दक्षिण अफ्रीका को लगा बड़ा झटका: कोरोना की वजह से बाहर हुआ यह धुरंधर, इस खिलाड़ी की पांच साल बाद वापसी

समय:2022-09-30 10:19:54स्रोत:संवेदनशीलता नेटवर्क लेखक:आन्शुन

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीपीएम मोदी ने किया ऐलान, 'जल जीवन मिशन' पर आगामी वर्षों में खर्च किए जाएंगे 3.5 लाख करोड़ रुपये****** ने हर घर में पाइप के जरिये पानी पहुंचाने के लिये जल जीवन मिशन को आगे बढ़ाने तथा आने वाले वर्षों में इस पर तीन लाख करोड़ रुपये से भी ज्‍यादा रकम खर्च करने का संकल्प जताया है। गुरुवार को पर लाल किले की प्राचीर से राष्ट्र को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि देश में अभी करीब 50 फीसदी परिवारों को पाइप के जरिये पानी नहीं मिल पा रहा है।जल संकट का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार ने एक विशेष काम की तरफ बल देने का निर्णय लिया है और वह है-हमारे हर घर में जल कैसे पहुंचे? हर घर को जल कैसे मिले? पीने का शुद्ध पानी कैसे मिले? और इसलिए आज मैं लाल किले से घोषणा करता हूं कि हम आने वाले दिनों में 'जल-जीवन मिशन' को आगे ले करके बढ़ेंगे।उन्होंने कहा कि जल-जीवन मिशन के लिए केंद्र और राज्‍य सरकारें साथ मिलकर काम करेंगे और आने वाले वर्षों में साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये से भी ज्‍यादा रकम इस मिशन के लिए खर्च करने का हमने संकल्‍प लिया है। प्रधानमंत्री ने बताया कि जल-जीवन मिशन पर आगामी वर्षों में करीब 3.5 लाख करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। मोदी ने कहा कि हमें जल संरक्षण के प्रयासों में अधिक तेजी लानी होगी।उल्लेखनीय सरकार ने 2024 तक हर घर में नल के जरिये पानी पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। बता दें कि सभी कोकीघोषणाके साथ जल एवं स्वच्छता क्षेत्र मेंअगलेपांचसाल में 6.3 लाख करोड़रुपयेकानिवेशहोनेकीसंभावनाहै। जेएम फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशन की रिपोर्ट के अनुसार सरकार की नल से जल योजना का मकसद 2024 तक सभी घरों को पाइप के जरिये पानी पहुंचाने का लक्ष्य है। इससे जल और साफ-सफाई के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर निवेश होने की उम्मीद है।

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीदेश की विकास दर पर नहीं हुआ नोटबंदी का खास असर, तीसरी तिमाही में GDP ग्रोथ रेट रही 7.1 फीसदी****** 8 नवंबर को जहां एक झटके में देश में चल रहे 86 प्रतिशत नोट चलन से बाहर कर दिए गए, वहीं भारत की विकास दर पर इसका कोई खास असर नहीं पड़ा है। सरकार के आंकड़ों के अनुसार, भारत के सकल घरेलू उत्पाद () की ग्रोथ रेट दिसंबर 2016 में समाप्‍त तिमाही के दौरान 7.0 फीसदी रही। उल्‍लेखनीय है कि नोटबंदी के बाद GDP ग्रोथ रेट घटने का अनुमान किया जा रहा था।()GDP ग्रोथ के आंकड़े नकारात्‍मक अनुमानों को झुठलाते हैं। मैन्‍युफैक्‍चरिंग पर कोई नोटबंदी का कोई असर नहीं हुआ और रीमोनेटाइजेशन का काम लगभग पूरा हो चुका है।दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीShashi Tharoor: काली पोस्टर विवाद के बीच शशि थरूर ने पेश की सफाई, कल महुआ मोइत्रा के समर्थन में किए थे ट्वीट******Highlightsकांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने गुरुवार को कहा कि जो कुछ भी वह ट्वीट करते हैं वह उनकी निजी राय होती है। उन्होंने यह टिप्पणी उस वक्त की है जब देवी काली को लेकर तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा की एक टिप्पणी के बाद उठे विवाद पर उन्होंने हैरानी जताई थी जिसके बाद सोशल मीडिया में कुछ लोगों इसे कांग्रेस की राय से जोड़ दिया। थरूर ने कहा, ‘‘मैं जो भी ट्वीट करता हूं, वह मेरी निजी राय होती है। इसके अलावा कोई दूसरा कुछ नहीं होता।’’लोकसभा सदस्य थरूर ने बुधवार को कहा था कि वह देवी काली पर तृणमूल कांग्रेस की सांसद की टिप्पणी को लेकर उन पर (मोइत्रा पर) हुए हमले से हैरान रह गए। उन्होंने लोगों से ज्यादा गंभीर न होने और धर्म का व्यक्तिगत रूप से आचरण करने के लिए उसे व्यक्ति पर छोड़ने का भी आग्रह किया था। थरूर ने अपने ट्वीट में कहा था, ''मैं इस पैदा किए गए पूरे विवाद, जिसमें दुर्भावनापूर्ण मंशा है, उससे अपरिचित नहीं हूं। बावजूद इसके मैं महुआ मोइत्रा पर हुए हमले से स्तब्ध हूं। महुआ ने वही कहा है जो सभी हिंदू जानते हैं। हमारे यहां पूजा का रूप अलग-अलग है। भक्त भोग के रूप में जो कुछ चढ़ाते हैं, वह देवी से ज्यादा उनके बारे में बताता है।''