महाराष्ट्र: 59 वर्ष के इतिहास में तीसरी बार राष्ट्रपति शासन, जानिए पहली बार कब लगा था

समय:2022-09-30 14:50:52स्रोत:संवेदनशीलता नेटवर्क लेखक:झेंग्झौ शहर

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाइंडिया में लॉन्‍च हुआ Samsung Galaxy Note10 Lite, 1TB तक स्‍टोरेज वाले इस डिवाइस की कीमत है बहुत कम******Samsung Galaxy Note10 Lite in India for Rs 38,999सैमसंग इंडिया ने मंगलवार को अपने बहुप्रतीक्षित गैलेक्‍सी नोट 10 लाइट स्‍मार्टफोन को भारत में लॉन्‍च कर दिया है। इसकी शुरुआती कीमत 38,999 रुपए है। यह फोन 4500एमएएच बैटरी, प्रो-ग्रेड कैमरा और सुपर-फास्‍ट चार्जिंग के साथ आता है। के 6जीबी वेरिएंट की कीमत 38,999 रुपए, जबकि इसके 8जीबी वेरिएंट की कीमत 40,999 रुपए है। दोनों मॉडल 128जीबी की इंटरनल मेमोरी के साथ आते हैं। यह दोनों डिवाइस 1टीबी तक की एक्‍सपैंडेबल मेमोरी को सपोर्ट प्रदान करेंगे।कंपनी ने एक बयान में कहा कि 5,000 रुपए तक के अपग्रेड ऑफर के साथ उपभोक्‍ता गैलेक्‍सी नोट10 लाइट को 33,999 रुपए में खरीद सकते हैं। गैलेक्‍सी नोट10 लाइट की प्री-बुकिंग मंगलवार को दोपहर 2 बजे से शुरू कर दी गई है। इस डिवाइस की पहली सेल 3 फरवरी को शुरू होगी और यह सभी प्रमुख रिटेल स्‍टोर्स, ऑनलाइन स्‍टोर्स और सैमसंग डॉट कॉम पर उपलब्‍ध होगा।सैमसंग गैलेक्‍सी नोट10 लाइट में 6.7 इंच सुपर एमोलेड, एज-टू-एज इनफ‍िनिटी-ओ डिस्‍प्‍ले है। इसके रियर कैमरा सेटअप में डुअल पिक्‍सल ओआईएस 12 मेगापिक्‍सल वाइड कैमरा और साथ में अल्‍ट्रा वाइड 12 मेगापिक्‍सल सेंसर और एक 12 मेगापिक्‍सल टेली लेंस दिया गया है। कैमरा सिस्‍टम सुपर स्टीडी मोड के साथ आता है, जो यूजर्स को मोशन ब्‍लर के बगैर हाई-मोशन वीडियो को रिकॉर्ड करने में सक्षम बनाता है।इस डिवाइस में 32मेगापिक्‍सल सेल्‍फी कैमरा है, जिसे बेहतर कम-रोशनी वाले शॉट्स के लिए अपग्रेड किया गया है। ब्‍लूटूथ सक्षम एस पेन यूजर्स को फोटो और वीडियो को व्‍यक्तिगत बनाने में सक्षम बनाता है। एस पेन का एयर कमांड फीचर यूजर्स को पिक्‍चर क्लिक करने और वीडियो को एडिट करने की सुविधा प्रदान करता है।अन्‍य प्रीमियम सैमसंग स्‍मार्टफोन की तरह गैलेक्‍सी नोट10 लाइट भी बिक्‍सबाई वर्चुअल असिस्‍टेंट, सैमसंग पे, सैमसंग हेल्थ और डिफेंस-ग्रेड सिक्‍यूरिटी प्‍लेटफॉर्म सैमसंग नॉक्‍स के साथ लैस है।

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथावर्ष 2020 प्राइवेट सेक्‍टर के कर्मचारियों के लिए होगा खास, वेतन में औसतन 10% वृद्धि का अनुमान******India to see 10Pc salary increase in 2020 अर्थव्‍यवस्‍था में नरमी के बावजूद भारत में अगले साल प्राइवेट सेक्‍टर में काम करने वाले कर्मचारियों की सैलरी में 10 प्रतिशत का इजाफा होने का अनुमान है। विलिस टॉवर वाट्सन की सैलरी बजट प्‍लानिंग नामक रिपोर्ट के अनुसार 2019 में कर्मचारियों के वेतन में प्रभावी रूप से 9.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो अगले साल 10 प्रतिशत पर पहुंच सकती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि में हालांकि 10 प्रतिशत की वृद्धि एक रिवाज बनती जा रही है लेकिन यह एशिया प्रशांत क्षेत्र में सर्वाधिक है। इंडोनेशिया में कर्मचारियों के वेजन में 8 प्रतिशत, चीन में 6.5 प्रतिशत, फ‍िलीपींस में 6 प्रतिशत, हांगकांग और सिंगापुर में 4 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान है।विलिस टॉवर्स वाट्सन इंडिया के परामर्श प्रमुख (टैलेंट एंड रिवार्ड) राजुल माथुर ने कहा कि हालांकि एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत में वेतन में वृद्धि निरंतर ऊंची बनी हुई है लेकिन कंपनियां सतर्क रुख अपना रही हैं और पिछले साल के मुकाबले इसमें कोई बड़ा बदलाव करने का उनका इरादा नहीं है।कंपनियां ऑटोमेशन तथा डिजिटलीकरण से जुड़ी जरूरतों को पूरा करने के लिए चुनिंदा आधार पर कौशल आधारित क्षतिपूर्ति समायोजन शुरू कर रही हैं। सर्वे के मुताबिक कार्यकारी स्‍तर पर 2020 के लिए वेतन में औसतन 10.1 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है। पिछले साल यह 9.6 प्रतिशत था। प्रबंधन के बीच के स्‍तर के पेशेवरों के मामले में वेतन बढ़ोतरी 10.4 प्रति‍शत रह सकती है, जो 2019 में 10.1 प्रतिशत थी।महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाशेयर बाजार में तेजी जारी, सेंसेक्स 200 अंक से ज्यादा चढ़ा, निफ्टी 12,250 के ऊपर******शेयर बाजार में तेजी जारी अमेरिका और ईरान के मध्य तनाव कम होने की संभावना के बीच आईटी और बैंकिंग शेयरों में तेजी से बीएसई का सेंसेक्स शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में 200 अंक से ज्यादा बढ़ गया। बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 211.91 अंक यानी 0.51 प्रतिशत बढ़कर 41,664.26 अंक पर पहुंच गया। इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी शुरुआती दौर में 65.10 अंक यानी 0.53 प्रतिशत चढ़कर 12,281 अंक पर पहुंच गया।