटी2 एक किरिन ए1 चिपसेट द्वारा स‍ंचालित है, जिसमें बेहतर पावर सेविंग टेक्‍नोलॉजी का इस्‍तेमाल किया गया है।के कई वेरिएंट हैं, जिनमें 46एमएम स्‍पोर्ट (ब्‍लैक) 15,990 रुपए में आती है। वहीं 46एमएम (लैदर) 17,990 रुपए में और 46एमएम (मेटल) 21,990 रुपए में उपलब्‍ध है। हमनें 46एममए वेरिएंट की समीक्षा यहां की है।दिल की धड़कन को ट्रैक करने से लेकर पसंदीदा गाने सुनने के लिए और कॉल करने की सुविधा के साथ यह एक बेहतरीन स्‍मार्टवॉच है। एक आकर्षक डिजाइन के साथ ही वास्‍तव में लंबे समय तक चलने वाली 455 एमएएच बैटरी के साथ आती है। समीक्षा के दौरान वॉच की बैटरी लगभग 10 दिनों तक चली। हालांकि कंपनी इस वेरिएंट के लिए 14 दिनों का बैटरी बैकअप का दावा करती है।यह स्‍मार्टवॉच एक उच्‍च गुणवत्‍ता वाले थ्री-डी ग्‍लास के साथ काफी हल्‍की है। यह 10.7 एमएम मोटी है जो कलाई पर काफी आकर्षक दिखती है। इसमें 1.39 इंच की एमोलेड स्‍क्रीन है जो 454x454 पिक्‍सल रेजोल्‍यूशन को सपोर्ट करती है।विभिन्‍न तरह के प्रकाश की स्थिति में भी इसकी डिस्‍प्‍ले बेहतर काम करती है। इसके अलावा इसका टचस्‍क्रीन भी बहुत तेजी से काम करती है। बड़ा डिस्‍प्‍ले और डायल के साथ स्‍मार्टवॉच को चलाना भी काफी आसान है। स्‍मार्टवॉच में दाईं तरफ दो बटन लगाए गए हैं। ऊपरी तरफ के बटन बिल्‍ट-इन एप्‍स को चुनने के लिए हैं, जबकि दूसरी ओर के बटन हेल्‍थ ट्रैकिंग और वर्कआउट के लिए है। कुल मिलाकर यह पहली ही बार में लोगों के मन को भाने वाला डिवाइस है।

सम्बंधित जानकारी
गर्म सामग्री