तृणमूल कांग्रेस की लोकसभा सदस्य महुआ मोइत्रा ने मंगलवार को यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया था कि जिस तरह हर व्यक्ति को अपने तरीके से देवी-देवताओं की पूजा करने का अधिकार है, उसी तरह उन्हें देवी काली के मांस भक्षण करने एवं मदिरा स्वीकार करने वाली देवी के रूप में कल्पना करने का पूरा अधिकार है।महुआ मोइत्रा ने बुधवार को कथित तौर पर अपनी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल को अनफॉलो कर दिया। हालांकि, उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल को फॉलो करना जारी रखा है। कोलकाता में हाल ही में एक मीडिया कॉन्क्लेव में देवी काली के बारे में उनकी टिप्पणियों को लेकर पार्टी नेतृत्व के साथ उनके बढ़ते मतभेदों के बाद यह घटनाक्रम सामने आया है।भारतीय जनता पार्टी ने मोइत्रा पर उनके इस बयान को लेकर कड़ा प्रहार किया था और सवाल किया था कि क्या यह हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करने का पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी का आधिकारिक रूख है ? वहीं, पश्चिम बंगाल के सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस ने अपनी सांसद की इस टिप्पणी से खुद को अलग कर लिया।

दक्षिण अफ्रीका को लगा बड़ा झटका: कोरोना की वजह से बाहर हुआ यह धुरंधर, इस खिलाड़ी की पांच साल बाद वापसी

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीआईएमएफ ने भारत का कोविड-19 पर समय रहते कदम उठाने के लिए समर्थन किया****** अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने बुधवार को कहा कि वह कोरोना वायरस से निपटने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन लगाने के भारत के समय रहते लिए गए फैसले का समर्थन करता है। इससे एक दिन पहले ने अपने वर्ल्ड इकोनोमिक आउटलुक में 2020 में भारत की विकास दर 1.9 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया था। आईएमएफ के एशिया और प्रशांत विभाग के निदेशक चांग योंग री ने यहां संवाददाता सम्मेलन के दौरान पत्रकारों से कहा, ' के बावजूद सरकार ने देशव्यापी बंद लागू किया और हम भारत के समय रहते लिए गए फैसले का समर्थन करते हैं।' में 25 मार्च को तीन हफ्ते का लागू किया गया था जो 14 अप्रैल को समाप्ति के बाद तीन मई तक बढ़ा दिया गया। उन्होंने बताया कि पूरे एशिया-प्रशांत क्षेत्र पर कोरोना वायरस का असर गंभीर और अभूतपूर्व होगा। 2020 में एशिया की वृद्धि थम-सी जाएगी। उन्होंने कहा कि 2021 में उम्मीद है। अगर विषाणु पर नियंत्रण लगाने की नीतियां कामयाब होती है वृद्धि में फिर से उछाल आ सकता है। हालांकि उन्होंने कहा कि यह कहना अनिश्चित है कि इस साल कैसी प्रगति होगी।री ने कहा कि यह पहले की तरह कारोबार करने का समय नहीं है। उन्होंने कहा, 'हमें इस साल के अंत तक आर्थिक गतिविधि में उछाल आने की उम्मीद है क्योंकि चीन सबसे पहले इस विषाणु से उबरता हुआ दिख रहा है। हालांकि कुछ स्पष्ट जोखिम भी है कि विषाणु वापस आ सकता है और हालात सामान्य होने में वक्त लग सकता है।' री ने बताया कि 2020 के लिए जापान के आर्थिक विकास का अनुमान भी निराशाजनक हो गया है। उन्होंने बताया कि के असर के कारण जापान में 5.2 प्रतिशत तक गिर सकती है।दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीMaharashtra News: नाराज ब्राह्मणों को मनाने की शरद पवार की कोशिश, दिया चर्चा का न्योता******Highlightsआगामी चुनाव के पहले नाराज ब्राह्मणों को मनाने की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के प्रमुख कोशिश कर रहे हैं। इसी कड़ी में शरद पवार ने महाराष्ट्र के कई ब्राह्मण संगठनों को चर्चा का न्योता दिया है। शनिवार को पुणे में शाम 5 बजे ब्राह्मण संगठनों के साथ शरद पवार चर्चा करेंगे। दरअसल शरद पवार पर आरोप लग रहे हैं कि पवार और उनकी पार्टी NCP ब्राह्मण विरोधी है और महाराष्ट्र में बहुजन और ब्राह्मणों में दूरियां पैदा कर रही है। राज ठाकरे सहित कई नेता शरद पवार पर जातिवादी और ब्राह्मण विरोधी होने का आरोप लगा चुके हैं। पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर भी लगातार कैंपेन चल रहा है कि एनसीपी ब्राह्मण विरोधी है। एनसीपी विधायक अमोल मिटकरी के ब्राह्मणों को लेकर दिए एक बयान से भी ब्राह्मण समाज में बहुत नाराजगी है।