शुरुआती कारोबार में अमेरिकी मुद्रा डॉलर के मुकाबले रुपया शुक्रवार को 7 पैसे बढ़कर 71.14 के स्तर पर खुला। की कंपनियों में कोटक बैंक में सर्वाधिक 1.35 प्रतिशत तक की तेजी आई। एचसीएल टेक, भारती एयरटेल, इंफोसिस, टेक महिंद्रा, एलएंडटी, हीरो मोटोकॉर्प और एचडीएफसी बैंक के शेयर भी लाभ में रहे। दूसरी ओर, पावरग्रिड, एशियन पेंट्स, आईसीआईसीआई बैंक, इंडसइंड बैंक, भारतीय स्टेट बैंक और नेस्ले इंडिया के शेयरों में गिरावट रही। गौरतलब है कि सेंसेक्स गुरुवार को 634.61 अंक अर्थात 1.55 प्रतिशत बढ़कर 41,452.35 अंक जबकि निफ्टी 190.55 अंक (1.58 प्रतिशत) चढ़कर 12,215.90 अंक पर बंद हुआ था।कारोबारियों के मुताबिक, अमेरिकी सांसदों ने ईरान के खिलाफ सैन्य कार्रवाई करने की राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की शक्ति पर लगाम लगाने के लिए बृहस्पतिवार को प्रस्ताव पेश किया। इस कदम से अमेरिका और ईरान के बीच तनाव कम होने की संभावना बढ़ गई है। इससे घरेलू शेयर बाजार में तेजी का रुख रहा। एशियाई बाजारों में हांगकांग, तोक्यो और सियोल के बाजारों में शुरुआती कारोबार में तेजी का रुख रहा जबकि शंघाई में गिरावट देखी गई।वैश्विक बाजारों में मजबूत रुख और कच्चे तेल की कीमतों में नरमी से रुपया शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में सात पैसे बढ़कर 71.14 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंच गया। अंतरबैंक विदेशी विनियम बाजार में रुपया मामूली गिरावट के साथ 71.25 रुपए प्रति डॉलर पर खुला। हालांकि, घरेलू मुद्रा जल्द ही सुधरकर शुरुआती कारोबार में 71.14 रुपए प्रति डॉलर पर पहुंच गयी।अमेरिका और ईरान के बीच तनाव कम होने की संभावना से रुपया गुरुवार को 48 पैसे बढ़कर 71.21 रुपए प्रति डॉलर बंद हुआ था। वैश्विक बाजारों में शुक्रवार को तेजी देखी गई। निवेशक पश्चिमी एशिया के घटनाक्रमों से बढ़कर अमेरिका-चीन व्यापार समझौते पर ध्यान केंद्रीत कर रहे हैं। इस बीच, ब्रेंट कच्चा तेल 0.23 प्रतिशत फिसलकर 65.21 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था।

महाराष्ट्र: 59 वर्ष के इतिहास में तीसरी बार राष्ट्रपति शासन, जानिए पहली बार कब लगा था

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाIndia vs New Zealand, T-20: बारिश से बाधित मैच में जीता भारत, सीरीज पर 2-1 से कब्जा****** भारत ने बारिश से बाधित तीसरे और निर्णायक में मंगलवार कोको ग्रीनफील्ड स्टेडियम में छह रनों से हरा दिया। इसी के साथ भारत ने तीन टी-20 मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली है। बारिश के कारण यह मैच 20 ओवर से घटाकर आठ ओवर प्रति पारी कर दिया गया था। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए आठ ओवरों में पांच विकेट खोकर 67 रन बनाए। किवी टीम आठ ओवरों में छह विकेट खोकर 61 रन ही बना सकी और सीरीज से हाथ धो बैठी।भारत ने दिल्ली में खेले गए पहले मैच में जीत हासिल करते हुए 1-0 की बढ़त ले ली थी जबकि किवी टीम ने राजकोट में जीत के साथ सीरीज 1-1 से बराबर कर ली थी। धीमी विकेट पर चुनौतीपूर्ण लक्ष्य का पीछा करने उतरी किवी टीम को अच्छी शुरुआत नहीं मिली। पहले ओवर की आखिरी गेंद पर भुवनेश्वर कुमार ने मार्टिन गुप्टिल (1) को आठ के कुल स्कोर पर बोल्ड किया। अगले ओवर की तीसरी गेंद पर पिछले मैच के शतकवीर कोलिन मुनरो (7) को रोहित शर्मा ने पीछे की तरफ भागते हुए बेहतरीन कैच लेकर पवेलियन पहुंचाया।केन विलियमसन (8) टीम को आगे ले जा रहे थे, लेकिन पांचवें ओवर की तीसरी गेंद पर हार्दिक पांड्या ने विकटों पर सीधी थ्रो मारते हुए उन्हें पवेलियन भेजा। अगली ही गेंद पर ग्लेन फिलिप्स (11) ने कुलदीप यादव पर बड़ा शॉट मारने की कोशिश की, लेकिन सीमारेखा पर शिखर धवन ने उनका कैच पकड़ किवी टीम को चौथा झटका दिया।पारी के छठे ओवर में लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने सिर्फ तीन रन दिए और किवी टीम की परेशानी को दोगुना कर दिया। यहां से 12 गेंदों में न्यूजीलैंड को 29 रनों की जरूरत थी। हेनरी निकोलस (2) अगले ओवर में बुमराह की गेंद पर श्रेयस अय्यर को कैच दे बैठे। टॉम ब्रूस (4) रन आउट हुए। आखिरी ओवर में किवी टीम को जीत के लिए 19 रनों की दरकार थी।कोलिन डी ग्रांडहोम (नाबाद 17) ने मेहमानों को जीत दिलाने की कोशिश तो की, लेकिन पांड्या ने उनके प्रयास को सफल नहीं होने दिया। भारत की तरफ से बुमराह ने दो विकेट लिए। भुवनेश्वर और कुलदीप को एक-एक सफलता मिली। दो बल्लेबाज रन आउट हुए।