इसी हफ्ते ने आदेश दिया है कि महाराष्ट्र में मॉनसून के बाद स्थानीय निकाय चुनाव हो। चार महीने बाद महाराष्ट्र में 20 महानगरपालिका, 25 जिला परिषद, 210 नगर पंचायत और करीब 2100 ग्राम पंचायत के चुनाव होंगे। इन स्थानीय निकाय चुनाव को मिनी असेंबली चुनाव के तौर पर देखा जाता है। महाराष्ट्र में ब्राह्मणों की आबादी 10 फिसदी से ज्यादा है। शरद पवार को लग रहा है कि, एनसीपी की ब्राह्मण विरोधी छवि की वजह से पार्टी को सियासी नुकसान उठाना पड़ सकता है। इसीलिए पवार ने ब्राह्मण समाज की गलतफहमी को दूर करने के लिए चर्चा का न्योता दिया है।कई ब्राह्मण संगठनों ने पवार के न्योते को स्वीकार किया है तो कुछ ब्राह्मण संगठनों ने पवार के न्योते को ठुकरा दिया है। एनसीपी के पुणे जिला अध्यक्ष प्रदीप गारटकर ने इंडिया टीवी से कहा कि, कल होने वाली बैठक में ब्राह्मण समाज के करीब 40-50 लोग आएंगे। अगर समाज के किसी वर्ग में कोई गलतफहमी हो तो उसे दूर करना बतौर राजनीतिक दल हमारा कर्तव्य है। विपक्षी दल हमारे खिलाफ कैंपेन चला रहे हैं और पार्टी की छवि को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। शनिवार को होने वाली बैठक में ब्राह्मणों के मन की बात सुनेंगे और ब्राह्मण समाज के मन में अगर किसी बात को लेकर नाराजगी है तो उसका निराकरण करने की कोशिश की जाएगी।दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीBigg Boss 15: VIP क्लब के मेंबर्स के बीच 'जेल की सजा' टास्क बो रहा है दुश्मनी के बीज******कलर्स के बिग बॉस के हालिया एपिसोड में ड्रामा कई गुना बढ़ गया है। प्रतियोगियों को अपने व्यवहार को नियंत्रण में रखने के लिए कई बार चेतावनी दी गई है। फिर भी, उनमें से कुछ इन चेतावनियों को हल्के में ले रहे हैं। ऐसे में बिग बॉस ने उन्हें याद रखने वाला सबक सिखाने का फैसला किया है। वर्षों की लंबी परंपरा 'जेल की सजा' को बिग बॉस ने इस सीजन में शुरुआत कर दी गई है। वीआईपी प्रतियोगियों, करण, तेजस्वी, विशाल, निशांत और उमर को यह तय करना है कि जय और प्रतीक में से कौन जेल का हकदार है।शो तब अप्रत्याशित मोड़ लेता है कि किसे दंडित किया जाना है? यह तय करने के बजाय, वीआईपी आपस में लड़ने लगते हैं! वे सभी एक दूसरे पर बोलना शुरू करते हैं। निशांत को लगता है कि उमर का सवाल करना बेकार है और करण यहां तक कह देते हैं कि इसमें समय बर्बाद हो रहा है। उमर उनके बयान से नाराज हो जाते हैं और करण और विशाल पर बेरहमी दिखाते के लिए चिल्लाना शुरू कर देते हैं। करण नाराज हो जाते हैं और गुस्से में टेबल पर लात मार देते हैं!इस बीच वीआईपी, गैर-वीआईपी को निर्देश देते हैं कि वे टास्क में केवल कुछ खाने के सामान पर ध्यान केंद्रित करें। सिम्बा और राजीव को सभी के हिस्से का खाने-पीने का सामान हड़पने के लिए केवल दो मिनट का समय दिया जाता है, और वे जैसा कहा जाता है वैसा ही करते हैं। लेकिन घरवालों को जल्द ही एहसास हो जाता है कि उनके पास राशन की कमी हो गई है।खाने-पीने की चीजों को तरजीह न देने पर हर कोई वीआईपी पर भड़कने लगता है। नेहा इस पेंच के लिए उनके पीछे पड़ जाती हैं और तेजस्वी को ब्रेनलेस भी कह देती हैं! क्या इससे वीआईपी और गैर-वीआईपी के बीच की खाई और गहरी होगी?

दक्षिण अफ्रीका को लगा बड़ा झटका: कोरोना की वजह से बाहर हुआ यह धुरंधर, इस खिलाड़ी की पांच साल बाद वापसी

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीZelenskyy on India: संयुक्त राष्ट्र पर भड़के जेलेंस्की, कहा-'क्यों भारत और यूक्रेन नहीं हैं सुरक्षा परिषद के स्थाई मेंबर'******Highlightsरूस और यूक्रेन की जंग अब मैदान के अलावा जुबानी जंग भी बन गई है। पुतिन ने जहां परमाणु हमले की चेतावनी दी, वहीं पीएम मोदी के रूस के राष्ट्रपति से जंग को अर्थहीन बताने के बाद जेलेंस्की ने भी भारत के पक्ष में बयान दिया है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सख्त लहजे में जेलेंस्की ने कहा कि आखिर किस वजह से भारत और यूक्रेन सुरक्षा परिषद के स्थाई सदस्य नहीं हैं। जेलेंस्की ने महासभा में नेताओं की आम बहस के दौरान अपने पूर्व रिकॉर्डेड संदेश में कहा, ‘संयुक्त राष्ट्र में सुधार के लिहाज से बहुत सारी बातें की गईं। यह सब कैसे निपटेगा, कोई परिणाम नहीं निकला।‘जेलेंस्की ने यूएन पर जमकर निकाली भड़ासयूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र पर जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि यूक्रेन पर रूसी आक्रमण को कई महीने हो चुके हैं, लेकिन अब तक संयुक्त राष्ट्र की तरफ से कोई हल नहीं निकला है। यही नहीं, जेलेंस्की ने पूछा कि आखिर क्या वजह है कि भारत, जापान, ब्राजील और यूक्रेन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य नहीं हैं।जेलेंस्की ने कहा कि ‘वह दिन जरूर आएगा जब इसका हल निकलेगा।‘यूक्रेन के प्रेसीडेंट जेलेंस्की ने युएन की महासभा में बुधवार को वैश्विक नेताओं की आम बहस के दौरान अपने पहले से रिकॉर्ड किए गए संदेश में कहा कि ‘युनाइटेड नेशन में सुधार को लेकर कई बड़ी बड़ी बातें कही गई हैं, लेकिन इन सब को किस तरह निपटाया जाएगा, इसका कोई परिणाम निकलता दिखाई नहीं दे रहा है।‘जेलेंस्की ने कहा कि ‘हमारे शांति सूत्र को ध्यान से देखने पर आप पाएंगे कि इसका कार्यान्वयन पहले से ही संयुक्त राष्ट्र के वास्तविक सुधार के तहत हुआ है। हमारा सूत्र सार्वभौमिक है और दुनिया को उत्तर से लेकर दक्षिणी छोर तक जोड़ता है। यह दुनिया के उन लोगों के प्रतिनिधित्व को बढ़ाने को प्रोत्साहित करता है जिन्हें कभी सुना नहीं गया।‘रूस ने कभी शांति की बात नहीं कही, जबकि वह स्थाई सदस्यः जेलेंस्कीउन्होंने कहा, ‘यह बात केवल यूक्रेन कह रहा है। क्या आपने कभी रूस से ऐसे शब्द सुने हैं, जबकि वह सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य है। किस वजह से, आखिर क्या कारण है कि जापान, ब्राजील, तुर्किये, भारत, जर्मनी या यूक्रेन इसके सदस्य नहीं हैं। वह दिन जरूर आएगा जब यह मसला हल होगा।‘सुरक्षा परिषद में सुधारों पर जोर देता रहा है भारतजेलेंस्की ने स्थाई सदस्यों में कुछ खास देशों के साथ भारत की बात भी कही। दरअसल, भारत भी संयुक्त राष्ट्र में स्थाई सदस्यता के लिए काफी लंबे अरसे से कोशिश में जुटा हुआ है। अमेरिका, ब्रिटेन सहित कई अन्य देश भारत के समर्थन में हैं। सिर्फ इस मामले में चीन ने अपनी टांग हमेशा अड़ाई है। भारत संयुक्त राष्ट्र में सुरक्षा परिषद में तत्काल लंबित सुधारों पर जोर देने के प्रयासों में सबसे आगे रहा है। भारत ने खुद भी इस बात पर बल दिया है कि वह सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य के रूप में स्थान हासिल करने का हकदार है। इस समय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पांच स्थायी सदस्य और 10 गैर स्थायी सदस्य देश शामिल हैं, जिन्हें संयुक्त राष्ट्र की महासभा द्वारा दो साल के कार्यकाल के लिए चुना जाता है।भारत का स्थाई सदस्य न होना वैश्विक समुदाय के लिए सही नहीं हैः जयशंकरविदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि भारत का संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य नहीं होना केवल ‘हमारे लिए ही नहीं, बल्कि इस वैश्विक निकाय के लिए भी सही नहीं है तथा इसमें सुधार ‘बहुत पहले ही हो जाना चाहिए था।‘ये सुरक्षा परिषद के 5 स्थाई सदस्यपांच स्थायी सदस्य रूस, ब्रिटेन, चीन, फ्रांस और संयुक्त राज्य अमेरिका हैं। इन देशों के पास किसी भी मूल प्रस्ताव को वीटो यानी रोक लगाने करने की शक्ति है। हाल ही में स्थायी सदस्यों की संख्या बढ़ाने की मांग तेज हो रही है।दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीWorld Cup Final 2018, France v Croatia: फ्रांस ने क्रोएशिया को 4-2 से हराकर दूसरी बार जीता विश्व कप******फ्रांस की टीम ने फीफा विश्व कप 2018 पर कब्जा जमाकर इतिहासरच दिया। ये दूसरी बार है जब टीम ने विश्व कप की ट्रॉफी पर कब्जा जमाया है। इससे पहलेटीम ने साल 1998 में पहलीबार विश्व कप जीताथा। अब टीम को 20 साल के बाद विश्व कप की ट्रॉफी को उठाने का मौका मिलाहै। इसकेअलावा फ्रांस दुनिया का छठा ऐसा देश बन गया है जिसने1 के से ज्यादा बार विश्व कप जीतने में कामयाबी पाई।फ्रांस की टीम ने पहलेहाफ में 2-1 की बढ़त बनाईथी और इसके बाद टीम ने दूसरेहाफ में भी 2 गोल किए और मुकाबले को 4-2 से जीत लिया। फ्रांस की जीत में ग्रीजमैन, पोग्बा, एमबाप्पे स्टार रहे और अपनीटीम की तरफ से 1-1 गोल किया। फ्रांस की टीम ने क्रोएशिया को हराकरउनके पहली बार विश्व कप जीतने के सपने पर भी पानीफेर दिया।कीलियनएमबाप्पे ने रचा इतिहासफ्रांस अब विश्व कप जीतने के करीब नजर आ रहा है, पॉल पोग्बा ने गोल कर अपनी टीम को 3-1 से आगे किया, शानगार गोल और बेहतरीन जश्नहाफ टाइम का खेल खत्म हो चुका है और पहलेहाफ के खत्म होने तक फ्रांस की टीम मुकाबले में 2-1 से आगे चल रही है। फ्रांस की टीम भाग्यशाली नजर आ रही है और उन्हें गोल करने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी रही और क्रोएशियाई टीम की गलतीउनसे गोल करा रही है। पहलागोल क्रोएशियाई खिलाड़ी के आत्मघाती गोल के कारण हुआ और इसके बाद इवान पेरिसिक ने गोल कर क्रोएशिया को मैच में वापस ले आए। लेकिनइसकेबाद फ्रांस को पेनल्टी मिल गई और ग्रीजमैन ने गोल कर अपनीटीम को 2-1 से आगे कर दिया।