इससे पहले, बारिश के कारण मैदान गिला होने के चलते मैच देरी से शुरू हुआ। न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर भारत को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। कम ओवरों के मैच में भारत की कोशिश तेजी से रन बटोरते हुए बड़ा स्कोर खड़ा करने की थी। भारत की शुरुआत खराब रही। उसने तीसरे ओवर की दूसरी और तीसरी गेंद पर धवन (6) और रोहित (8 ) के विकेट खो दिए। इन दोनों को टिम साउदी की गेंद पर मिशेल सैंटनर ने 15 के कुल स्कोर पर लपका।हालांकि कप्तान विराट कोहली पर इसका असर नहीं पड़ा। उन्होंने अगला ओवर लेकर आए ईश सोढ़ी के ओवर में एक छक्का और एक चौका जड़ा, लेकिन एक और बड़ा शॉट मारने के प्रयास में वह डीप मिडविकेट पर ट्रेंट बाउल्ट के हाथों लपके गए। उन्होंने 6 गेंद में 13 रन बनाए। छह गेंदों में छह रन बनाने वाले श्रेयस अय्यर सोढ़ी की गेंद पर गुप्टिल द्वारा लपके गए। 11 गेंदों में एक चौके और एक छक्के की मदद से 17 रन बनाने वाले मनीष पांडे को सैंटनर और ग्रांडहोम की जोड़ी ने शानदार कैच पकड़ते हुए पवेलियन भेजा। हार्दिक पांड्या 10 गेंदों में एक छक्के की मदद से 14 रन बनाकर नाबाद लौटे। किवी टीम के लिए सैंटनर और सोढ़ी ने दो-दो विकेट लिए। बाउल्ट को एक सफलता मिली।महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाभाजपा ने पूर्वी दिल्ली से गौतम गंभीर, नई दिल्ली से मीनाक्षी लेखी को लोकसभा चुनाव के लिए मैदान में उतारा******ने पूर्व क्रिकेटर को पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट से और मौजूदा सांसद मीनाक्षी लेखी को नयी दिल्ली सीट से उतारने की सोमवार को घोषणा की। पार्टी ने दिल्ली की सात सीटों में सेअब तक छह पर उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया है। गंभीर को महेश गिरि की जगह खड़ा किया गया है और उनका मुकाबला कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली तथा आम आदमी पार्टी की आतिशी से होगा।पूर्वी दिल्ली के मौजूदा सांसद गिरि ने गंभीर को टिकट मिलने की बधाई दी। उन्होंने चुनाव के लिये शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वह गंभीर की नामांकन रैली में शामिल होंगे। लेखी का मुकाबला आप के ब्रजेशगोयल और कांग्रेस के अजय माकन से है। हालांकि उत्तर पश्चिम सीट से भाजपा के उम्मीदवार के नाम पर संशय बरकरार है। आरक्षित उत्तर पश्चिम सीट के मौजूदा सांसद उदित राज ने टिकट नहीं मिलने केसंकेत देते हुए सोमवार को पार्टी को जल्दी स्थिति स्पष्ट करने को कहा। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि वह भाजपा की आधिकारिक घोषणा तक इंतजार करेंगे और उसके बाद आगे के कदम की घोषणा करेंगे।इससे पहले रविवार को भाजपा ने दिल्ली की चार सीटों पर अपने मौजूदा सांसदों को प्रत्याशी घोषित किया था। इनमें चांदनी चौक से हर्षवर्धन, उत्तर पूर्व दिल्ली से मनोज तिवारी, पश्चिम दिल्ली से प्रवेश वर्मा औरदक्षिण दिल्ली से रमेश बिधूड़ी हैं। पार्टी ने अभी उत्तर पश्चिम दिल्ली से अपने उम्मीदवार का नाम घोषित नहीं किया है। पिछले चुनाव में भाजपा ने दिल्ली की सभी सातों सीटों पर जीत हासिल की थी।महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाकुछ ही दिनों में दूर हो जाएगी डार्क अंडरआर्म्स की समस्या, बस अपनाएं ये घरेलू उपाय******गर्मियों का मौसम शुरू होते ही हल्के कपड़े पहनने का समय आ जाता है। ज्यादातर महिलाएं गर्म मौसम में स्लीवलेस कपड़े पहनना पसंद करती हैं लेकिन बहुत बार वह कपड़े आज़ादी से नहीं पहन पाती हैं क्योंकि डार्क अंडरआर्म्स बीच में रोड़ा बन जाता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए कई तरह के केमिकल युक्त प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हैं लेकिन कुछ समय बाद यह दोबारा काले पड़ जाते हैं। इसलिए हम लेकर आए हैं कुछ जिन्हें अपनाकर आसानी से आम काले अंडरआर्म्स को हल्का कर देंगे।नींबू को नैचुरल ब्लीचिंग एजेंट माना जाता है। रोजाना बस नहाने से पहले 2-3 मिनट नींबू को प्रभावित जगह पर हल्के हाथों से रगड़े। इसके बाद साफ पानी से धो लें।प्राचीन समय में महिलाओं अपनी खूबसूरती बढ़ाने के लिए ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करते थीं। इसका इस्तेमाल करने के लिए एक बाउल में एक चम्मच ब्राउन शुगर के साथ 1 चम्मच जैतून का तेल डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर लें। इसे दो मिनट तक स्क्रब करें और फिर कुछ मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद नॉर्मल पानी से धो लें।एप्पल साइडर सिरका न केवल वसा को कम करता है बल्कि डेड स्किन को हटाने में मदद करता है, क्योंकि इसमें हल्के एसिड होते हैं जो नैचुरल क्लींजर होते हैं। अंडर आर्म्स के कालेपन से निजात पाने के लिए 2 चम्म सेब का सिरका लें और उसमें थोड़ा सा बेकिंग सोडा डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर लें। इसके बाद इसे प्रभावित जगह पर लगाएं। सुख जाने के बाद ठंडे पानी से धो लें।नारियल तेल अपने प्राकृतिक स्किन लाइटनिंग एजेंट के लिए फेमस है। बस नारियल तेल के साथ अपने अंडरआर्म्स की मालिश करें और इसे पंद्रह मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद साफ पानी से धो लें।हर घर में बेकिंग सोडा आसानी से मिल जाता है। यह अंडरआर्म्स को हल्का करने के लिए सबसे अच्छी चीज़ है। इसके लिए एक बाउल में बेकिंग सोडा औऱ पानी डालकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। अब, इस पेस्ट को हफ्ते में दो बार अपने अंडरआर्म्स पर लगाएं।