फ्रांस की टीम को वीएआर के जरिए पेनल्टी मिली और एंटोइन ग्रीजमैन ने पेनल्टी किक को गोल में बदल अपनी टीम को 2-1 से आगे कर दिया- इवान पेरिसिक क्रोएशिया के लिए बड़े टूर्नामेंट्स में कुल 11 गोल में भागीदार रहे हैं, इस दौरान उन्होंने 7 गोल दागे हैं और 4 असिस्ट किए हैंमैच के 28वें मिनट में क्रोएशिया के खिलाड़ी इवान पेरिसिक ने गोल कर अपनी टीम को बराबरी पर पहुंचा दिया, फिलहाल मैच 1-1 से बराबरमाकियो मैंडजुकिक विश्व कप इतिहास के पहले खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने फाइनल में आत्मघाती गोल कियाक्रोएशिया की तरफ से आत्मघाती गोल करने वाले खिलाड़ी का नाम मारियो मैंडजुकिक हैफ्रांस मैच में 1-0 से आगे चल रहा हैफ्रांस ने मैच में पहला गोल दागा, 18वें मिनट में रेफरी ने फ्रांस को फ्री किक दी, एंटोइन ग्रीजमैन ने फ्री किक ली, किक शानदार थी लेकिन इस दौरान क्रोएशियाई खिलाड़ी के सिर से लगकर गेंद गोल पोस्ट में चली गईमैच शुरूहो चुकाहै और दोनोंटीमों में गोल करनेकी जंग देखने को मिलेगीदोनोंदेशोंके राष्ट्रगान खत्म हो चुके हैं, मुकाबलाशुरूहोनेमें बस थोड़ी देरदोनोंटीमेंमैदान में एंट्री के लाइनमें खड़ी हैंफ्रांस दुनियाका छठा देश हैजो तीन या इससेज्यादा फाइनलखेल चुका हैकलाकारों ने दर्शकों का काफी मनोरंजन कियाफीफा विश्व कप के आधिकारिक गाने (लिव इट अप) पर निकी जैम, विल स्मिथ, ऐरा परफॉर्म कर रहे हैंमुकाबलेसे पहलेदोनोंटीमों के खिलाड़ी अभ्यास करते हुएफ्रांस की टीम को समर्थक तरह-तरह से सपोर्ट कर रहे हैंएन'गोलो कांटे और पॉल पोग्बा जब भी फ्रांस की शुरुआती प्लेइंग इलेवन में रहे हैं तो इस दौरान फ्रांस की टीम कभी भी, कोई भी मैच नहीं हारी है। इस दौरान टीम ने 18 मैच खेले हैं जिनमें टीम को 14 में जीत मिली है और 4 मुकाबले ड्रॉ रहे हैंटीम इंडिया के स्टारखिलाड़ीगौतम गंभीर क्रोएशिया को सपोर्ट कर रहे हैंक्रोएशिया ने ग्रुप राउंड में को, प्री क्वार्टर फाइनल में , क्वार्टर फाइनल में और सेमीफाइनल में को हराकर में जगह बनाई हैफ्रांस ने ग्रुप राउंड में को, प्री क्वार्टर फाइनल में , क्वार्टर फाइनल में और सेमीफाइनल में पेनल्टी शूट आउट में को हराकर में जगह बनाई हैक्रोएशिया की टीम और टीम का इरादामैच शुरूहोने से पहलेआपकोबता दें कि , अब टीम का इरादा फिर से इस खिताबपर अपना नाम लिखवाने का होगाकीलियनम्बाप्पे ने फाइनल में उतरने से पहले ही इतिहासरच दिया और ये रिकॉर्ड अपनेनाम कर लिया हैसोशल मीडिया पर दोनोंटीमों को बराबरी का सपोर्ट मिल रहा है, हालांकि फुटबॉल पंडितफ्रांस का पलड़ा भारी मान रहे हैंदोनोंटीमों ने फाइनल मैच में कोई बदलाव नहीं किया है और टीम वही है जो सेमीफाइनल में थीइस लाइन अप के साथ दोनोंटीमें उतर सकती हैंसौरव ने मॉस्को पहुंचकर एक सेल्फी भी ट्वीट की हैफाइनल मुकाबले के लिए फैंस में गजब का उत्साह नजर आ रहा है के फाइनल मैच में आज और का मुकाबला खेला जाना है। दोनों देशों के बीच ये मैच भारतीय समयानुसार रात 08:30 से खेला जाएगा। एक महीने तक चले दुनिया के सबसे बड़े महाकुंभ में 32 टीमों ने हिस्सा लेया था लेकिन अब 2 बेस्ट टीमों के बीच सबसे बड़ा मैच खेला जाएगा। मौका बड़ा है और ऐसे में इंडिया टीवी हिंदी आपको इस फाइनल मैच से जुड़ी हर अपडेट से रूबरू कराएगा। फ्रांस की टीम ने फाइनल में पहुंचने के लिए अर्जेंटीना, उरुग्वे और बेल्जियम जैसी टीमों को हराया है।वहीं, क्रोएशिया ने डेनमार्क, रूस जैसी टीमों के शिकस्त दी है। फ्रांस की टीम ने अब तक सिर्फ एक बार विश्व कप अपने नाम किया है। साल 1998 में फ्रांस ने पहली और आखिरी बार इस खिताब पर कब्जा जमाया था और अब 20 साल के बाद टीम के पास एक बार फिर से इतिहास रचने का मौका है। वहीं, साल 1998 में विश्व कप डेब्यू करने वाली क्रोएशियाई टीम पहली बार विश्व कप के फाइनल में पहुंची है। जाहिर है कि क्रोएशिया पहली बार इस खिताब को जीतने को बेताब होगा तो वहीं, फ्रांस भी 20 साल के सूखे को खत्म करने के इरादे से मैदान पर उतरेगा।

दक्षिण अफ्रीका को लगा बड़ा झटका: कोरोना की वजह से बाहर हुआ यह धुरंधर, इस खिलाड़ी की पांच साल बाद वापसी

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीरिलायंस जियो की टक्‍कर में आइडिया ने भी पेश किया 84 दिनों का प्‍लान, जानिए क्‍या है ऑफर****** रिलायंस जियो को टक्‍कर देने के लिए आइडिया ने भी धमाकेदार प्रीपेड प्‍लान लॉन्‍च कर दिया है। रिलायंस जियो के 84 दिन वाले अनलिमिटेड प्‍लान की तर्ज पर आइडिया ने अपना प्‍लान पेश किया है। इसमें आपको प्रति दिन 1 जीबी 3जी डेटा, अनलिमिटेड लोकल, एसटीडी, फ्री रोमिंग आउटगो‍इंग के अलावा 100 मुफ्त एसएमएस की सुविधा मिलेगी। इस पैक की कीमत 509 रुपए है। इस प्‍लान के साथ आइडिया की कोशिश एयरटेल और वोडाफोन के प्‍लान की बराबरी करने की है। इससे पहले वोडाफोन और एयरटेल भी लंबी वैधता वाले प्रीपेड प्‍लान लॉन्‍च कर चुके हैं। मौजूदा रिचार्ज प्‍लानों से इसकी तुलना की जाए तो इसका मुकाबला रिलायंस जियो के 459 रुपए के पैक से है। जियो के इस पैक में 84 दिन की वैधता के साथ मुफ्त कॉल और हर रोज 100 एसएमएस के अलावा जियो ऐप का ऐक्सस मिलता है। ऐसे में रिलायंस जियो का प्‍लान अभी भी आइडिया से सस्‍ता है। हालांकि रिलायंस जियो के पास 509 रुपये वाला भी एक पैक है लेकिन इसकी वैधता सिर्फ 49 दिन की है। लेकिन इसमें आपको 2 जीबी प्रति दिन डेटा मिलता है। साथ ही जियो की दूसरी सुविधाएं भी इसमें उपलब्‍ध है। वैसे देखा जाए तो यह प्‍लान एयरटेल और वोडाफोन के प्‍लान के बराबर है। दोनों के प्‍लान भी 509 रुपए का है। इसमें ग्राहकों को 1 जीबी 4जी डेटा हर रोज, अनलिमिटेड लोकल और एसटीडी कॉल, मुफ्त रोमिंग आउटगोइंग और 100 एसएमएस मिलते हैं। इस पैक की वैधता भी 84 दिन की है।इससे पहले इसी हफ्ते आइडिया ने नया पैक लॉन्‍च किया था, जिसमें ग्राहकों को 50 फीसदी अतिरिक्‍त डेटा मिलेगा। कंपनी ने यह ऑफर 198 रुपए के प्‍लान के साथ पेश किया है। यह ऑफर फिलहाल गुजरात और मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ सर्कल के ग्राहकों को मिलेगा। आपको बता दें कि आइडिया ने यह प्‍ला अपने प्रीपेड ग्राहकों के लिए अक्‍टूबर में लॉन्‍च किया था। इसमें ग्राहकों को 28 दिनों के लिए 1 जीबी डेटा मिलता था, जिसे बढ़ा कर कंपनी ने 1.5 जीबी कर दिया है। यानि कि 500 एमबी अतिरिक्‍त डेटा। आइडिया वेबसाइट या माइआइडिया ऐप से रीचार्ज कराने वाले यूज़र को कंपनी की ओर से 1 जीबी अतिरिक्त डेटा मिलेगा। इस तरह कुल डेटा 2.5 जीबी हो जाएगा।

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीउपराष्ट्रपति चुनाव: जदयू के समर्थन को ठुकराने का सुझाव नहीं मानेंगे गोपालकृष्ण******विपक्षी पार्टियों की ओर से उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ने गुरुवार को उस सुझाव को खारिज कर दिया, जिसमें उन्हें कहा गया था कि उन्हें जनता दल (युनाइटेड) का समर्थन नहीं लेना चाहिए। नीतीश कुमार द्वारा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से हाथ मिलाए जाने के बाद गोपालकृष्ण को यह सुझाव मिला था, जिसे उन्होंने मानने से इनकार कर दिया। बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू प्रमुख नीतीश कुमार को भाजपा की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) से हाथ मिलाने के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता तारिक अनवर ने गोपालकृष्ण को सुझाव दिया था कि उन्हें जदयू का समर्थन लेने से इनकार करना चाहिए। इस सुझाव के बारे में पूछे जाने पर गोपालकृष्ण ने कहा, "नीतीश बाबू ने जो फैसला लिया, वह उनका अपना फैसला था और यह उनका विशेषाधिकार है।" नीतीश जब बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) और कांग्रेस के समर्थन वाली बड़ी गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रहे थे, तब उन्होंने गोपालकृष्ण को समर्थन देने की घोषणा की थी। इसके बाद नीतीश ने स्वयं ही दोनों पार्टियों से पल्ला झाड़ते हुए भाजपा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से हाथ मिला लिया। लेकिन, उन्होंने यह भी कहा कि वह उप राष्ट्रपति के चुनाव में गोपालकृष्ण का समर्थन करेंगे।गोपालकृष्ण ने नीतीश के फैसले पर किसी प्रकार की प्रतिक्रिया नहीं दी। उन्होंने कहा, "वर्तमान संदंर्भ में, मैं किसी भी राजनेता के बारे में अपनी राय नहीं दे सकता। यह उनका काम है कि वे उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों के सापेक्ष गुणों का आकलन करें।" उन्होंने इसके साथ ही राजद की ओर से मिले समर्थन के बारे में अधिक चर्चा नहीं की, जिसके नेता भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक बार फिर यह उनका फैसला है और उनका विशेषाधिकार है। उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार गोपालकृष्ण को कांग्रेस व अन्य विपक्षी पार्टियों का समर्थन मिला हुआ है और पांच अगस्त को होने वाले चुनावों में उनके सामने राजग के उम्मीदवार वेंकैया नायडू होंगे।