महाराष्ट्र: 59 वर्ष के इतिहास में तीसरी बार राष्ट्रपति शासन, जानिए पहली बार कब लगा था

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाविश्व कप 2011 में इन तीन खिलाड़ियों ने भी मचाया था धमाल लेकिन इनकी चमक रह गई फीकी******महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 9 साल पहले आज ही के दिन भारतीय क्रिकेट टीम दूसरी बार विश्व चैंपियन बनी थी। कपिल देव की कप्तानी में 1983 विश्व कप के बाद भारत को इस दिन के लिए 28 सालों का इंतजार करना पड़ा था। विश्व कप 2011 का फाइनल मुकाबला भारत और श्रीलंका के बीच 2 अप्रैल को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था। इस मुकाबले में भारतीय टीम ने श्रीलंका को 6 विकेट से हराकर खिताबी जीत हासिल की थी।भारतीय टीम का इस पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन रहा। अपनी सरजमीं पर खेले जा रहे इस विश्व कप में भारतीय टीम को नॉकआउट स्टेज से पहले सिर्फ साउथ अफ्रीका के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था।इसके बाद भारत ने नॉकआउट स्टेज में डिफेंडिंग चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को क्वार्टरफाइनल और पाकिस्तान को सेमीफाइनल में हराकर फाइनल में अपनी जगह पक्की की थी जहां उसने श्रीलंका को हराकर खिताबी जीत हासिल की थी।भारतीय टीम की इस खिताबी जीत में युवराज सिंह, सचिन तेंदुलकर और जहीर खान जैसे खिलाड़ियों ने दमदार प्रदर्शन किया था। सचिन इस पूरे टूर्नामेंट में सबसे अधिक 481 रन बनाने वाले खिलाड़ी बने थे जबकि युवराज ने अपने ऑलराउंड प्रदर्शन से टूर्नामेंट में 362 रन बनाने के साथ 15 विकेट भी हासिल किए थे।इसके अलावा भारत के लिए जहीर खान ने इस टूर्नामेंट में 21 विकेट लिए थे। जहीर विश्व कप 2011 में विकेट लेने के मामले में पाकिस्तान के शाहिद अफरीदी के साथ संयुक्त रूप से पहले स्थान पर रहे थे लेकिन इसके अलावा तीन ऐसे खिलाड़ी भी थे जिनके दमदार प्रदर्शन ने भारतीय टीम के लिए खिताबी जीत को आसान बनाया था लेकिन इसके बावजूद भारतीय टीम में उनकी चमक फीकी रही गई।गौतम गंभीर के करियर में सबसे बड़ी उपलब्धि विश्व कप 2011 के फाइनल मैच में खेली गई उनकी 97 रनों की पारी मानी जाती है। गंभीर की इस दमदार पारी की बदौलत ही भारतीय टीम विश्व चैंपियन बनने में कामयाब रही थी।गंभीर के बल्ले से यह पारी तब आई थी जब श्रीलंकाई गेंदबाजों ने वीरेंद्र सहवाग और सचिन तेंदुलकर का विकेट भारत ने सस्ते में गंवा दिया था। इसके बाद गंभीर ने विराट कोहली और धोनी के साथ महत्वपूर्ण साझेदारी कर टीम इंडिया की जीत नीव रखी।गंभीर का इस पूरे टूर्नामेंट में प्रदर्शन शानदार रहा था। गंभीर ने विश्व कप 2011 में दमदार बल्लेबाजी करते हुए 393 रन बनाए थे जिसमें 4 अर्द्धशतक शामिल था। सचिन के बाद गंभीर टूर्मामेंट में दूसरे सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज थे लेकिन इसके बावजूद उनको बाकि खिलाड़ियों के बराबर ख्याति प्राप्त नहीं कर पाए।धोनी अपनी कप्तानी में जहीर खान के बाद सबसे अधिक भरोसा मिडियम पेसर मुनाफ पटेल पर करते थे। मुनाफ ने विश्व कप 2011 में भारतीय टीम के लिए दमदार प्रदर्शन किया था लेकिन इसके बावजूद वह अपनी चमक नहीं बिखेर पाए थे।विश्व कप 2011 में मुनाफ को कुल 8 मैचों में खेलने का मौका मिला था। हालांकि मुनाफ टूर्नामेंट में अधिक विकेट नहीं ले पाए लेकिन उन्होंने अपनी कसी हुई गेंदबाजी से भारतीय टीम को एक संतुलन प्रदान किया।विश्व कप 2011 में मुनाफ कुल 11 विकेट लिए थे जिसमें उनका इकॉनमी रेट 5.36 का रहा था। मुनाफ ने टूर्नामेंट के पहले ही मुकाबले में बांग्लादेश के खिलाफ 48 रन खर्च कर 4 विकेट लिए थे।विस्फोटक ओपनर बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के लिए विश्व कप 2011 मिला जुला रहा। श्रीलंका के खिलाफ फाइनल मैच में सहवाग से काफी उम्मीदें थी लेकिन वह बिना खाता खोले ही पवेलियन वापस लौट गए। इसके अलावा वह टूर्नामेंट चोट से भी जूझते रहे थे बावजूद इसके वे अपनी छाप छोड़ने में कामयाब रहे।सहवाग के इसी दमदार प्रदर्शन के बदौलत के कारण भारतीय टीम विश्व चैंपियन में बनने में कामयाब हो पाई थी। सहवाग ने पूरे टूर्नामेंट में भारतीय टीम को विस्फोटक शुरुआत दिलाई थी।सहवाग ने इस पूरे टूर्नामेंट में 122.58 की स्ट्राइक रेट से 380 रन बनाए थे जिसमें बांग्लादेश के खिलाफ उनका 175 रनों की पारी भी शामिल है। विश्व कप में सहवाग का यह सार्वधिक स्कोर है।महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाअपना घाघरा-चोली कर लें तैयार, दिल्ली में इन जगहों पर होगी डांडिया नाइट्स******सितंबर माह की का हर किसी को बेसब्री से इंतजार होता है। जहां एक ओर मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। वहीं दूसरी ओर डांडिया सेलिब्रेशन होता है। इस बार शारदीय नवरात्रि 29 सितंबर से 8 अक्टूबर तक है। इस खास मौक में हर कोई चाहता है कि एक बार वह भी डांडिया उत्सव में जाएं और खूब धूम-धड़ाका करें।नवरात्रि के खास मौके में दिल्ली के आसपास कई जगहों पर नवरात्रि का आयोजन किया जाता है। जानें इन जगहों के बारे में जहां आप खूब डांडिया का आनंद ले सकते है।हर साल दिल्ली के सरिता विहार में डांडिया नाइट का आयोजन किया जाता है। इस बार K और L कम्यूनिटी हॉल में आयोजन किया जाएगा।4 अक्टूबर शाम 6:30 से रात 10:30 तक के और एल कम्युनिटी हॉल, सरिता विहार 300 रुपएकब- 6 अक्टूबर शाम 5 बजे से रात 9:30 तकदिल्ली हॉट, प्रीतमपुरा350 रुपए प्रति व्यक्तिअगर आप दिल्ली में कोई शानदार जगह डांडिया के लिए सर्च कर रहे हैं तो यह जगह अच्छी हो सकती है। यहां पर डांडिया के साथ-साथ लाइव परफॉर्मेंस, प्रोफेशनल फोटोग्राफर्स, ढोल के साथ डीजे के अलावा कई कॉम्पिटिशन रखे जाते है।5 अक्टूबर शाम 6 बजे से रात 10 बजे तकअसालतपुर पार्क जनकपुरी350 रुपए प्रति व्यक्तिरोट्रेट क्लब हर साल यहां पर डाडिया नाइट आयोजित करती हैं । जहां पर प्रोफेशनल फोटोग्राफर्स, ढोल के साथ डीजे, नवरात्रि स्पेशल फड और खूबसूरत सजावट देखने को मिलेगी। लेकिन अगर आप यहां जाने की सोच रहे है तो अपना घाघरा-चोली लेकर जाएं क्योंकि यहां का ड्रेस कोड यहीं है। 4 अक्टूबर से 6 अक्टूबर शाम 8 बजे से रात 10 बजे तकडीडीए, डिट्रिक ग्राउंड(पश्चिम विहार)599 प्रति कपल599499 2200 (एक दिन)इस डांडिया नाइट पूरी तरह से मनोरंजन से भरपूर होगा। जहां पर आपको फीमेल लाइव डीजे के साथ इंटरनेशनल म्यूजिकल डांडिया लाइव, नवरात्रि स्पेशल फूड्स, बच्चों के लिए फन एक्टिविटी, सरप्राइज और प्राइज है। यहां जाएं तो पहचान पत्र के रुप में आधार कार्ड, पैन कार्ड या कोई सरकार द्वारा प्रमाणित कागज ले जाए। यहां जाकर भी आप टिकट ले सकते हैं। 4-5 अक्टूबर शाम 7 बजे से रात 11 बजे तक Red K Velvet Hotel गाजियाबादअगर आप बिना पैसे खर्च किए डांडिया का पूरा आनंद के साथ खाना फ्री में खाना चाहते है तो इस होटल की ओर रुख कर सकते हैं।

महाराष्ट्र: 59 वर्ष के इतिहास में तीसरी बार राष्ट्रपति शासन, जानिए पहली बार कब लगा था

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाBilkis Bano: दोषियों की रिहाई के खिलाफ पदयात्रा, कई सामाजिक कार्यकर्ता हिरासत में******रैमन मैगसायसाय पुरस्कार से सम्मानित सामाजिक कार्यकर्ता संदीप पांडे और अन्य को 2002 में हुए दंगों की पीड़िता बिल्कीस बानो के साथ एकजुटता व्यक्त करने के वास्ते बिना अनुमति के पदयात्रा निकालने के लिए सोमवार को राज्य के खेड़ा जिले के सेवलिया में हिरासत में ले लिया गया। दाहोद जिले में स्थित बिल्कीस बानो के गांव रंधीकपुर से पदयात्रा निकालने की योजना बनाने के लिए पांडे और अन्य को पंचमहल पुलिस ने गोधरा में रविवार रात को हिरासत में ले लिया था।सेवलिया थाने के एक अधिकारी ने बताया, "संदीप पांडे और 10 अन्य कार्यकर्ताओं को सोमवार शाम करीब चार बजे हिरासत में लिया गया। उन्हें बिना अनुमति के पदयात्रा शुरू करने के बाद हिरासत में ले लिया गया। वे अब भी हिरासत में हैं।" कार्यकर्ताओं का दावा है कि सेवलिया में तीन स्थानीय लोगों को भी हिरासत में लिया गया, जिन्होंने उनके भोजन और रहने की व्यवस्था की थी। उनके सहयोगी कलीम सिद्दीकी ने दावा किया, "गोधरा में पांडे पदयात्रा की अनुमति के लिए अनशन पर बैठे थे।"हिंदू मुस्लिम एकता समिति ने कहा कि पदयात्रा दाहोद जिले में रंधीकपुर गांव से अहमदाबाद में साबरमती आश्रम तक 26 सितंबर से चार अक्टूबर तक निकलनी थी। इसका मकसद बिल्कीस बाने से 2002 के अन्याय और दर्द एवं मामले के 11 दोषियों की जल्द रिहाई की वजह से हुई पीड़ा के लिए माफी मांगना था। गोधरा कांड के बाद भड़के गुजरात दंगों के समय बिल्कीस बानो 21 साल की थीं और पांच माह की गर्भवती थीं। दंगों के दौरान तीन मार्च 2002 को उनके साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था और उनकी तीन वर्ष की बेटी सहित उनके परिवार के सात लोग की हत्या कर दी गई थी।