गोपालकृष्‍ण गांधी को उनके भांजे श्रीकृष्‍ण कुलकर्णी ने खत लिखा है और उनकी उम्‍मीदवारी पर सवाल उठाए हैं। कुलकर्णी ने लिखा, गांधीजी के कट्टर आलोचक भी इससे इनकार नहीं करेंगे कि गांधीजी ने विशेष परिवार में जन्‍म के कारण मिलने वाले फायदे का विरोध किया था।कांग्रेस पार्टी पर नेहरू-गांधी परिवार का राज होने का विरोध करते हुए कुलकर्णी ने कहा, 'नेहरू-गांधी परिवार ने राजवंश को फिर से स्थापित कर दिया। कांग्रेस की अध्यक्ष इस पद पर पिछले 18 सालों से हैं उनकी जगह लेने के लिए उनका बेटा तैयार है। इतने सब के बावजूद आप उनके उम्मीदवार बनने को तैयार हैं? वंशवाद से घिरे होकर आपके नामांकन पत्र भरने की तस्वीरों को देख मुझे बेचैनी हो गई थी।'उन्होंने अपने पत्र में आगे लिखा, 'इतने सालों में इतने सारे घोटाले और आपकी एक भी टिप्पणी भी नहीं। क्या आपको लगता है कि यह सबकुछ राजनीतिक साजिश है?' इसके अलावा उन्होंने खत में यह भी लिखा है 'नॉट इन गांधीजी नेम'। खत के आखिर में कुलकर्णी ने लिखा है, 'मुझे माफ करें गोपू मामा, लेकिन आपके इस फैसले से मेरे अंदर विश्वास नहीं जागता, बल्कि यह विश्वासघात है, मेरे अंदर आपके लिए स्नेह कभी कम नहीं होगा। उपराष्ट्रपति की दौड़ में मेरी शुभकामनाएं आपके साथ।'दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीबेंगलुरु और पुणे जैसे आईटी हब के किरायेदारों को मिलेगी राहत, 10% से 20% तक घट सकता है किराया******इस रिपोर्ट के अनुसार इस समय भारत का आईटी सेक्‍टर बेहद प्रतिकूल परिस्थितियों से गुजर रहा है। बड़ी संख्‍या में नौकरियां जा रही हैं वहीं इस साल होने वाली वार्षिक बढ़ोत्‍तरी भी नाममात्र की ही हुई है। जिसके चलते किराएदारों के लिए बढ़ा किराया दे पाना या फिर मकान मालिकों के लिए अधिक किराए पर किराएदार ढूंढ पाना दोनों मुश्किल भरा है। इसके चलते किरायेदार मौजूदा किराया समझौतों में भी बेहतर विकल्पों व मासिक किराए में किसी बढोतरी की मांग नहीं कर रहे हैं।

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीइन 7 फूड्स को खाना थायराइड पेशेंट के लिए है खतरनाक, तुरंत कर दें खाना बंद******खराब लाइफस्टाइल की वजह से लोगों को कई बीमारियों से जूझना पड़ रहा है। इन्हीं बीमारियों में से एक बीमारी थायराइड भी है। ये बीमारी किसी भी उम्र में किसी को भी अपनी चपेट में ले रही है। वैसे तो इस बीमारी के 5 प्रकार होते हैं लेकिन ज्यादातर लोग हाइपो थायराइड और हाइपर थायराइड से पीड़ित है। खास बात है कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं इस बीमारी से ज्यादा ग्रसित हो रही हैं। ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसे फूड्स के बारे में बताएंगे जिन्हें आप अपनी डाइट में बिल्कुल भी शामिल ना करें। ये फूड आइटम्स थायराइड बढ़ाने के लिए जिम्मेदार माने जाते हैं। इसके साथ ही हम आपको थायराइड बढ़े होने के लक्षण भी बताते हैंपालक, ब्रोकली और गोभी वैसे तो सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है। इनमें फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है। बहुत ही कम लोग इस बात को जानते होंगे कि थायराइड से मरीजों के लिए इन सब्जियों का सेवन नुकसानदायक होता है। एक अध्ययन के मुताबिक इनमें गोइट्रोजेन्स होते हैं जो हाइपोथायराइडिज्म के मरीजों के लिए मुश्किलें और बढ़ा सकते हैं।सोयाबीन और उससे बनी चीजें भी थायराइड के मरीजों को नहीं खानी चाहिए। जैसे कि सोया चाप, सोया बड़ी या फिर सोया मिल्क। विशेषज्ञों की मानें तो सोया या फिर उससे बनी चीजों को सेवन करने से भी थायराइड का खतरा बढ़ जाता है।चावल, ब्रेड और पास्ता में ग्लूटेन मौजूद होता है। यही ग्लूटेन थायराइड के मरीजों के लिए हानिकारक होता है। वहीं गेहू और जौ के अलावा बाकी साबुत अनाजों में पाया जाने वाला ग्लूटेन एक तरह का प्रोटीन होता है। यही प्रोटीन थायराइड हार्मोन को अनियमित करने के लिए जिम्मेदार होता है।दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीबिहार चुनाव से पहले RJD में फूट? पार्टी के विधायक ने कहा नीतीश ही बनाएंगे सरकार****** बिहार में इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों से ठीक पहले राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल में फूट पड़ती हुई नजर आ रही है। राष्ट्रीय जनता दल के विधायक फराज फातमी ने राष्ट्रीय नागरिकता कानून (NRC) के विरोध में तेजस्वी यादव की रैली को लेकर सवाल उठाए हैं और कहा है कि 2020 में चुनाव के बाद राज्य में एक बार फिर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ही सरकार बनाएंगे। फराज फातमी ने कहा, ‘‘मैं नहीं जानता कि वे (तेजस्वी यादव) NRC के विरोध में रैली क्यों कर रहे हैं, राज्य सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है कि बिहार में NRC लागू नहीं होगा। बिहार में नीतीश कुमार से बड़ा चेहरा कोई नहीं है और वे ही 2020 के विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में एक बार फिर सरकार बनाएंगे।’’ बता दें किबिहार में सितंबर और अक्तूबर 2015 में पिछले विधानसभा चुनाव हुए थे और इसी साल अक्तूबर में राज्य की विधानसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है।माना जा रहा है कि इस साल अक्तूबर तक राज्य में विधानसभा चुनाव होने तय हैं। 2015 के बिहार विधानसभा चुनावों के दौरान राष्ट्रीय जनता दल, जनता दल यूनाइटेड और कांग्रेस ने मिलकर भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ चुनाव लड़ा था, जिसमें राष्ट्रीय जनता दल के 80, जनता दल यूनाइटेड के 71 और कांग्रेस के 27 विधायक जीते थे जबकि भारतीय जनता पार्टी के 53 विधायकों की जीत हुई थी।वहीं, भाजपा की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी और राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के 4 विधायक जीते थे। लेकिन जुलाई 2017 में नीतीश की पार्टी ने कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल से गठबंधन तोड़ फिर से भारतीय जनता पार्टी के साथ हाथ मिलाया और नए सिरे से सरकार बनाई।

दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीHaryana HOS 10th Result 2021: आज जारी होगा हरियाणा ओपन स्कूल 10वीं का रिजल्ट, इन स्टेप्स से करें चेक****** स्टूडेंट्स के लिए हरियाणा एसओएस रिजल्ट 2021 की घोषणा का इंतजार आज खत्म हो जाएगा। बोर्ड से मिली जानकारी के अनुसार, हरियाणा बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (HBSE) द्वारा ओपन स्कूल (HOS) 10वीं परीक्षा 2021 का रिजल्ट 18 जून यानी आज घोषित किया जाएगा। रिजल्ट जारी होने के बाद स्टूडेंट्स ऑफिशियल वेबसाइट, bseh.org.in पर जाकर अपना रिजल्ट चेक कर सकेंगे।गौरतलब है कि हरियाणा बोर्ड ओपन स्कूल की कक्षा 10 और 12 परीक्षा 2021 का आयोजन अप्रैल और मई में किया गया था। 12वीं कक्षा के रिजल्ट की तारीख को लेकर फिलहाल कोई अपडेट नहीं दिया गया है। 12वीं के रिजल्ट को लेकर एचबीएसई द्वारा जल्द ही जानकारी दिए जाने की संभावना है।दक्षिणअफ्रीकाकोलगाबड़ाझटकाकोरोनाकीवजहसेबाहरहुआयहधुरंधरइसखिलाड़ीकीपांचसालबादवापसीविवाह में आ रही है किसी भी तरह की अड़चन, तो नवरात्र के छठे दिन जरुर करें ये खास उपाय******आज चैत्र शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को का छठा दिन है। आज देवी दुर्गा के छठे स्वरूप मां कात्यायनी की पूडा-अर्चना की जाती है। कहते हैं मां कात्यायनी की उपासना से व्यक्ति को किसी प्रकार का भय या डर नहीं रहता और उसे किसी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी परेशानी का सामना भी नहीं करना पड़ता।सबसे बड़ी बात, देवी मां की उपासना उन लोगों के लिये बेहद ही लाभकारी है, जो बहुत समय से अपने लिये या अपने बच्चों के लिये शादी का रिश्ता ढूंढ रहे हैं, लेकिन उन्हें कोई अच्छा रिश्ता नहीं मिल पा रहा है। अतः अगर आप भी इस तरह की समस्याओं से परेशान हैं, तो आज के दिन मां कात्यायनी की उपासना करके आपको लाभ जरूर उठाना चाहिए और वो आप कैसे उठा सकते हैं, ये सब हम आपको बतायेंगे।आज दोपहर 03 बजकर 32 मिनट तक शोभन योग रहेगा। शुभ कार्यों के लिये और कहीं बाहर यात्रा पर जाने के लिए ये योग बड़ा ही अच्छा माना जाता है। इस योग में यात्रा करने से किसी प्रकार की असुविधा नहीं होती और व्यक्ति को आनंद की अनुभूति होती है। साथ ही जिस भी कामना से यात्रा की जाती है, वह कामना भी पूरी होती है। शोभन योग के अलावा आज सुबह 10 बजकर 25 मिनट तक सारे काम बनाने वाला रवि योग भी रहेगा अतः आप आज के दिन इन दोनों योग का फायदा उठा सकते हैं। जानें आचार्य इंदु प्रकाश से इन खास उपायों के बारें में।नन्द गोप सुतं देवि पतिं मे कुरुते नमः।।आज के दिन इस मंत्र का जप करने से आपको जल्द ही अपने लिये एक सुयोग्य वर या कहें एक ऐसा पति मिलेगा, जो सूरत के साथ ही सीरत से भी अच्छा होगा।इस प्रकार मंत्र का जप करने से आपकी कन्या के विवाह में आ रही परेशानियां दूर होगी और बहुत जल्द ही आपको अपनी बेटी के लिये अच्छा रिश्ता भी मिलेगा।आज के दिन इस मंत्र का जप करने से आपको जल्द ही अपने लिये एक सुंदर और समझदार पत्नी मिलेगी, जिससे आपका जीवन आनन्द से भर जायेगा।

सम्बंधित जानकारी
गर्म सामग्री