समिति ने बयान में कहा कि बिल्कीस के साथ जो भी हुआ, उसके लिए और 15 अगस्त को सरकार की क्षमा नीति के तहत 11 दोषियों को रिहा करने को लेकर वे उनसे माफी मांगना चाहते थे। बिल्कीस बानो के साथ सामूहिक बलात्कार और उनके परिवार के सात सदस्यों की हत्या के जुर्म में दोषी गोधरा उप-जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे थे। मामले की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) को सौंपी गई थी और सुप्रीम कोर्ट ने मुकदमे को महाराष्ट्र की एक अदालत में स्थानांतरित कर दिया था।मुंबई की विशेष सीबीआई अदालत ने 21 जनवरी, 2008 को बिल्कीस बानो से सामूहिक बलात्कार और उनके परिवार के सात सदस्यों की हत्या के मामले में 11 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। इस सजा को बाद में बंबई हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने भी बरकरार रखा था। गुजरात सरकार की 'क्षमा नीति' के तहत इस साल 15 अगस्त को गोधरा उप-जेल से 11 दोषियों की रिहाई ने जघन्य मामलों में इस तरह की राहत के मुद्दे पर बहस छेड़ दी है। रिहाई के समय दोषी जेल में 15 साल से अधिक समय काट चुके थे।

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाशिंदे गुट ने आदित्य ठाकरे को घोड़े पर उल्टा बैठाया, पोस्टर में लिखा- युवराज की 'दिशा' हमेशा गलत हो जाती है****** शिंदे समर्थक विधायक अब तक सीधे तौर से ठाकरे परिवार पर निजी हमले करने से बच रहे थे। वे यह कहा करते थे कि बालासाहेब ठाकरे की वजह से ठाकरे परिवार के प्रति उनके मन में सम्मान है लेकिन अब यह दायरा टूटने लगा है। शिंदे गुट वर्सेस ठाकरे की लड़ाई हर रोज एक मर्यादा को लांघ रही है। महाराष्ट्र विधानसभा के मानसून सत्र के आखिरी दिन जो हुआ उसकी उम्मीद शायद किसी ने नहीं की थी क्योंकि पहली बार शिंदे ग्रुप की तरफ से ठाकरे परिवार पर निजी हमले किए गए। शिंदे गुट के विधायकों ने (Aditya Thackeray) को निशाना बनाया है। उन्होंने अपने पोस्टर्स और बैनर्स में आदित्य ठाकरे को घोड़े पर उल्टा बैठा हुआ दिखाया है।शिंदे गुट के विधायक आदित्य के खिलाफ एक पोस्टर लेकर उतरे। इस पोस्टर में पूर्व मंत्री को घोड़े पर उल्टा बैठे हुए दिखाया गया है। इसके जरिए दिखाया जा रहा है कि घोड़ा हिंदुत्व की ओर देख रहा है, लेकिन आदित्य का चेहरा महाविकास अघाड़ी की ओर है। साथ ही पोस्टर के ऊपर लिखा था- 'महाराष्ट्र के परम पुज्य (प पु) युवराज...' बीच में आदित्य का कार्टून और नीचे लिखा था- "युवराज की 'दिशा' हमेशा गलत हो जाती है"। दिशा नाम के जरिए शिंदे ग्रुप दरअसल बॉलीवुड की उस अभिनेत्री को ओर इशारा कर रहे थे जिसका नाम दिशा से शुरू होता है और जो आदित्य की गहरी दोस्त है।आदित्य ठाकरे जो ‘शिवसंवाद यात्रा’ के नाम से जो पूरे महाराष्ट्र का दौरा कर रहे हैं, उनकी खिल्ली उड़ाते हुए पोस्टर में लिखा गया है- ''पर्यटन विभाग लेकर घर में गुजारा वक्त बैठकर, सत्ता गई तो शुरू हुई इनकी पर्यटन की लहर।'' बता दें कि आदित्य ठाकरे अपने भाषणों में शिंदे गुट को अक्सर यह कह कर चुनौती देते हैं कि हिम्मत है तो वे अपनी विधायकी छोड़ कर चुनाव लड़ें। इसके जवाब में पोस्टरों और बैनर्स में लिखा गया है- ''फिर से चुनाव लड़ने की देते रहते हैं टशन, खुद विधायक बनने के लिए जिन्हें मेयर और दो एमएलसी का लेना पड़ता है कुशन।''आपको बता दें कि गुरुवार सुबह से ही सत्ता पक्ष ने खासकर शिंदे गुट के विधायकों ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर ठाकरे परिवार को घेरना शुरू किया। विपक्ष को उसी की जुबान में जवाब देते हुए शिंदे गुट ने नारे लगाए कि, ठाकरे के दलालों को.. जूते मारे %$@# को, बीएमसी के खोके...मातोश्री ओके, दाउद के खोके...MVA ओके, लवासा के खोके.. बारामती ओके। बता दें कि अंडरवर्ल्ड की दुनिया में एक करोड़ को एक खोका कहा जाता है।वहीं, आदित्य ठाकरे पर हुए निजी हमले के बाद ने भी आक्रामक रूख अपनाया है। विधानभवन में MVA विधायकों ने भी जमकर विरोध प्रदर्शन किया। 'आए रे आए.. गद्दार आए' '50 खोके..एकदम ओके' का नारा विधानभवन परिसर में गूंजने लगा। आदित्य ठाकरे ने भी बढ़-चढ़कर इस विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया और जमकर नारेबाजी की। ठाकरे परिवार के खिलाफ हुई नारेबाजी पर आदित्य ने कहा, ''हमने इन लोगों के लिए क्या-क्या नहीं किया। इनमें से तो 2-3 नेता हैं जिनको हमने ऐसे पद दिए जो कभी किसी सीएम ने दिया नहीं था। फिर भी हमारे पीठ में खंजर घोपा गया। ये तो रावण है.. ये रामराज्य नहीं है।'' उन्होंने कहा कि शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार को ‘‘बेशर्मी और विश्वासघात से हटाया गया है। हर गली का बच्चा बच्चा यह भी जानता है कि 50 बक्से का मतलब क्या होता है।''महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथा'थलाइवी' के दिहाड़ी मजदूरों की मदद के लिए आगे आई कंगना रनौत, किए इतने रुपये डोनेट******कंगना रनौत ने फिल्म एम्प्लॉइज फेडरेशन ऑफ साउथ इंडिया और अपनी अपकमिंग फिल्म थलाइवी के दिहाड़ी मजदूरों के लिए 10 लाख रुपए दान किए हैं। लॉकडाउन से पहले कंगना 'थलाइवी' की शूटिंग कर रही थीं, जिसमें वह तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता का किरदार निभाएंगी। लेकिन कोरोनावायरस की वजह से सभी फिल्मों की शूटिंग रोक दी गई। तो इन मुश्किल दिनों में कंगना फिल्म फेडरेशन के कर्मचारियों और दिहाड़ी मजदूरों की मदद के लिए आगे आई हैं।कंगना ने पांच लाख फिल्म एम्प्लॉइज फेडरेशन ऑफ साउथ इंडिया को दिया है और बाकी 5 लाख फिल्म 'थलाइवी' के दिहाड़ी मजदूरों के लिए।तमिल सिनेमा के कई शीर्ष सितारों ने महासंघ को दान दिया है। रजनीकांत ने 50 लाख रुपये दिए, जबकि अभिनेता विजय सेतुपति ने फिल्म एम्प्लॉइज फेडरेशन ऑफ साउथ इंडिया सदस्यों के कल्याण के लिए 10 लाख दान किए। सुरिया और उनके भाई कार्थी ने अपने पिता, अभिनेता शिवकुमार के साथ, 10 लाख रुपये का दान दिया, जबकि अभिनेता शिवकार्तिकेयन ने भी 10 लाख रुपये का दान दिया।कंगना ने इससे पहले दैनिक वेतन भोगी परिवारों के लिए राशन दान करने के अलावा पीएम-केयर्स को 25 लाख रुपये का योगदान दिया था।दान के अलावा, कंगना लॉकडाउन में अपने परिवार के लिए खाना पकाने के साथ अपने भतीजे के साथ खेलते हुए दिखाई दे रही हैं।

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाPM Modi की तरह 72 की उम्र में रहना चाहते हैं चुस्त-दुरुस्त, स्वामी रामदेव से जानिए योगा और प्राणायाम के टिप्स******Highlights भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की फिटनेस को देखकर युवा पीढ़ी भी फिट रहने के लिए प्रेरित होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं 72 साल की उम्र में भी पीएम मोदी इतने एनर्जैटिक कैसे रहते हैं। इस उम्र में भी वो 17 से 19 घंटे रोज़ काम कैसे कर पाते हैं और इतना काम करने के बावजूद पूरी तरह फिट है। बहुत से लोग हैं जो जानना चाहते हैं कि पीएम मोदी की सेहत का राज़ क्या है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की फिटनेस का राज़ उनके दिन की शुरुआत में छुपा है। पीएम नरेंद्र मोदी रोज़ सुबह 5 बजे उठकर आधा घंटा योग-प्राणायाम करते हैं और ये तो साइंस भी मानती है कि रेगलुर योग-प्राणायाम और सुबह उठना हेल्दी लाइफ की गारंटी है।सिर्फ प्राणायाम करने से ही आप 100 में से 99 बीमारियों से बच सकते हैं और कॉम्प्लिकेशंस दूर कर सकते हैं। ये कहना गलत नहीं होगा कि प्राणायाम मानसिक और शारीरिक दोनों ही लेवल पर सेहत को गजब का बूस्ट देने वाली एक्सरसाइज़ हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक भ्रामरी करने से दिमाग में बने क्लॉट्स को भी धीरे-धीरे खत्म किया जा सकता है। भ्रामरी करते वक्त ब्रेन में कंपन होता है। जो डिमेंशिया, अल्‍जाइमर जैसी बीमारियों से रिकवरी में असरदार है।अगर कपालभाति की बात करें तो ये क्रिया गैस-एसिडिटी से निजात दिलाने के साथ पाचन दुरुस्त करती है। हार्ट मज़बूत होता है, लंग्स की कपैसिटी बढ़ती है और किडनी स्टोन की परेशानी से भी छुटकारा मिलता है। कई स्टडीज़ में नाक से सांस लेने की क्रिया अनुलोम विलोम को मेंटल और फिज़िकल हेल्थ के लिए रामबाण उपाय माना है क्योंकि इससे शरीर के कंट्रोल सेंटर यानि ब्रेन का फंक्शन बेहतर होता है। खत्म होते ब्रेन सेल्स रीजेनरेट होने लगते हैं और ये प्राणायाम हार्मोन्स बैलेंस भी करता है।महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाइज़राइल में गोलीबारी करने वाले को पुलिस ने मार गिराया, हमले में दो लोगों की हुई थी मौत******Highlightsमध्य तेल अवीव क्षेत्र में दो लोगों की हत्या करने और 13 लोगों को घायल करने के बाद मौके से फरार हो गए बंदूकधारी को इज़राइली पुलिस ने शुक्रवार को मार गिराया। गोलीबारी की घटना बृहस्पतिवार को डीजेनगोफ स्ट्रीट पर हुई थी, जहां कई ‘बार’ और रेस्तरां हैं। इज़राइल में पिछले तीन सप्ताह के दौरान हुए इस तरह के हमलों में 13 लोगों की मौत हो चुकी है।पुलिस ने बताया कि हमलावर की पहचान वेस्ट बैंक के जेनिन क्षेत्र के 29 वर्षीय राद फाती जायदान के तौर पर हुई है, जिसकी शुक्रवार सुबह जाफा इलाके में गोली मारकर हत्या कर दी गई। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि बृहस्पतिवार को गोलीबारी की घटना में 27 और 28 वर्षीय दो लोगों की मौत हो गई थी। घटना के गवाहों के अनुसार, हमलावर के पास एक पिस्तौल थी।घायलों में से दो पुरुष और एक महिला की हालत गंभीर है। इस बीच, प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने कहा कि हमले में शामिल हरके को ‘‘इसके परिणाम भुगतने होंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ यह बेहद मुश्किल रात थी। घटना में मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’’ गौरतलब है कि इज़राइल में पिछले एक महीने में कई ऐसी घटनाएं हुई हैं।22 मार्च को बेर्शेबा में एक हमले में चार इजराइलियों की हत्या कर दी गई थी, 27 मार्च को हैदरा में गोलीबारी की एक घटना में दो सीमा पुलिस बल के अधिकारी मारे गए थे और 30 मार्च को बनेई ब्रैक में गोलीबारी में दो इज़राइली नागरिक, दो यूक्रेनियन नागरिक और एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई थी।इनपुट-भाषा

महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाफायरिंग कर दहशत फैला रहे दो युवकों को ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, एक युवक की मौत, दूसरा अस्पताल में भर्ती******Highlightsकौशांबी- यूपी के कौशांबी ज़िले एक गांव में ग्रामीणों ने दो दबंग युवकों को दौड़ा-दौड़ाकर लाठी-डंडों से पिटाई कर दी। जिससे एक युवक की मौत हो गई जबकि दूसरा गंभीर रूप से घायल हो गया। घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे 112 पीआरवी के जवानों ने दोनों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया जहां एक की मौत हो गई वहीं दूसरे की हालत गंभीर है।पुलिस के मुताबिक सुबह करीब 11 बजे दो बाइक सवार युवक गांव में घुसे और उन्होंने ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। ग्रामीणों ने इसका विरोध किया तो युवग दबंगई पर उतर आए। जिससे नाराज़ ग्रामीणों ने युवकों की जमकर पिटाई कर दी और बेहोशी की हालत में छोड़कर वहां से फरार हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया। एक को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया जबकि दूसरे का इलाज चल रहा है। मामले में मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।दिन दहाड़े हुई इस दिल दहला देने वाली घटना से इलाके में दहशत फैल गई है। महिलाएं, और बच्चों ने खुद को घर में कैद कर लिया है। इलाके में हर तरफ इसी घटना की चर्चा हो रही है।महाराष्ट्र59वर्षकेइतिहासमेंतीसरीबारराष्ट्रपतिशासनजानिएपहलीबारकबलगाथाDelhi News: दिल्ली मेट्रो में यात्रा के दौरान मास्क नहीं पहन रहे लोग, DMRC हुआ अलर्ट******Highlightsराष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में मेट्रो के स्टेशन परिसरों व ट्रेन में बड़ी संख्या में यात्री मास्क नहीं लगाकर या अनुचित तरीके से मास्क लगा कोविड-19 संबंधी नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं। हालांकि, डीएमआरसी ने कहा है कि उसके द्वारा सुरक्षा मानकों के पालन को सुनिश्चित करने के लिए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।कई मार्गों के लिए ट्रेन बदलने की सुविधा वाले उत्तरी दिल्ली के कश्मीरी गेट स्टेशन से लेकर दक्षिण दिल्ली के जंगपुरा के अपेक्षाकृत छोटे स्टेशन तक यात्रा के दौरान अनेक यात्रियों को बिना मास्क के पाया। इस दौरान कई यात्रियों ने यह दावा भी किया कि कोविड-19 खत्म हो गया है। सुरक्षा कर्मियों को भी तलाशी लेने के बाद कई यात्रियों को बिना मास्क पहने स्टेशन के अंदर जाने की इजाजत देते देखा गया।केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के पास दिल्ली मेट्रो परिसर की सुरक्षा का जिम्मा है और इसके कर्मी प्रवेश और निकास की भी सुरक्षा करते हैं। कश्मीरी गेट मेट्रो स्टेशन पर ड्यूटी पर तैनात सीआईएसएफ के एक जवान ने स्वीकार किया कि कई यात्री बिना मास्क पहने स्टेशन परिसर में आते हैं। जवान ने कहा, "जो लोग कहते हैं कि वे मास्क पहनना भूल गए, उन्हें हम मेट्रो के मुख्य प्रवेश द्वार के बाहर सिर्फ पांच रुपये में बिक रहे मास्क को खरीदने का सुझाव देते हैं। लेकिन शायद ही कोई सुनता है।"उन्होंने कहा, "हमने सुना है कि अन्य स्टेशनों पर कोविड के मानदंड का उल्लंघन करने वाले लोगों के प्रवेश पर आपत्ति जताने पर सुरक्षा कर्मियों के साथ हाथापाई हुई है।" सीआईएसएफ कर्मी ने कहा कि यह कुछ इस तरह है जैसे लोग दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट नहीं पहनते, जबकि यह उनकी सुरक्षा के लिए है।एक मेट्रो स्टेशन पर गुरुवार दोपहर 10 से 12 यात्री तलाशी के लिए कतार में खड़े थे और सिर्फ एक या दो ने ही मास्क लगाया हुआ था। अन्य स्टेशन पर भी ऐसा ही नजारा था। सीआईएसएफ के एक अधिकारी ने कहा, "हम मेट्रो स्टेशन में प्रवेश करने वाले लोगों को मास्क पहनने के लिए कहते हैं। दिल्ली पुलिस की टीम या दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) के उड़न दस्ते उल्लंघन करने वालों को दंडित कर सकते हैं।"जब विभिन्न मेट्रो स्टेशन पर यात्रियों से पूछा कि उन्होंने मास्क क्यों नहीं पहना है, तो कई ने कहा कि उनके पास मास्क नहीं है, जबकि कुछ लोगों ने उल्टे सवाल कर दिया कि कोविड-19 खत्म हो गया है, तो मास्क क्यों पहनें?

सम्बंधित जानकारी
गर्म सामग्री